Monday, April 12, 2021
Home विविध विषय विज्ञान और प्रौद्योगिकी दक्षिण एशिया, बांग्लादेश के लोगों में कोरोना का अधिक खतरा: निएंडरथल के साथ यौन...

दक्षिण एशिया, बांग्लादेश के लोगों में कोरोना का अधिक खतरा: निएंडरथल के साथ यौन संबंध रखने वाले प्राचीन मनुष्यों का मिला डीएनए

अब तक हुए अनुसंधान में यह बात सामने आई है कि इस वायरस का महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अधिक खतरा है और युवा लोगों की तुलना में बूढ़े लोगों को अत्यधिक खतरा होता है। जोखिम की स्थिति पर उनके प्रभाव के बारे में जानने के लिए अब सामाजिक परिस्थितियों और यहाँ तक ​​कि रक्त के प्रकारों का अध्ययन किया जा रहा है।

न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक एक नए अध्ययन में पता चला है कि 60,000 साल पहले निएंडरथल मानवों के जीनोम में गंभीर कोरोना वायरस पाया गया है। शोधकर्ताओं के अनुसार, 60,000 साल पहले हुआ इंटरब्रैडिंग प्रभाव आज भी असरकारी है। उन्होंने पता लगाया कि जीनोम का एक विशेष खंड, जोकि क्रोमोसोम 3 पर छह जीनों तक फैलने वाला है, कोरोना वायरस के चलते गंभीर बीमारी की वजह हो सकता है।

यह अध्ययन अस्पताल में भर्ती 3,199 कोरोना रोगियों और कण्ट्रोल रोगियों के आँकड़ों के आधार पर किया गया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि पूरे मानव इतिहास में विशेष रूप से यह जीनोम खंड बड़े पैमाने पर विरासत में मिला है। इसके अलावा अध्ययन से यह भी पता चला है कि 63 प्रतिशत बांग्लादेशियों में इसकी कम से कम एक कॉपी पाई जाती है।

49.4 किलोबेसेस (kilobases) आकार का यह जीनोम सेगमेंट हालाँकि दुनिया के अन्य हिस्सों में उतना नहीं पाया जाता है जितना एशिया, खासकर बांग्लादेश में पाया जाता है। यह केवल आठ प्रतिशत यूरोपीय और चार प्रतिशत पूर्वी एशियाई लोगों में पाया जाता है। दिलचस्प बात यह है कि यह विशेष जीन अफ्रीकियों में मौजूद नहीं है।

शोधकर्ता यह समझने की कोशिश कर रहे हैं कि कोरोना वायरस कुछ लोगों के लिए दूसरों की तुलना में अधिक खतरनाक क्यों है? नए आँकड़ों से पता चलता है कि इस बीमारी और क्रोमोसोम 3 खंड के बीच एक मजबूत संबंध है। जिन लोगों में इन जीनों की दो प्रतियाँ पाई जाती हैं, वे उन लोगों की तुलना में गंभीर बीमारी से तीन गुना अधिक पीड़ित होते हैं, जिनमें यह नहीं पाया जाता है।

क्रोमोसोम 3 निएंडरथल से आधुनिक मनुष्यों के तक गया

स्वीडन में कारोलिंस्का इंस्टीट्यूट के एक आनुवंशिकीविद् ह्यूगो ज़ेबर्ग, जो प्रकाशित होने जा रहे अध्ययन में सह-लेखक हैं, के मुताबिक करीब 60,000 साल पहले यूरोप, एशिया और ऑस्ट्रेलिया में आधुनिक मानवों के कुछ पूर्वज बसे थे। इन लोगों ने निएंडरथल का सामना किया और उनके साथ संबंध बनाए। निएंडरथल डीएनए के रूप में हमारे जीन पूल में प्रवेश किया और यह पीढ़ियों तक फैलता गया, जबकि निएंडरथल विलुप्त हो गए।

हालाँकि, निएंडरथल जीन आधुनिक मनुष्यों के लिए हानिकारक साबित हुए और लोगों के स्वास्थ्य पर बोझ बन गए, साथ ही इससे बच्चे पैदा करना भी कठिन हो गया। परिणामस्वरूप विकास के चलते निएंडरथल जीन विलुप्त होने लगे और हमारे जीन पूल से भी गायब होने लगे, लेकिन कुछ जीन एक विकासवादी बढ़त बनाते हुए काफी सामान्य हो गए हैं। वैज्ञानिक अनुमान लगाते हैं कि इसने कुछ विशेष क्षेत्रों में वायरस के खिलाफ एक बेहतर प्रतिरक्षा प्रदान की है।

मई में जर्मनी के लीपज़िग में मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट के डॉ ज़ेबर्ग और उनके सह-लेखक डॉ पाबो और डॉ जेनेट केलो को पता चला कि कम से कम एक-तिहाई यूरोपीय महिलाओं में निएंडरथल हार्मोन रिसेप्टर है। यह बढ़ी हुई प्रजनन क्षमता और कम गर्भपात से जुड़ा हुआ है।

जब डॉ ज़ेबर्ग ने निएंडरथल जीनोम के एक ऑनलाइन डेटाबेस में क्रोमोसोम 3 को देखा, तो उन्होंने पाया कि जो संस्करण लोगों में गंभीर कोरोना वायरस के जोखिम को बढ़ाता है। वही संस्करण उन निएंडरथल में पाया जाता है, जो 50,000 साल पहले क्रोएशिया में रहते थे।

अब तक हुए अनुसंधान में यह बात सामने आई है कि इस वायरस का महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अधिक खतरा है और युवा लोगों की तुलना में बूढ़े लोगों को अत्यधिक खतरा होता है। जोखिम की स्थिति पर उनके प्रभाव के बारे में जानने के लिए अब सामाजिक परिस्थितियों और यहाँ तक ​​कि रक्त के प्रकारों का अध्ययन किया जा रहा है।

वैज्ञानिकों ने कहा है कि यह भी संभव है कि निएंडरथल का जीनोम खंड, जिसने हजारों साल पहले वायरस से प्रतिरक्षा प्रदान की थी, अब नए कोरोना वायरस के खिलाफ ‘ओवररिएक्शन’ शुरू कर रहा है।

यह बात भी सामने आई है कि कोरोना वायरस के जिन गंभीर मामलों में फेफड़ों के नुकसान के साथ बढ़ी हुई सूजन भी मिलती है, यह कुछ व्यक्तियों में उत्तेजित प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया के कारण होते हैं। रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि यूनाइटेड किंगडम में कोरोना वायरस के कारण बांग्लादेशी वंश के लोगों में अधिक मृत्यु दर दर्ज की जा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वास्तिक को बैन करने के लिए अमेरिका के मैरीलैंड में बिल पेश: हिन्दू संगठन की आपत्ति, विरोध में चलाया जा रहा कैम्पेन

अमेरिका के मैरीलैंड में हाउस बिल के माध्यम से स्वास्तिक की गलत व्याख्या की गई। उसे बैन करने के विरोध में हिंदू संगठन कैम्पेन चला रहे।

आनंद को मार डाला क्योंकि वह BJP के लिए काम करता था: कैमरे के सामने आकर प्रत्यक्षदर्शी ने बताया पश्चिम बंगाल का सच

पश्चिम बंगाल में आनंद बर्मन की हत्या पर प्रत्यक्षदर्शी ने दावा किया है कि भाजपा कार्यकर्ता होने के कारण हुई आनंद की हत्या।

बंगाल में ‘मुस्लिम तुष्टिकरण’ है ही नहीं… आरफा खानम शेरवानी ‘आँकड़े’ दे छिपा रहीं लॉबी के हार की झुँझलाहट?

प्रशांत किशोर जैसे राजनैतिक ‘जानकार’ के द्वारा मुस्लिमों के तुष्टिकरण की बात को स्वीकारने के बाद भी आरफा खानम शेरवानी ने...

सबरीमाला मंदिर खुला: विशु के लिए विशेष पूजा, राज्यपाल आरिफ मोहम्मद ने किया दर्शन

केरल स्थित भगवान अयप्पा के सबरीमाला मंदिर में विशेष पूजा का आयोजन किया गया। विशु त्योहार से पहले शनिवार को मंदिर को खोला गया।

रमजान हो या कुछ और… 5 से अधिक लोग नहीं हो सकेंगे जमा: कोरोना और लॉकडाउन पर CM योगी

कोरोना संक्रमण के बीच सीएम योगी ने प्रदेश के धार्मिक स्थलों पर 5 से अधिक लोगों के इकट्ठे होने पर लगाई रोक। रोक के अलावा...

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

प्रचलित ख़बरें

‘ASI वाले ज्ञानवापी में घुस नहीं पाएँगे, आप मारे जाओगे’: काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को धमकी

ज्ञानवापी केस में काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी देने वाले का नाम यासीन बताया जा रहा।

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

SHO बेटे का शव देख माँ ने तोड़ा दम, बंगाल में पीट-पीटकर कर दी गई थी हत्या: आलम सहित 3 गिरफ्तार, 7 पुलिसकर्मी भी...

बिहार पुलिस के अधिकारी अश्विनी कुमार का शव देख उनकी माँ ने भी दम तोड़ दिया। SHO की पश्चिम बंगाल में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी।

पॉर्न फिल्म में दिखने के शौकीन हैं जो बायडेन के बेटे, परिवार की नंगी तस्वीरें करते हैं Pornhub अकॉउंट पर शेयर: रिपोर्ट्स

पॉर्न वेबसाइट पॉर्नहब पर बायडेन का अकॉउंट RHEast नाम से है। उनके अकॉउंट को 66 badge मिले हुए हैं। वेबसाइट पर एक बैच 50 सब्सक्राइबर होने, 500 वीडियो देखने और एचडी में पॉर्न देखने पर मिलता है।

कूच बिहार में 300-350 की भीड़ ने CISF पर किया था हमला, ममता ने समर्थकों से कहा था- केंद्रीय बलों का घेराव करो

कूच बिहार में भीड़ ने CISF की टीम पर हमला कर हथियार छीनने की कोशिश की। फायरिंग में 4 की मौत हो गई।

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,173FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe