कॉन्ग्रेस नेता शत्रुघ्न सिन्हा की बेटी सोनाक्षी के ख़िलाफ़ धोखाधड़ी का मामला दर्ज, पुलिस पहुँची उनके घर

वादी ने इस मामले में न्याय की माँग की। लेकिन इस मामले को पुलिस द्वारा गंभीरता से न लेने पर वादी प्रमोद शर्मा ने ज़हर खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की थी। इसके बाद...

उत्तर प्रदेश पुलिस ने अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा के ख़िलाफ़ आईपीसी (भारतीय दंड संहिता) की धारा-420 के तहत 24 लाख रुपए की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है। इस केस के सिलसिले में पुलिस उनसे पूछताछ के लिए गुरुवार को मुंबई में उनके जुहू स्थित रामायण बंगले पहुँची थी, लेकिन वो वहाँ नहीं मिलीं।

पुलिस के अनुसार, शिवपुरी गाँंव निवासी प्रमोद शर्मा ने 24 नवंबर 2918 को मुरादाबाद के एसएसपी से सोनाक्षी सिन्हा के ख़िलाफ़ शिक़ायत की थी। प्रमोद ने अपनी शिक़ायत मे बताया था कि उन्होंने दिल्ली में 30 सितंबर 2018 को इंडिया फैशन एंड ब्यूटी अवॉर्ड कार्यक्रम का आयोजन किया था। इस कार्यक्रम मे सोनाक्षी को अवॉर्ड बाँटने के लिए बुलाया गया था।

इस कार्यक्रम के लिए प्रमोद ने टैलेंट फुल ऑन कंपनी से करार किया था। उन्होंने दावा किया कि सोनाक्षी के निजी सचिव मालविका पंजाबी से बातचीत के बाद उन्होंने उनके अकाउंट में फीस के रूप में रकम का भुगतान कर दिया था। लेकिन सोनाक्षी ने अचानक उस कार्यक्रम में आने से इनकार कर दिया। इसके बाद प्रमोद ने सोनाक्षी के ख़िलाफ़ शिक़ायत कर दी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ख़बर के अनुसार, वादी ने एक पत्र लिखकर न्याय की माँग की थी, लेकिन इस मामले को गंभीरता से न लेते हुए क्षेत्राधिकारी टाल-मटोल करते रहे। इससे आहत होकर प्रमोद शर्मा ने 13 फरवरी को ज़हर खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की। इस क़दम के बाद राज्य की पुलिस ने आईपीसी की घारा-420, 120 बी, 406, 34 के तहत FIR दर्ज कर ली थी।

FIR में सोनाक्षी सिन्हा, अभिषेक सिन्हा, मालविका पंजाबी, धूमिल कक्कड़, एडगर सकारिया के नाम शामिल हैं, जिन्हें इस मामले में आरोपी ठहराया गया है। जानकारी के अनुसार, इस FIR को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई थी, जिसके बाद सोनाक्षी सिन्हा की गिरफ़्तारी पर रोक लग गई थी।

आपको बता दें कि सोनाक्षी मशहूर फिल्म अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा की बेटी हैं। शत्रुघ्न सिन्हा पहले बीजेपी के नेता थे फिर पाला बदल कर कॉन्ग्रेस में शामिल हो गए। सोनाक्षी का माँ और शत्रुघ्न सिन्हा की बीवी सपा नेता हैं। 2019 लोकसभा चुनाव में सपा और कॉन्ग्रेस अलग-अलग चुनाव लड़े थे लेकिन फिर भी कॉन्ग्रेसी शत्रुघ्न सिन्हा ने पार्टी लाइन से अलग जाकर अपनी पत्नी (यानी सपा नेता) के लिए चुनाव प्रचार किया था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी, राम मंदिर
हाल ही में ख़बर आई थी कि पाकिस्तान ने हिज़्बुल, लश्कर और जमात को अलग-अलग टास्क सौंपे हैं। एक टास्क कुछ ख़ास नेताओं को निशाना बनाना भी था? ऐसे में इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि कमलेश तिवारी के हत्यारे किसी आतंकी समूह से प्रेरित हों।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

100,990फैंसलाइक करें
18,955फॉलोवर्सफॉलो करें
106,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: