Saturday, July 20, 2024
Homeविविध विषयअन्य'आपका करियर रिकॉर्ड्स और आँकड़ों से परे': PM मोदी का पत्र पाकर अभिभूत हुईं...

‘आपका करियर रिकॉर्ड्स और आँकड़ों से परे’: PM मोदी का पत्र पाकर अभिभूत हुईं मिताली राज, कहा – आप लाखों लोगों के रोल मॉडल, मेरे भी

उन्होंने क्रिकेट में व्यस्त रहने के बावजूद समाजसेवा में सक्रिय रहने के लिए मिताली राज की तारीफ़ करते हुए कोविड-19 महामारी के दौरान उनके द्वारा की गई सेवाओं को याद किया।

महिला क्रिकेट की पूर्व भारतीय कप्तान मिताली राज के संन्यास के ऐलान के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पत्र लिख कर उनकी उपलब्धियों पर गर्व जताया है और आगे के लिए उन्हें शुभकामनाएँ दी हैं। पीएम मोदी ने लिखा कि कुछ सप्ताह पहले आपने संन्यास का ऐलान किया, जिससे आपके कई फैंस हताश हो गए। उन्होंने लिखा कि सबसे पहले वो करोड़ों भारतीयों की तरह उन्हें एक अभूतपूर्व सफल करियर के लिए बधाई देना चाहते हैं।

उन्होंने लिखा कि मिताली राज ने अपने करियर के दौरान लगातार भारत को गर्व महसूस कराया। पीएम मोदी ने लिखा कि आपने न सिर्फ 2 दशक तक भारतीय क्रिकेट की सेवा की, बल्कि आप ज़रूरी प्रतिभा, दृढ़ता और परिवर्तन के हिसाब से स्वयं को ढालने की क्षमता की भी धनी हैं, जिससे वर्षों तक आप कमाल करती रहीं। पीएम मोदी ने लिखा कि इस जोश ने न सिर्फ आपकी मदद की, बल्कि कई नए खिलाड़ियों का भी उत्साहवर्धन किया।

पीएम मोदी ने मिताली राज को लिखा, “आपके करियर को देखना का एक दृष्टिकोण आँकड़े हो सकते हैं। अपने लंबे खेल करियर के दौरान आपने कई पुराने रिकॉर्ड्स तोड़े और कई नए रिकॉर्ड्स बनाए। ये उपलब्धियाँ, जिनमें अंतरराष्ट्रीय महिला क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाना भी शामिल हैं, आपके बारे में बताती हैं। लेकिन, आपकी सफलता आँकड़ों और रिकॉर्ड्स से परे है। आप एक ट्रेंड-सेटर हैं, एक खिलाड़ी जिसने कई बाधाएँ पार की और दूसरों के लिए प्रेरणा का एक असाधारण स्रोत है।”

पीएम मोदी ने आगे लिखा कि सैकड़ों महिला एवं पुरुष क्रिकेटरों ने आपको एक प्रेरणा और रोल मॉडल के रूप में पाया है। साथ ही दुनिया भर में कई इलाकों और देशों के लाखों लोग आपके स्टाइलिश और सटीक स्ट्रोक्स का आनंद लिया है। उन्होंने लिखा कि आपने दुनिया भर में कई पीढ़ियों के क्रिकेट फैंस को जी यादें दी हैं, वो हमेशा सहेज कर रखी जाएँगी। पीएम मोदी ने मिताली राज की असाधारण नेतृत्व क्षमता की भी प्रशंसा करते हुए कहा कि आपने अपनी कप्तानी के दौरान अनगिनत क्रिकेटरों का दिशानिर्देशन किया और उन्हें आगे बढ़ाया।

प्रधानमंत्री ने लिखा कि वो 2017 विश्व कप के फाइनल मैच को नहीं भूल सकते, जब हमारी टीम जीत के एकदम करीब पहुँच गई थी। उन्होंने याद किया कि कैसे उस वक्त भी मिताली राज की शांतचित्त और स्थिर आचरण की सभी ने प्रशंसा की। उन्होंने क्रिकेट में व्यस्त रहने के बावजूद समाजसेवा में सक्रिय रहने के लिए मिताली राज की तारीफ़ करते हुए कोविड-19 महामारी के दौरान उनके द्वारा की गई सेवाओं को याद किया।

पीएम मोदी ने मिताली राज की ‘दूसरी पारी’ के लिए उन्हें शुभकामनाएँ दी, जैसा कि उन्होंने सोशल मीडिया पर संन्यास के ऐलान के समय कहा था। उन्होंने कहा कि ये आपकी आश्चर्यजनक मनोदृष्टि ही थी, जिसकी बदौलत आप इस खेल में इतने लंबे समय तक शीर्ष पर रहीं। उन्होंने कहा ये दिखाता है कि आप समाज को कुछ देने के लिए और अपनी उपलब्धियों को नए स्तर पर ले जाने के लिए काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में आप भले खेल नहीं रही होंगी, लेकिन भारतीय खेल में योगदान ज़रूर देंगी।

वहीं मिताली राज ने इस पत्र को साझा करते हुए लिखा कि ये विलक्षण सम्मान और गर्व का विषय है कि आप देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इतनी गर्मजोशी से प्रोत्साहन प्राप्त करते हैं। उन्होंने पीएम मोदी को लाखों लोगों के लिए और खुद के लिए भी एक रोल मॉडल करार दिया। उन्होंने कहा कि उनके क्रिकेट में योगदान पर सोच-समझ कर लिखी गई इस स्वीकृति से वो अभिभूत हैं। साथ ही कहा कि वो इसे हमेशा सहेज कर रखेंगी पीएम मोदी की उम्मीदों के साथ-साथ खेल में योगदान के लिए उनसे जो अपेक्षाएँ हैं, उन पर खरी उतरेंगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -