Saturday, June 22, 2024
Homeदेश-समाजचंद्रमा पर H2O को लेकर उम्मीदें बढ़ी, रोवर प्रज्ञान को मिला ऑक्सीजन; हाइड्रोजन की...

चंद्रमा पर H2O को लेकर उम्मीदें बढ़ी, रोवर प्रज्ञान को मिला ऑक्सीजन; हाइड्रोजन की खोज जारी: इसरो ने 7 अन्य तत्वों को लेकर भी दी गुड न्यूज

प्रज्ञान रोवर पर लगे लिब्स पेलोड ने चंद्रमा की सतह पर आठ तत्व खोजे हैं। इनमें ऑक्सीजन के अलावा एल्यूमिनियम, कैल्शियम, लोहा, क्रोमियम, टाइटेनियम, मैंगनीज और सिलिकॉन शामिल हैं। इसके अलावा सल्फर के भी दक्षिणी ध्रुव पर होने की पुष्टि की है।

चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव पर पहुँचकर इतिहास रचने वाले चंद्रयान-3 ने एक और बड़ी खबर भेजी है। रोवर प्रज्ञान को चंद्रमा की सतह पर ऑक्सीजन समेत कई तत्व मौजूद होने के प्रमाण मिले हैं। इसरो ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। फिलहाल हाइड्रोजन की खोज जारी है।

इसरो ने एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर एक पोस्ट कर बताया है कि प्रज्ञान रोवर पर लगे लिब्स पेलोड ने चंद्रमा की सतह पर आठ तत्व खोजे हैं। इनमें ऑक्सीजन (O) के अलावा एल्यूमिनियम (Al), कैल्शियम (Ca), लोहा (Fe), क्रोमियम (Cr), टाइटेनियम (Ti), मैंगनीज (Mn) और सिलिकॉन (Si) शामिल हैं। इसके अलावा सल्फर (S) के भी दक्षिणी ध्रुव पर होने की पुष्टि की है।

चंद्रमा पर ऑक्सीजन की पुष्टि होना बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है। चंद्रमा पर अब तक हाइड्रोजन नहीं मिल पाया है। यदि हाइड्रोजन की भी पुष्टि हो जाती है तो फिर चंद्रमा पर पानी भी मिल सकता है। इसके अलावा ऑक्सीजन (O) और हाइड्रोजन (H) के संयोजन से पानी (H2O) भी बनाया जा सकता है।

इसके अलावा सल्फर, एल्युमिनियम, कैल्शियम, लोहा और सिलिकॉन समेत अन्य खनिजों के मिलना भी ISRO के लिए बड़ी सफलता है। ये सभी चंद्रमा में किस मात्रा में उपलब्ध हैं, इसकी पुष्टि अब तक नहीं हो पाई है। ज्ञात हो कि 28 अगस्त 2023 को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के चंद्रयान-3 ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंडिंग की थी। चंद्रमा के इस हिस्से में पहुंचने वाला भारत पहला देश है। उसके बाद से यह दूसरा ऑब्जर्वेशन है।

लेजर इंड्यूस्ड ब्रेकडाउन स्पेक्ट्रोस्कोपी (LIBS) चंद्रयान 3 का एक पेलोड है। इसने ही चंद्रमा की सतह पर पहला इन-सीटू एक्सपेरिमेंट किया। किसी चीज की खोज को लेकर ऑन साइट किए गए प्रयोग को इन-सीटू एक्सपेरिमेंट कहते हैं। इससे पहले विक्रम लैंडर में लगे चास्टे (ChaSTE) पेलोड ने ISRO को बताया था कि चाँद की सतह के ऊपर और सतह से 10 सेंटीमीटर नीचे के तापमान में बहुत अधिक अंतर है। इसरो के अनुसार चंद्रमा की सतह पर तापमान 50 से 60 डिग्री सेल्सियस के बीच है। वहीं सतह से 8 सेंटीमीटर नीचे पारा माइनम 10 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाता है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केंद्र सरकार की नौकरी के मजे? अब 15 मिनट से ज्यादा की देरी पर आधे दिन की छुट्टी: ऑफिस टाइमिंग को लेकर कड़ा फैसला

भारत सरकार के कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (DoPT) ने आदेश जारी किया है कि जिन दफ्तरों के खुलने का समय 9 बजे है, वहाँ अधिकतम 15 मिनट का ही ग्रेस पीरियड मिलेगा।

ईदगाह का गेट निकाले जाने उग्र हुई भीड़ ने जला डाला दुकान और ट्रैक्टर, पुलिस पर भी पत्थरबाजी: जोधपुर में धारा-144 लागू, 40 आरोपित...

ईदगाह के पीछे की दीवार से 2 दरवाजों को निकाले जाने का काम शुरू किया गया था। पुलिस ने बताया कि बस्ती में रहने वाले कुछ लोगों ने इसका विरोध किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -