Saturday, January 22, 2022
Homeविविध विषयअन्य₹700 करोड़ का निवेश, 2 हजार+ लोगों को रोजगार: आदित्य बिड़ला ग्रुप खोलेगा गोरखपुर...

₹700 करोड़ का निवेश, 2 हजार+ लोगों को रोजगार: आदित्य बिड़ला ग्रुप खोलेगा गोरखपुर में पेंट बनाने की औद्योगिक इकाइयाँ

आदित्य बिड़ला समूह के गोरखपुर में निवेश से 2 हजार लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है। प्रशासन ने फैसला लिया है कि कंपनी से भूमि का विकास शुल्क भी नहीं लिया जाएगा। कंपनी अपने स्तर पर उसको विकसित करेगी।

योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था और कामकाज के मोर्चे पर जो सकारात्मक बदलाव आए हैं उसके कारण राज्य निवेश और कारोबारियों को लगातार आकर्षित करने में सफल रहा है। इसी कड़ी में आदित्य बिड़ला समूह (Aditya Birla Group) ने गोरखपुर में 700 करोड़ रुपए के निवेश का फैसला किया है।

सोमवार (जुलाई 19, 2021) को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक अखबार की खबर को ट्विटर पर शेयर करते हुए इसकी जानकारी दी। इसके मुताबिक आदित्य बिड़ला ग्रुप को गोरखपुर में पेंट बनाने की औद्योगिक इकाइयाँ लगाने के लिए प्रशासन से हरी झंडी मिल गई है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि समूह ने राज्य में निवेश करने की इच्छा 8 माह पहले ही दिखाई थी। हालाँकि, उस समय यह साफ नहीं था कि निवेश कितने का किया जाएगा, लेकिन पेंट की औद्योगिक इकाई लगाने का निर्णय लिया जा चुका था। कंपनी को प्लांट लगाने के लिए गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (गीडा) की ओर से भीटी रावत में करीब 70 एकड़ जमीन का प्रस्ताव दिया गया है। कंपनी के प्रतिनिधियों ने फरवरी में प्रस्तावित जमीन का निरीक्षण किया था। इस प्लांट के लगने से 2 हजार लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है।

प्रशासन ने फैसला लिया है कि कंपनी से भूमि का विकास शुल्क नहीं लिया जाएगा। कंपनी अपने स्तर पर उसको विकसित करेगी। कंपनी को पेंट की इकाई लगाने के लिए पानी और बिजली की ज्यादा जरूरत होगी, इसे भी गीडा में आसानी से पूरा किया जा सकेगा।

इस संबंध में जिलाधिकारी के विजयेंद्र पाण्डियन का कहना है,

“गीडा क्षेत्र में आदित्य बिड़ला समूह की ओर से करीब 700 करोड़ रुपए का बड़ा निवेश किया जाएगा। इसके लिए गीडा की ओर से जमीन उपलब्ध कराई जाएगी। कंपनी के प्रतिनिधियों से बात हुई है। उन्हें हर प्रकार की सहायता उपलब्ध कराई जाएगी। इस निवेश से प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से कई लोगों को रोजगार मिल सकेगा।”

बता दें कि उत्तर प्रदेश के विकास के लिए योगी सरकार लगातार प्रयासरत है। उनकी कोशिश है कि राज्य को बिजनेस के अनुकूल बनाकर अधिक से अधिक निवेश लाया जाए। इसके लिए अधिकारियों को निर्देश भी जारी किए जा चुके हैं और सबका ध्यान सिर्फ प्रदेश के विकास पर है।

अभी हाल में उत्तर प्रदेश डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर प्रोजेक्ट के तहत तय किए गए 6 नोड्स में से सबसे पहले अलीगढ़ जिले ने जमीन आवंटित करने की प्रक्रिया पूरी की थी। अलीगढ़ में डिफेंस कॉरिडोर प्रोजेक्ट की नोडल एजेंसी उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवे इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट अथॉरिटी (यूपीडा) ने रक्षा क्षेत्र से जुड़ी 19 कंपनियों को लगभग 55.4 हेक्टेयर से अधिक जमीन आवंटित की थी। ये कंपनियाँ 1245 करोड़ रुपए से अधिक का निवेश करेंगी।

उल्लेखनीय है कि सरकार की इन्वेस्टमेंट फ्रेंडली योजनाओं ने अब उत्तर प्रदेश को बिजनेस के अनुकूल बना दिया है। ‘बिजनेस करने में सहजता’ के लिहाज से राज्य दूसरे नंबर पर है। इसके अलावा योगी सरकार पिछले 4 साल में 4 लाख युवाओं को रोजगार भी प्रदान कर चुकी है। साथ ही साथ प्रदेश गन्ना उत्पादन, शौचालय निर्माण (2.61 करोड़), कोरोना वायरस टेस्टिंग और वैक्सीनेशन, राजमार्गों के निर्माण, नए मेडिकल कॉलेज में नई उपलब्धियाँ हासिल कर रहा है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केस ढोते-ढोते पिता भी चल बसे, माँ रहती हैं बीमार : दिल्ली दंगों में पहली सज़ा दिनेश यादव को, गरीब परिवार ने कहा –...

दिल्ली हिन्दू विरोधी दंगों में दिनेश यादव की गिरफ्तारी के बाद उनके पिता की मौत हो गई थी। पुलिस पर लगा रिश्वत न देने पर फँसाने का आरोप।

‘ईसाई बनने को कहा, मना करने पर टॉयलेट साफ़ करने को मजबूर किया’: तमिलनाडु में 17 साल की लड़की की आत्महत्या, माता-पिता ने बताई...

परिजनों ने आरोप लगाया कि हॉस्टल वॉर्डन द्वारा लावण्या प्रताड़ित किया गया था और मारा-पीटा गया था, क्योंकि उसने ईसाई मजहब में धर्मांतरण से इनकार किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
152,757FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe