Sunday, June 16, 2024
Homeविविध विषयअन्यTokyo Olympics: पुरुष नौकायन टीम सेमीफाइनल में, बैडमिंटन में पीवी सिंधु, टेबल टेनिस में...

Tokyo Olympics: पुरुष नौकायन टीम सेमीफाइनल में, बैडमिंटन में पीवी सिंधु, टेबल टेनिस में मनिका बत्रा और सुतीर्थ मुखर्जी की जीत

भारत के अर्जुन लाल जाट और अरविंद सिंह की टीम ने पुरुषों की नौकायन लाइटवेट डबलस्कल्स स्पर्धा के रेपचेज दौर में तीसरे स्थान पर रहते हुए सेमीफाइनल में अपनी जगह बना ली है।

टोक्यो ओलंपिक के तीसरे दिन (25 जुलाई 2021) भारतीय बैडमिंटन प्लेयर पीवी सिंधु ने शानदार जीत के साथ अपने ओलंपिक सफर की शुरुआत की। इसके साथ ही भारत के अर्जुन लाल जाट और अरविंद सिंह ने नौकायन प्रतिस्पर्धा के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। टेबल टेनिस प्लेयर मनिका बत्रा ने भी जीत के साथ दूसरे राउंड में अपनी जगह बनाई।

सिंधु ने 29 मिनट में जीता अपना मैच

भारतीय बैडमिंटन प्लेयर पीवी सिंधु ने अपने पहले मैच में इजरायल की सेनिया पोलिकारपोवा को 21-7, 21-10 से हराते हुए दूसरे राउंड में जगह बना ली। सिंधु ने इस मुकाबले को मात्र 29 मिनट में जीत लिया। मैच की शुरुआत से ही आगे रही सिंधु ने पहला सेट 13 मिनट में 21-7 से अपने नाम किया। दूसरे सेट में भी सिंधु ने 11-4 की बढ़त ली लेकिन इजरायल की पोलिकारपोवा इस बढ़त को तोड़ नहीं पाईं और 16 मिनट में ही सिंधु के हाथों 21-10 से हार गईं। सिंधु ने इस जीत के साथ दूसरे राउंड में अपनी जगह पक्की कर ली है, जहाँ उनका मुकाबला 27 जुलाई 2021 को हॉन्गकॉन्ग की च्युंग एनगान यी से होगा।

नौकायन में पुरुष टीम ने बनाई सेमीफाइनल में जगह

भारत के अर्जुन लाल जाट और अरविंद सिंह की टीम ने पुरुषों की नौकायन लाइटवेट डबलस्कल्स स्पर्धा के रेपचेज दौर में तीसरे स्थान पर रहते हुए सेमीफाइनल में अपनी जगह बना ली है। शुरुआत में 1,000 मीटर तक चौथे स्थान पर रहने वाली भारतीय जोड़ी ने स्पर्धा को तीसरे स्थान पर रहते हुए खत्म किया। इस दौरान उन्होंने 6:51.36 का समय निकाला और सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाई। इस प्रतिस्पर्धा में दो खिलाड़ी एक नाव में होते हैं, जिन्हें 2-2 चप्पू दिए जाते हैं।

टेबल टेनिस में भी भारत को जीत

मिक्स्ड इवेंट में हारने के बाद भारत की स्टार खिलाड़ी मनिका बत्रा ने महिला टेबल टेनिस मुकाबले के एकल इवेंट में ब्रिटेन की तिन तिन हो को 4-0 से हरा दिया और अगले दौर में प्रवेश किया। दूसरे दौर में उनका मुकाबला यूक्रेन की मार्गरेटा पेसोत्सका से होगा। मनिका ने शानदार खेल का प्रदर्शन करते हुए तिन-तिन हो 11-7, 11-10, 11-10, 11-9 से हराया। इस तरह मनिका ने किसी भी राउंड में प्रतिद्वंदी को हावी होने का कोई मौका नहीं दिया और अपनी जीत सुनिश्चित की। हालाँकि मिक्स्ड इवेंट में मनिका को हार का सामना करना पड़ा था।

महिला टेबल टेनिस के एकल इवेंट के एक अन्य मुकाबले में भारतीय खिलाड़ी सुतीर्थ मुखर्जी ने स्वीडन की लिंडा बर्गस्ट्रॉम को बेहद कड़े मुकाबले में 4-3 से हरा दिया। सुतीर्थ ने पहले दो राउंड में पिछड़ने के बाद वापसी की और 5-11, 11-9, 11-13, 9-11, 11-3, 11-9, 11-5 का स्कोर करते हुए जीत हासिल की और दूसरे दौर में प्रवेश किया। यहाँ उनका मुकाबला पुर्तगाल की फु यु से होगा।

हालाँकि टेनिस में भारतीय जोड़ी को हार का सामना करना पड़ा। भारतीय खिलाड़ी सानिया मिर्जा और अंकित रैना की जोड़ी को यूक्रेन की लिडमयला और नादिया किचनोक ने हरा दिया। सानिया-अंकित अपना पहला सेट 6-0 से जीतने में कामयाब रहीं थीं लेकिन भारतीय जोड़ी को दूसरे सेट में 6-7 और तीसरे सेट में 8-10 से हार का सामना करना पड़ा। 10 मीटर एयर रायफल में भी भारतीय निशानेबाजों का प्रदर्शन कमजोर रहा और क्वालिफिकेशन राउंड में भारतीय निशानेबाज दीपक कुमार और दिव्यांश सिंह पंवार क्रमशः 28 वें और 33 वें स्थान पर रहे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भाजपा विधायक T राजा सिंह हैदराबाद में गिरफ्तार: हमले के शिकार गोरक्षकों से जा रहे थे मिलने, आरोप- मूकदर्शक बनी रही थी तेलंगाना पुलिस

तेलंगाना के मेडक में गौ रक्षा कर रहे भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले में 2 लोग घायल। मिलने जा रहे भाजपा विधायक टी राजा सिंह गिरफ्तार।

बाबरी अब मस्जिद नहीं ‘ढाँचा’, राम मंदिर ‘राष्ट्रीय गर्व’, अयोध्या ‘पवित्र स्थल’: NCERT ने 12वीं की किताब में किया बदलाव, सुप्रीम कोर्ट के फैसले...

अयोध्या को भारत के सबसे पवित्र स्थलों में से एक बताया गया है। राम जन्मभूमि को 'राष्ट्रीय गर्व' लिखा गया है। सन् 1528 में इसे तोड़ कर यहाँ ढाँचा बना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -