Wednesday, May 22, 2024
Homeविविध विषयअन्यदक्षिण अफ्रीका में मिला मल्टीपल म्यूटेशन वाला कोविड वैरिएंट, यूरोप में बिगड़े हालात: भारत...

दक्षिण अफ्रीका में मिला मल्टीपल म्यूटेशन वाला कोविड वैरिएंट, यूरोप में बिगड़े हालात: भारत सख्त निगरानी के साथ तैयारियों में जुटा

सरकार की इस पूरी सतर्कता के पीछे वजह भी वाजिब है। दूसरी लहर में कोरोना वायरस ने भारत में जमकर कहर मचाया था और कोरोना डेल्टा वैरिएंट को इसका सबसे बड़ा जिम्मेदार माना गया।

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट से एक बार फिर पूरी दुनिया चिंता में आ गई है। जब कई देशों में कोविड के मामले अब कम होने शुरू हो गए थे, तब फिर एक नए वैरिएंट ने हर किसी को डरा दिया है। ये नया वैरिएंट साउथ अफ्रीका में पाया गया है। कहा जा रहा है कि ये काफी तेजी से फैलता है और इसका म्यूटेशन 30 से अधिक बार हो चुका है। इस वैरिएंट को B.1.1.529 नाम दिया गया है।

क्या होता है वेरिएंट?

किसी भी वायरस का एक जेनेटिक कोड होता है। कोरोना वायरस अपना रूप बदलने वाला वायरस है। यह जब एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में जाता है तो कई बार अपने रूप में परिवर्तन करता है। इस परिवर्तन के दौरान वायरस या तो पहले से अधिक खतरनाक हो जाता है या फिर पहले से कमजोर पड़ जाता है। इसे आसान भाषा में ऐसे समझ सकते हैं कि वायरस जब शरीर के अंदर अपनी फोटो कॉपी बनाता है तो कई बार एक फोटोकॉपी पहली वाली से थोड़ी अलग हो जाती है। इसे इसका नया वेरिएंट कहा जाता है। वेरिएंट्स को दो कैटेगरी में बाँटा गया है, पहला है वेरिएंट ऑफ इंट्रेस्ट और दूसरा है वेरिएंट ऑफ कंसर्न। साउथ अफ्रीका वाले कोरोना वेरिएंट को ज्‍यादा संक्रामक और घातक माना जा रहा है।

इस वैरिएंट को लेकर पूरी दुनिया सतर्क है। भारत सरकार ने भी सभी राज्यों को मुस्तैद रहने के लिए कहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड के नए वैरिएंट से प्रभावित मुल्कों से आ रहे लोगों की स्क्रीनिंग के निर्देश जारी किए। भारत आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की कोरोना जाँच कराई जाएगी। हाल ही में वीजा पाबंदी में ढील और इंटरनैशल ट्रैवल में छूट दी गई थी, ऐसे में इसको लेकर खास सतर्कता बरती जा रही है। रैपिड टेस्टिंग पर भी पूरा जोर दिया जा रहा है।

लगातार म्यूटेट हो रहे इस वैरिएंट ने WHO के साथ वैज्ञानिकों की भी टेंशन बढ़ा दी है। 30 से अधिक बार म्यूटेशन यानी रूप बदलना सबसे खतरे की बात है। दूसरी लहर में डेल्टा और डेल्टा प्लस वैरिएंट इसी तरह म्यूटेट होकर जानलेवा साबित हुआ था। सबसे चिंता की बात यह है कि मौजूदा वैक्सीन इस वैरिएंट के खिलाफ कारगर है या नहीं, इसकी स्टडी की जा रही है। इसमें वक्त लग सकता है। ऐसे में यह आशंका जताई जा रही है कि तब तक यह वैरिएंट कहर ना बरपाना शुरू कर दे।

क्या है केंद्र सरकार की तैयारी?

सरकार के निर्देश के अनुसार जो भी लोग इन देशों से भारत आएँगे, उन्हें एक सख्त स्क्रीनिंग से गुजरना पड़ेगा। ये सब इसलिए होगा क्योंकि अफ्रीका के उन देशों को ‘एट रिस्क’ वाली कैटेगरी में रखे जाने की तैयारी है। सरकार की इस पूरी सतर्कता के पीछे वजह भी वाजिब है। दूसरी लहर में कोरोना वायरस ने भारत में जमकर कहर मचाया था और कोरोना डेल्टा वैरिएंट को इसका सबसे बड़ा जिम्मेदार माना गया। यूरोप और बाकी देशों में कहर बरपा रहे डेल्टा वैरिएंट के डर से कई भारतीय अपने मुल्क लौट आए थे। एयरपोर्ट पर कहीं ना कहीं टेस्टिंग में चूक हुई थी और फिर धीरे-धीरे इस वैरिएंट ने गदर काटा था। ऐसे में इस बार केंद्र सरकार विशेष सतर्कता बरत रही है।

WHO ने बुलाई बड़ी बैठक

इस बीच WHO की Technical Advisory Group ने अहम बैठक बुलाई है। WHO का कहना है कि इस वैरिएंट पर अभी और रिसर्च करने की जरूरत है। सबसे जरूरी है कि अधिक से अधिक लोगों को कोरोना वैक्सीन लगवाएँ, ताकि इससे मुकाबला किया जा सके।

इसके अलावा ये भी बताया गया है कि कोरोना के इस वैरिएंट को भी एक ग्रीक नाम दिया जाएगा। जैसे डेल्टा, एल्फा नाम रखे गए हैं, साउथ अफ्रीका वैरिएंट को भी एक नाम दिया जाएगा। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस वैरिएंट में मल्टी म्यूटेशंस की ताकत है, इसलिए यह चिंता की बात है। अब इसकी भी जाँच हो रही है कि कोविड वैक्सीन इस वैरिएंट के खिलाफ कितना कारगर है।

यह है चिंता की सबसे बड़ी बात

इस नए वैरिएंट को लेकर ज्यादा चिंता इसलिए भी है क्योंकि अभी तक ये नहीं पता है कि ये कितनी तेजी से फैल सकता है। जो जानकारी सामने आई है वो सिर्फ इस वैरिएंट के म्यूटेशन को लेकर है। KRISP की डायरेक्टर De Oliveira बताती हैं कि इस नए वैरिएंट के कई असाधारण म्यूटेशन देखने को मिले हैं। उनके मुताबिक अब तक 30 से ज्यादा म्यूटेशन दिख चुके हैं। दूसरे वैरिएंट की तुलना मे ये ज्यादा चिंता बढ़ाने वाला दिख रहा है।

डायरेक्टर ने इस बात पर भी जोर दिया है कि अभी भी वैक्सीन ही कोरोना के खिलाफ सबसे बड़ा हथियार है। ये नहीं पता है कि वैक्सीन नए वैरिएंट पर कितनी असरदार है, लेकिन अभी दुनिया के सामने ज्यादा विकल्प नहीं हैं। इस वैरिएंट के खिलाफ दूसरे मुल्कों ने भी कदम उठाने शुरू कर दिए हैं।

कोरोना के नए वेरिएंट से शेयर बाजार धड़ाम

इससे शेयर बाजार में भारी गिरावट देखने को मिली है। इससे निवेशकों को नुकसान हुआ। सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन बिकवाली से सेंसेक्स 1687.94 अंकों (2.87 फीसदी) की भारी गिरावट के साथ 57,107.15 पर बंद हुआ। निफ्टी की बात करें, तो यह 509.80 अंक यानी 2.91 फीसदी लुढ़का और 17,026.45 के स्तर पर बंद हुआ। इससे निवेशकों को 7.5 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ। शुरुआती कारोबार में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का सेंसेक्स 722.43 अंक (1.23 फीसदी) नीचे 58,072.66 पर खुला था। वहीं एनएसई का निफ्टी 223.90 अंकों या 1.28 फीसदी की गिरावट के साथ 17,312.40 पर खुला था।

ब्रिटेन और इजरायल ने उठाए ये कदम

ब्रिटेन और इजरायल ने साउथ अफ्रीका, बोत्सवाना और चार अन्य अफ्रीकी देशों से फ्लाइट पर पाबंदी लगा दी है। ऑस्ट्रेलिया ने भी इन देशों से आ रहे यात्रियों को लेकर नियम कड़े कर दिए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -