Tuesday, March 9, 2021
Home विविध विषय अन्य अपने ही प्रोफेसर को टोकने वाले, प्रिंसिपल के सामने रिकॉर्ड तोड़ने वाले वशिष्ठ नारायण......

अपने ही प्रोफेसर को टोकने वाले, प्रिंसिपल के सामने रिकॉर्ड तोड़ने वाले वशिष्ठ नारायण… अब नहीं रहे?

आइंस्टीन की थ्योरी को चुनौती देने वाले प्रसिद्ध गणितज्ञ डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह का आज देहांत हो गया। जब वह अमेरिका से लौटे थे, तो करीब 10 बक्से किताबें लाए थे। जिन्हें वे बीमार होने के बाद भी पढ़ते रहे।

आइंस्टीन की थ्योरी को चुनौती देने वाले प्रसिद्ध गणितज्ञ डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह का आज देहांत हो गया। बिहार से निकलकर कैलिफॉर्निया में अपनी पीएचडी पूरी कर नासा में सेवा प्रदान करने वाले गणितज्ञ अब हमारे बीच नहीं है। हालाँकि ये सच है कि उनकी उपलब्धियाँ न केवल बिहार बल्कि पूरे भारत को हमेशा गौरवान्वित करेंगी। लेकिन यह भी एक कड़वा सच है कि इतने काबिल शख्सियत होने के बाद भी उन्होंने लंबे समय तक बीमारी के कारण गुमनामी की जिंदगी जी, फिर भी उनका इलाज संभव नहीं हुआ। डॉ वशिष्ठ नारायण की कामयाबियाँ किसी भी व्यक्ति के लिए आदर्शों का प्रतीक हो सकती है, लेकिन उनकी जिंदगी सिर्फ़ विचार का विषय…

बिहार के भोजपुर जिले के बसंतपुर में 2 अप्रैल 1942 को पैदा हुए डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह न केवल अपने हुनर से एक महान गणितज्ञ बने, बल्कि वो पूरे विश्व में भी विख्यात हुए। लेकिन नियति को कुछ और ही मंजूर था। करीब 45 साल पहले उन्हें मानसिक बीमारी सिजोफ्रेनिया ने घेर लिया और धीरे-धीरे उनकी स्थिति ये हो गई कि वो एक अपार्टमेंट के भीतर गुमनामी का जीवन बिताने लगे।

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार पटना में रहने वाले उनके भाई अयोध्या सिंह ने डॉ वशिष्ठ नारायण के बारे में जानकारी साझा करते हुए बताया था कि जब वह अमेरिका से लौटे थे, तो करीब 10 बक्से किताबें लाए थे। जिन्हें वे बीमार होने के बाद भी पढ़ते रहे। इसके अलावा उनके भाई ने ये भी बताया था कि लंबे समय से बीमार होने के बावजूद भी उनका आखिर तक किताब, कॉपी और पेंसिल से मोह नहीं छूटा। स्थिति ये थी उनके लिए किसी छोटे बच्चे की तरह हर 3-4 दिन में एक बार कॉपी पेंसिल खरीदनी पड़ती थी।

मशहूर गणितज्ञ भले ही आज हमारे बीच से चले गए। लेकिन शायद ही कोई ऐसा शख्स हो जो इस बात को भूल पाए कि उन्होंने महान वैज्ञानिक आइंस्टीन के सापेक्ष सिद्धांत को खुली चुनौती दे दी थी। इतना ही नहीं, उन्हें लेकर ये किस्सा भी बहुत मशहूर है कि नासा में एक बार अपोलो की लॉन्चिंग से ठीक पहले 31 कंप्यूटर कुछ देर के लिए बंद हो गए थे, ऐसे में उनके द्वारा किया गया सारा कैल्कुलेशन और कंप्यूटर्स के ठीक होने के बाद किया गया कैल्कुलेशन बिलकुल एक था।

वो कहावत है न कि पूत के पाँव पालने में ही दिख जाते हैं। डॉ वशिष्ठ नारायण का जीवन बिलकुल ऐसा ही था। बताया जाता है कि जब वे पटना साइंस कॉलेज में पढ़ते थे, तब अपने गणित के अध्यापक को अक्सर टोक देते थे। इसका मालूम जब कॉलेज के प्रिंसिपल को चला तो उनकी अलग से परीक्षा से ली गई। नतीजा जब आया तो वशिष्ठ नारायण सारे अकादमिक रिकॉर्ड तोड़ चुके थे।

नाकामयाब होने के पीछे अक्सर लोगों को कहते सुनते हैं कि घर की हालत के कारण वो आगे नहीं बढ़ पाए, लेकिन डॉ वशिष्ठ नारायण ऐसे उदाहरण थे, जिनसे हर किसी को सीख लेनी चाहिए। पाँच भाई-बहनों के उनके परिवार में हमेशा आर्थिक तंगी रहती थी, लेकिन फिर भी वो स्थितियों से जूझे और अपनी प्रतिभा पर कभी आँच नहीं आने दिया।

साल 1965 में पटना कॉलेज ऑफ साइंस में पढ़ने के दौरान जब कैलिफोर्निया के प्रोफेसर जॉन कैली की नजर उन पर पड़ी, तो वह उनकी प्रतिभा देखकर अचंभित रह गए। वे नारायण वशिष्ठ से इतने प्रभावित हुए कि अपने साथ कैलिफोर्निया लेकर चले गए। वहाँ 1969 तक उन्होंने अपनी पीएचडी की और कुछ दिन बाद वॉशिंगटन विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर बन गए। उन्होंने इस बीच नासा में भी काम किया, लेकिन मन उनका भारत में लगा रहा।

1971 में वे भारत लौट आए और पहले आईआईटी कानपुर, फिर आईआईटी बंबई और फिर आईएसआई कोलकाता में अपनी सेवाएँ प्रदान कीं। साल 1973 में उन्होंने वंदना रानी सिंह नाम की महिला से शादी की। जिसके बाद ही उनके आसामान्य व्यवहार के बारे में लोगों को पता चलना शुरू हुआ।

उनके घरवाले बताते हैं कि वे छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा हो जाते थे, पूरा घर सिर पर उठा लेते थे, कमरा बंद करके सिर्फ़ पढ़ते रहते थे, रात भर जगते थे। इसके अलावा वह कुछ दवाइयाँ भी खाते थे, लेकिन जब उनसे सवाल किया जाता था कि ये किस चीज की है तो वह उस बात को टाल देते थे।

धीरे-धीरे उनकी पत्नी वंदना उनसे परेशान हो गईं और उन्हें तलाक दे दिया। डॉ वशिष्ठ नारायण के जीवन में यह बहुत बड़ा झटका था। क्योंकि इसी दौरान वह आईएसआई कोलकाता में अपने सहयोगियों के बर्ताव से भी परेशान थे।

वशिष्ठ नारायण सिंह के भाई अय़ोध्या सिंह ने इस बात को बताया कि उनके साथी प्रोफेसर्स ने उनके शोध को अपने नाम से छपवा लिया था, जिसे सोच-सोच कर उन्हें बहुत दिक्कत होती थी। उनकी स्थिति दिन पर दिन बिगड़ती जा रही थी। 1974 में उन्हें पहला दौरा पड़ा। जिसके बाद उनका इलाज शुरू हुआ। जब बहुत दिन तक उपचार से उनमें सुधार नहीं दिखा तो 1976 में उन्हें राँची में भर्ती करवा दिया गया।

परिवार गरीबी से लाचार था और सरकार की तरफ से मदद बहुत कम मिल रही थी। नतीजतन 1987 में वह अपने गाँव लौट आए और 1989 में अचानक गायब हो गए। करीब चार साल बाद 1993 में बेहद दयनीय हालत में डोरीगंज, सारण में पाए गए। धीरे-धीरे उनका परिवार उनके इलाज को लेकर नाउम्मीद हो गया और वह गुमनामी में जीवन बिताने लगे।

अभी कुछ समय पहले खबर आई थी कि वह पीएमसीएच के आईसीयू वार्ड में भी भर्ती थे, जहाँ से ठीक होने के बाद उन्हें 10 अक्टूबर को ही छुट्टी मिली थी। लेकिन करीब एक महीने बाद ही आज उनके देहांत की दुखद खबर आ गई।

आज 14 नवंबर बाल दिवस के अवसर पर एक महान गणितज्ञ, भारत के गौरव, कइयों के आदर्श अपनी देह त्याग कर जा चुके हैं। अब उनके पीछे रह गई है तो सिर्फ उनकी किताबें, उनके बक्से, उनकी कलम। जो रह-रह कर उनके घरवालों को डरा रहे होंगे कि क्या अब ये सब रद्दी हो जाएगा? असल मायने में डर तो खैर उस विज्ञान-जगत को लगना चाहिए, जिसने वशिष्ठ बाबू की मौत से काफी पहले काफी कुछ खो दिया था – उनके इलाज के लिए सामूहिक प्रयास न करके, उनको उनके हाल पर छोड़ देने के लिए!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सोनिया जी रोई या नहीं? आवास में तो मातम पसरा होगा’: बाटला हाउस केस में फैसले के बाद ट्रोल हुए सलमान खुर्शीद

"सोनिया गाँधी, दिग्वियजय सिंह, सलमान खुर्शीद, अरविंद केजरीवाल और अन्य लोगों जिन्होंने बाटला हाउस एनकाउंटर को फेक बताया था, इस फैसले के बाद पुलिसवालों के परिवार व पूरे देश से माफी माँगेंगे।"

मिथुन दा के बाद क्या बीजेपी में शामिल होंगे सौरभ गांगुली? इंटरव्यू में खुद किया बड़ा खुलासा: देखें वीडियो

लंबे वक्त से अटकलें लगाई जा रही हैं कि बंगाल टाइगर के नाम से प्रख्यात क्रिकेटर सौरव गांगुली बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। गांगुली ने जो कहा, उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि दादा का विचार राजनीति में आने का है।

सलमान खुर्शीद ने दिखाई जुनैद की तस्वीर, फूट-फूट कर रोईं सोनिया गाँधी; पालतू मीडिया गिरते-पड़ते पहुँची!

पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद के एक तस्वीर लेकर 10 जनपथ पहुँचने की वजह से सारा बखेड़ा खड़ा हुआ है।

‘भारत की समृद्ध परंपरा के प्रसार में सेक्युलरिज्म सबसे बड़ा खतरा’: CM योगी की बात से लिबरल गिरोह को सूँघा साँप

सीएम ने कहा कि भगवान श्रीराम की परम्परा के माध्यम से भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को वैश्विक मंच पर स्थापित किया जाना चाहिए।

‘बलात्कार पीड़िता से शादी करोगे’: बोले CJI- टिप्पणी की हुई गलत रिपोर्टिंग, महिलाओं का कोर्ट करता है सर्वाधिक सम्मान

बलात्कार पीड़िता से शादी को लेकर आरोपित से पूछे गए सवाल की गलत तरीके से रिपोर्टिंग किए जाने की बात चीफ जस्टिस एसए बोबडे ने कही है।

असमी गमछा, नागा शाल, गोंड पेपर पेंटिंग, खादी: PM मोदी ने विमेंस डे पर महिला निर्मित कई प्रॉडक्ट को किया प्रमोट

"आपने मुझे बहुत बार गमछा डाले हुए देखा है। यह बेहद आरामदायक है। आज, मैंने काकातीपापुंग विकास खंड के विभिन्न स्वयं सहायता समूहों द्वारा बनाया गया एक गमछा खरीदा है।"

प्रचलित ख़बरें

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘हराम की बोटी’ को काट कर फेंक दो, खतने के बाद लड़कियाँ शादी तक पवित्र रहेंगी: FGM का भयावह सच

खतने के जरिए महिलाएँ पवित्र होती हैं। इससे समुदाय में उनका मान बढ़ता है और ज्यादा कामेच्छा नहीं जगती। - यही वो सोच है, जिसके कारण छोटी बच्चियों के जननांगों के साथ इतनी क्रूर प्रक्रिया अपनाई जाती है।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

‘ठकबाजी गीता’: हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने FIR रद्द की, नहीं माना धार्मिक भावनाओं का अपमान

चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने कहा, "धारा 295 ए धर्म और धार्मिक विश्वासों के अपमान या अपमान की कोशिश के किसी और प्रत्येक कृत्य को दंडित नहीं करता है।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,347FansLike
81,968FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe