Monday, May 27, 2024
Homeविविध विषयअन्य1.8 अरब लोगों के लिए तैयार है ‘सलाम वेब’ ब्राउज़र, 'शरिया' के हिसाब से...

1.8 अरब लोगों के लिए तैयार है ‘सलाम वेब’ ब्राउज़र, ‘शरिया’ के हिसाब से होगा इसका संचालन

सलाम वेब टेकनोलॉजी की मैनेजिंग डॉयरेक्टर हसनी ज़रीना मोहम्मद ख़ान के अनुसार इस ब्राउज़र को मुख्य रूप से मलेशिया और इंडोनेशिया में उपयोगकर्ताओं के लिए बनाया गया है।

अभी तक आपने इंटरनेट को इस्तेमाल करने के लिए बहुत ब्राउज़र्स के अलग-अलग नाम सुने होंगे। ऐसे में मलेशिया का ‘सलाम वेब’ नाम का टेक स्टार्टअप एक अलग ही मोबाइल ब्राउज़र लेकर आया है।

इस मोबाइल ब्राउज़र ‘सलाम वेब’ की ख़ासियत है कि यह शरिया क़ानून के अनुरूप आपको इंटरनेट इस्तेमाल करने का अनुभव प्रदान करेगा। इस्लाम में जिन कार्यों की नामंज़ूरी है उन सभी कार्यों के बारे में सर्च करने पर ये ब्राउज़र आपको अलर्ट भेजेगा। जैसे – पोर्नोग्राफ़ी, शराब और जुआ खेलना आदि।

सलाम वेब टेकनॉलजी की मैनेजिंग डॉयरेक्टर हसनी ज़रीना मोहम्मद ख़ान के अनुसार इस ब्राउज़र को मुख्य रूप से मलेशिया और इंडोनेशिया में उपयोगकर्ताओं के लिए बनाया गया है। ये ब्राउज़र मैसेज सेवा और समाचार का आदान-प्रदान करने वाली सेवाओं से भी सुसज्जित है।

मैनेजिंग डॉयरेक्टर का कहना है कि उनकी कंपनी का लक्ष्य है कि वो वैश्र्विक स्तर पर इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाली लगभग 1.8 बिलियन मुस्लमान आबादी को अपने साथ लें सकें।

वो इस ब्राउज़र पर बात करते हुए आगे बताती हैं कि इटरनेट पर अच्छी और बुरी दोनों ही चीज़ें उपलब्ध रहेंगी। इसलिए ‘सलाम वेब’ के ज़रिए वो उपभोक्ता के समक्ष सिर्फ़ अच्छी चीजों को लेकर आएँगी।

इस ब्राउज़र पर इस्लाम से जुड़ी अन्य जानकारियाँ भी उपलब्ध होंगी जिसमें आज़ान और दुआ के समय के बार में भी जानकारी दी जाएगी। इसमें ‘क़िबला’ को भी इंगित किया जाएगा जो कि जो मक्का में काबा की दिशा है जिसकी तरफ बैठकर लोगों को दुआ पढ़नी चाहिए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली में सबसे ज्यादा गुम/चोरी होते हैं मोबाइल फोन, खोया हुआ मोबाइल पाना भी देश में सबसे मुश्किल दिल्ली में ही: जानिए क्या कहता...

दिल्ली में 1% से भी कम मोबाइल फोन वापस उनके यूजर्स को मिलते हैं। दिल्ली में खोए हुए 5.45 लाख फोन में से मात्र 4,893 फोन ही बरामद हुए।

हिटलर का लिंग नापा और कोरोना वायरस को ‘सेक्स पॉवर’ से जोड़ा, अब नूपुर शर्मा पर ‘दल्लनटॉप’ का झूठ: ब्रा और योनि वाली पत्रकारिता...

लल्लनटॉप का एक वीडियो, जिसे घर पर बंद बैठे युवाओं का ध्यान खींचने के लिए लाया गया था, वो था – “सेक्स पावर बढ़ाने जैसी चाहत से आया कोरोना वायरस”।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -