Tuesday, March 2, 2021
Home विविध विषय अन्य PM मोदी की प्रस्तावक डॉ अन्नपूर्णा शुक्ला: वो महिला जिसने ब्रिटेन की एक इंडस्ट्री...

PM मोदी की प्रस्तावक डॉ अन्नपूर्णा शुक्ला: वो महिला जिसने ब्रिटेन की एक इंडस्ट्री को झुका दिया था

डॉ शुक्ला ने 1969-72 में रिसर्च करके इस बात का पता लगाया था कि माँ का दूध नवजात के लिए बेहद जरूरी है। नवजात शिशु को 6 महीने तक माँ का दूध ही देना चाहिए। इससे बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार (अप्रैल 26, 2019) को जब वाराणसी से नामांकन दाखिल किया, तो इस दौरान उनके चार प्रस्तावकों को लेकर खूब चर्चा रही। पीएम मोदी ने 2019 के नामांकन में चार अलग-अलग क्षेत्र के प्रस्तावकों को शामिल किया। ये प्रस्तावक थे- डोमराज परिवार के जगदीश चौधरी, सामाजिक कार्यकर्ता सुभाष गुप्ता, बीएचयू महिला महाविद्यालय की पूर्व प्राचार्या डॉक्टर अन्नपूर्णा शुक्ला और कृषि वैज्ञानिक राम शंकर पटेल।

इन चारों प्रस्तावकों में से सबसे अधिक चर्चा में रहीं डॉक्टर अन्नपूर्णा शुक्ला। इसके पीछे वजह यह रही कि जब पीएम नामांकन के लिए कलेक्ट्रेट परिसर पहुँचे, तो वहाँ उन्होंने डॉक्टर शुक्ला के पैर छूकर आशीर्वाद लिया। ऐसे में लोग इस बात से चकित हो गए कि आखिर ये महिला कौन है और पीएम ने नामांकन से पहले इनके पैर क्यों छुए?

पंडित मदन मोहन मालवीय ने दिया था आशीर्वाद

ख़बर के अनुसार, डॉ अन्नपूर्णा शुक्ला को मदन मोहन मालवीय की मानस पुत्री माना जाता है। वो मदन मोहन मालवीय का आशीर्वाद पाने वाली एकमात्र जीवित पूर्व प्राचार्या हैं। यही वजह है कि उन्हें मालवीय की दत्तक पुत्री भी कहा जाता है। 91 वर्षीय अन्नपूर्णा शुक्ला पीएम की प्रस्तावक बनकर बेहद खुश दिखीं। उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में कहा, “जब मोदीजी आए और मेरे पैर छुए तो मैंने एक माँ की तरह उन्हें आशीर्वाद दिया। मैंने उनसे यह भी कहा कि आप ऊँचे शिखर पर जाओगे।”

पीएम मोदी की प्रस्तावकों में शामिल होने पर चर्चा में आई डॉक्टर अन्नपूर्णा शुक्ला के नवजात शिशुओं के स्वास्थ्य में उनके योगदान के बारे में काफी कम लोग ही जानते हैं। कुछ ही लोगों को पता होगा कि डॉ शुक्ला ने 1969-72 में रिसर्च करके इस बात का पता लगाया था कि माँ का दूध नवजात के लिए बेहद जरूरी है। नवजात शिशु को 6 महीने तक माँ का दूध ही देना चाहिए। इससे बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है। डॉ शुक्ला के इस शोध के बाद ब्रिटेन की एक बेबी फूड कंपनी ने इस खास मैसेज को पैकेजिंग के साथ प्रकाशित करना शुरू किया। बहरहाल, अब इस संदेश को दुनियाभर की कंपनियों द्वारा प्रकाशित किया जाता है और इस बात के लिए दुनिया भर की माँओं को उनका शुक्रिया अदा करना चाहिए।

डॉ शुक्ला ने बच्चों के शरीर के कुल वजन, कैलोरी की मात्रा, दूध पिलाने के तरीके और मोटापे जैसे मापदंडों के बारे में अध्ययन किया। डॉ. शुक्ला की रिसर्च पूरी तरह से वैदिक परंपरा पर आधारित थी। जिस तरह बच्चों के 6 महीने का होने पर उसका अन्नप्राशन कराया जाता है और उसके बाद ही उसे दूध और चावल की खीर यानी ठोस आहार दिया जाता है। इस रिसर्च के दौरान डॉ. शुक्ला ने पाया कि जिन बच्चों को स्तनपान नहीं करवाया जाता था और ठोस आहार दिया जा रहा था, वे शिशु स्थूल थे और उनका वजन भी अधिक था।

जब डॉक्टर अन्नपूर्णा शुक्ला की यह रिसर्च प्रकाशित हुई, तो सरकार ने तुरंत बच्चों के लिए खाद्य सामग्री बनाने वाली कंपनियों के लिए निर्देश जारी किए कि वह इस चेतावनी को उत्पादों की पैकेजिंग में जरूर दर्शाएँ कि माँ के दूध का कोई विकल्प नहीं है। डॉ शुक्ला कहती हैं कि हालाँकि इससे उस समय कई कंपनियों को परेशानी हुई, मगर आज हम इस जानकारी के जरिए बच्चों को बचा पा रहे हैं।

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के संस्थापक पंडित मदन मोहन मालवीय ने डॉ शुक्ला को काफी प्रभावित किया। वो बताती हैं कि जब वो सिर्फ पाँच साल की थी, तभी मदन मोहन मालवीय जी ने उनसे पूछा था कि वो क्या बनना चाहती है, तो उन्होंने कहा था कि वो डॉक्टर बनना चाहती है। महामनाजी (मदन मोहन मालवीय) ने उनसे कहा था, “एक दिन जब मैं डॉक्टर बनूँ तो वापस लौटकर बीएचयू आऊँ और वो मुझे जॉब देंगे।”

वो कहती हैं कि उन दिनों परिवार, महिलाओं को पढ़ाने के पक्षधर नहीं होते थे। डॉ शुक्ला की माँ डिप्टी कलेक्टर की बेटी थीं, लेकिन फिर भी वो अपने सिर पर कुएँ से पानी भर कर लाती थीं। हालाँकि आज बीएचयू जाने-माने मेडिकल कॉलेजों में गिना जाता है, लेकिन उन दिनों चिकित्सा संबंधी कोर्स यहाँ उपलब्ध नहीं थे। तब डॉ शुक्ला ने 1945 में पटना के प्रिंस ऑफ वेल्स मेडिकल कॉलेज (अब पटना मेडिकल कॉलेज ऐंड हॉस्पिटल) से एमबीबीएस की पढ़ाई की।

विनम्र स्वभाव के साथ-साथ ममता की मूरत हैं डॉक्टर अन्नपूर्णा शुक्ला

एमबीबीएस पूरा करने के बाद उनकी शादी हो गई और वह महिला महाविद्यालय में बतौर मेडिकल ऑफिसर काम करने लगीं। उन दिनों वह वाराणसी की चार महिला डॉक्टरों में से एक थीं। पंडित मदन मोहन मालवीय के बेटे गोविंद मालवीय के आग्रह पर वह उन दिनों गृह विज्ञान का लेक्चर भी बीएचयू में देती थीं। उस समय यूनिवर्सिटी में मेडिकल कॉलेज नहीं था। डॉ अन्नपूर्णा शुक्ला एक पढ़े-लिखे परिवार से ताल्लुक रखती हैं। उनके पिता बीएचयू के प्रवक्ता के रूप में कार्यरत थे और मदन मोहन मालवीय के करीबी थे। उनके पति बीएम शुक्ला गोरखपुर विश्वविद्यालय के वीसी पद से रिटायर हुए हैं। वहीं, चर्चित लेखक अमीश उनके भतीजे हैं। अमीश बताते हैं कि बुआजी (डॉ शुक्ला) अद्भुत महिला हैं। वो पारंपरिक, विनम्र और सशक्त महिला होने के साथ-साथ ममता की मूरत भी हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेजन प्राइम ने तांडव पर माँगी माफी, कहा- भावनाओं को ठेस पहुँचाना ध्येय नहीं, हटाए विवादित दृश्य

हिंदूफोबिक कंटेट को लेकर विवादों में आई वेब सीरिज 'तांडव' को लेकर ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेजन प्राइम वीडियो ने माफी माँगी है।

ट्विटर पर जलाकर मारे गए कारसेवकों की बात करना मना है: गोधरा नरसंहार से जुड़े पोस्ट डिलीट करने को कर रहा मजबूर

गोधरा नरसंहार के हिंदू पीड़ितों की बात करने वाले पोस्ट डिलीट करने के लिए ट्विटर यूजर्स को मजबूर कर रहा है।

हिंदू अराध्य स्थल पर क्रिश्चियन क्रॉस, माँ सीता के पद​ चिह्नों को नुकसान: ईसाई प्रचारकों की करतूत से बीजेपी बिफरी

मंदिरों को निशाना बनाए जाने के बाद अब आंध्र प्रदेश में हिंदू पवित्र स्थल के पास अतिक्रमण कर विशालकाय क्रॉस लगाए जाने का मामला सामने आया है।

भगवान श्रीकृष्ण को व्यभिचारी और पागल F#ckboi कहने वाली सृष्टि को न्यूजलॉन्ड्री ने दिया प्लेटफॉर्म

भगवान श्रीकृष्ण पर अपमानजनक टिप्पणी के बाद HT से निकाली गई सृष्टि जसवाल न्यूजलॉन्ड्री के साथ जुड़ गई है।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।

काम पर लग गए ‘कॉन्ग्रेसी’ पत्रकार: पश्चिम बंगाल में ‘मौत’ वाले मौलाना से गठबंधन और कलह से दूर कर रहे असम की बातें

बंगाल में कॉन्ग्रेस ने कट्टरवादी मौलाना के साथ गठबंधन किया, रोहिणी सिंह जैसे पत्रकारों ने ध्यान भटका कर असम की बातें करनी शुरू कर दी।

प्रचलित ख़बरें

‘प्राइवेट पार्ट में हाथ घुसाया, कहा पेड़ रोप रही हूँ… 6 घंटे तक बंधक बना कर रेप’: LGBTQ एक्टिविस्ट महिला पर आरोप

LGBTQ+ एक्टिविस्ट और TEDx स्पीकर दिव्या दुरेजा पर पर होटल में यौन शोषण के आरोप लगे हैं। एक योग शिक्षिका Elodie ने उनके ऊपर ये आरोप लगाए।

गोधरा में जलाए गए हिंदू स्वरा भास्कर को याद नहीं, अंसारी की तस्वीर पोस्ट कर लिखा- कभी नहीं भूलना

स्वरा भास्कर ने अंसारी की तस्वीर शेयर करते हुए इस बात को छिपा लिया कि यह आक्रोश गोधरा में कार सेवकों को जिंदा जलाए जाने से भड़का था।

‘हिंदू होना और जय श्रीराम कहना अपराध नहीं’: ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष रश्मि सामंत का इस्तीफा

हिंदू पहचान को लेकर निशाना बनाए जाने के कारण रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

नमाज पढ़ाने वालों को ₹15000, अजान देने वालों को ₹10000 प्रतिमाह सैलरी: बिहार की 1057 मस्जिदों को तोहफा

बिहार स्टेट सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड में पंजीकृत मस्जिदों के पेशइमामों (नमाज पढ़ाने वाला मौलवी) और मोअज्जिनों (अजान देने वालों) के लिए मानदेय का ऐलान।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।

सपा नेता छेड़खानी भी करता है, हत्या भी… और अखिलेश घेर रहे योगी सरकार को! आरोपित के खिलाफ लगेगा NSA

मृतक ने गौरव शर्मा नाम के आरोपित (जो सपा नेता भी है) के खिलाफ अपनी बेटी के साथ छेड़छाड़ की शिकायत पुलिस थाने में दर्ज कराई थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,208FansLike
81,879FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe