Wednesday, December 1, 2021
Homeविविध विषयअन्य'कभी बुर्का या ताबीज बेचो ऐसे': सब्यसाची ने 'सेक्स' के साथ किया मंगलसूत्र का...

‘कभी बुर्का या ताबीज बेचो ऐसे’: सब्यसाची ने ‘सेक्स’ के साथ किया मंगलसूत्र का प्रचार, यूजर्स ने लगाई क्लास

इन ज्वेलरी के विज्ञापनों में जो मॉडल दिखाई पड़ रही हैं उन्होंने इंटीमेट/सेक्स सीन्स के साथ फोटोशूट करवाया हुआ है। तस्वीरों में मॉडल्स ने ब्रा के साथ मंगलसूत्र पहना है।

बड़ी-बडी हस्तियों के सबसे पसंदीदा फैशन डिजाइनर सब्यसाची मुखर्जी इस समय सोशल मीडिया पर ट्रोल हो रहे हैं। कारण है मंगलसूत्र को सेक्स से कनेक्ट करके बेचने की कोशिश करना। उन्होंने हाल में अपना एक नया ज्वेलरी कलेक्शन लॉन्च किया और उसके बाद उसके विज्ञापन की कुछ फोटोज इंस्टाग्राम पर शेयर की।

फोटोज शेयर कर उन्होंने लिखा- पेश है एक रॉयल बंगाल मंगलसूत्र 1.2- बंगाल टाइगर आइकन VVS हीरे, काले गोमेद और काले तामचीनी के साथ 18 कैरेट सोने में हार, झुमके और सिग्नेट रिंग्स का कलेक्शन।

अब लोगों ने उनका यह पोस्ट देखने के बाद इस ज्वेलरी कलेक्शन पर सवाल नहीं उठाया है बल्कि उन्होंने उसके साथ जो तस्वीरें शेयर की हैं उस पर अपनी नाराजगी जाहिर की है।

दरअसल इन ज्वेलरी के विज्ञापनों में जो मॉडल दिखाई पड़ रही हैं उन्होंने इंटीमेट/सेक्स सीन्स के साथ फोटोशूट करवाया हुआ है। तस्वीरों में मॉडल्स ने ब्रा के साथ मंगलसूत्र पहना है। फोटो ऐसी हैं कि यदि उनके ऊपर सब्यसाची फाइन ज्वेलरी न लिखी तो शायद ही किसी को पता चले कि दिए गए विज्ञापन मंगलसूत्र या ज्वेलरी के हैं।

अब इन्हीं विज्ञापनों को देखने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स भड़क गए हैं। यूजर्स ने इसे भावना को ठेस पहुँचाने वाला करार दिया है। लोगों का पूछना है कि आखिर प्रचार हो किस बात का रहा है? कोई क्यों इन आभूषणों को पहनेगा, जब मालूम है कि इसे जिसने पहना वो सिर्फ गिरा हुआ लग रहा है। डिजाइनर को सलाह दी जा रही है कि वो लोग अपने अभियानों का ख्याल करें।

कानन शाह पूछते हैं, “सच में सब्यसाची?? तुम्हारे साथ हुआ क्या है। कौन इस तरह मंगलसूत्र बेचता है। अगर दम है तो बुर्का और ताबीज इस तरह बेचो। हिंदुओं को दुख पहुँचाना बंद करो।”

शीतल चोपड़ा पारंपरिक परिधान में तस्वीर साझा करते हुए कहती हैं, “मंगलसूत्र ऐसा दिखता है सब्यसाची। ये कोई फैशन ज्वेलरी नहीं है। यह पति और पत्नी के एक दूसरे के प्रति प्रेम और प्रतिबद्धता को दर्शाता है।”

एक यूजर इस ब्रांड का बहिष्कार करने की बात करता है। वह कहता है, “ये दिखाना बंद करो कि औरत सेक्स से पहले और सेक्स के बाद कैसी लगती है। मंगलसूत्र और कामसूत्र दोनों अलग हैं। मंगलसूत्र धार्मिक चीज है और इसे सिर्फ शादी के बाद ही पहना जाता है जबकि कामसूत्र सेक्स और वासना के बारे में है।”

पत्रकार मीना दास नारायण ने अपने वेरिफाइड अकऑउंट से कहा, “सब्यसाची, बड़ी अजीब बात है कि आपको मंगलसूत्र ऐसे दिखाना पड़ा जो कि एक अश्लील और पोर्न पिक जैसी लग रही है? तुम हमेशा दूध जैसी करीना को अपने डिजाइनरवियर के लिए इस्तेमाल करते हो, तो इस बार इन्हें क्यों? कोई संदेश कि मंगलसूत्र पवित्र होता है और तुम इसका मखौल उड़ाना चाहते थे लेकिन ये नहीं चाहते थे कि ये काम करीना कपूर और आलिया भट्ट करें।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe