Saturday, July 24, 2021
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीभारत में 63 लाख, विश्व में 200 करोड़ को हो सकता है कोरोना, अगर...

भारत में 63 लाख, विश्व में 200 करोड़ को हो सकता है कोरोना, अगर सावधानी नहीं बरती गई

चार्ट में अगर आप वैश्विक स्थिति देखेंगे तो चीन के अलावा बाकी देशों के 2 अरब लोग संक्रमित हो सकते हैं। इसीलिए, बार-बार हाथ धोना, लोगों से मिलना-जुलना बंद करना, अनावश्यक कामों से घर से बाहर निकलना बंद करना आदि कुछ ऐसी सावधानियाँ हैं जिससे इस महामारी के फैलने की गति को रोका जा सकता है।

चीन के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस आज लगभग पूरी दुनिया को अपनी चपेट में लेने को आतुर नजर आ रहा है। जिससे निपटने के लिए पूरी दुनिया आज लॉकडाउन के मुहाने है। भारत में भी कई प्रदेशों ने खुद के सम्पूर्ण लॉक डाउन की जहाँ घोषणा कर दी है, वहीं देश भर के उन 75 जिलों को भी लॉकडाउन कर दिया गया है जहाँ कोरोना से संक्रमित रोगी पाए गए हैं और जहाँ इसके संक्रमण के फैलने की आशंका बेहद ज्यादा हो चुकी है।

ऐसे में यह जानना बेहद जरूरी हो जाता है कि कोरोना संक्रमण किस कदर फैलता है। मैथमैटिकल मॉडल के जरिये इसके संक्रमण के पैटर्न को समझ, हम इसकी रोकथाम के लिए जरूरी लॉकडाउन, सोशल डिस्टेंसिंग और हाथ धोने जैसे तौर तरीकों की अहमियत को भी समझ सकते हैं। इन्हीं सब पर ऑपइंडिया के अजीत भारती ने आईआईएम अहमदाबाद से पढ़े नीतेश से बात की जिहोंने आँकड़ों की मदद से इस महामारी के फैलने पर विस्तार से बताया।

भारत की स्थिति समझने के लिए, सबसे पहले चीन के आँकड़ों को समझने की जरुरत है। 22 जनवरी को चीन में कोरोना संक्रमण के सिर्फ 548 केस थे, जो अगले तीन दिन यानी 25 जनवरी तक 1000 पर पहुँच गए, ये संख्या 1 फरवरी तक 1000 से 10000 और अगले 12 दिनों में 50000 क्रॉस कर गई।

इटली की बात करते हुए नीतेश ने कहा कि वहाँ कोरोना के पहले 100 मामले 23 फरवरी को हुए, जो 29 फरवरी तक 1000 और 7 मार्च तक 5000 तक ही पहुँचे थे पर उसके बाद कोरोना संक्रामक मरीजों की संख्या में वहाँ एक्सपोनेंशियल वृद्धि दिखी और मामले 10 मार्च तक 10000, फिर 21 मार्च तक 50000 पार कर गए।

चीन और इटली के बाद भारत में फैलते इस संक्रमण के आंकड़ों और इस घातक वायरस की एक्सपोनेंशियल वृद्धि को समझाते हुए नीतेश ने कहा कि भारत में 14 मार्च को जहाँ पहली बार कोरोना पेशेंट की संख्या 100 छुई थी वह अगले 6 दिन में दोगुनी होकर 200 और उसके अगले 2 दिन में 200 से 400 तक पहुँच गई।

नीतेश ने अपने मॉडल के आधार पर बताया कि यदि इसी तरह ये संख्या बढ़ती रही तो भारत में कुल कोरोना संक्रामक मरीजों की तादाद 63 लाख तक पहुँच सकती है जबकि यदि लॉकडाउन (समुदायों, शहरों, जिलों, राज्यों, देशों के बीच आवाजाही पर प्रतिबन्ध), सोशल डिस्टेंसिंग (यानी, लोगों के बीच दूरी बना कर रहना), आदि निर्देशों का पालन किया गया तो भारत में कोरोना की यह संभावित संख्या 1000 गुना कम होकर महज 6000 के आसपास रह सकती है। चार्ट में अगर आप वैश्विक स्थिति देखेंगे तो चीन के अलावा बाकी देशों के 2 अरब लोग संक्रमित हो सकते हैं। इसीलिए, बार-बार हाथ धोना, लोगों से मिलना-जुलना बंद करना, अनावश्यक कामों से घर से बाहर निकलना बंद करना आदि कुछ ऐसी सावधानियाँ हैं जिससे इस महामारी के फैलने की गति को रोका जा सकता है।

कोरोना के संक्रमण को रोकने और इसके वैज्ञानिक मॉडल पर विस्तार से समझने के लिए वीडियो देखें:

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योगी सरकार के एक्शन के डर से 3 कुख्यात गैंगस्टर मोमीन, इन्तजार और मंगता हाथ उठाकर पहुँचे थाने, किया आत्मसमर्पण

मामला यूपी के शामली जिले का है। सभी गैंगस्टर्स ने कहा कि वो अपराध से तौबा कर भविष्य में अपराध न करने की कसम खाते हैं।

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,018FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe