Wednesday, June 12, 2024
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीसबसे बड़ी संख्या 'ग्राहम नंबर' की खोज करने वाले महान गणितज्ञ रॉन ग्राहम का...

सबसे बड़ी संख्या ‘ग्राहम नंबर’ की खोज करने वाले महान गणितज्ञ रॉन ग्राहम का निधन, मौत के कारणों का पता नहीं

रॉन ग्राहम एक महान अमेरिकी गणितज्ञ थे। रॉन ग्राहम ने कम्प्यूटेशनल जियोमेट्री, शेड्यूलिंग थ्यौरी और रैमसे थ्यौरी में बहुत महत्वपूर्ण काम किया था। वह कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट फॉर टेलीकम्यूनिकेशंस एंड इंन्फोर्मेशन टेक्नोलॉजी में मुख्य वैज्ञानिक थे।

सोमवार (06 जुलाई, 2020) को 84 वर्ष की उम्र में महान गणितज्ञ रॉन ग्राहम का निधन हो गया। इनका पूरा नाम रोनाल्ड लेविस ग्राहम था। उन्होंने ग्राहम नंबर की खोज की, जो एक प्रमाण में इस्तेमाल किया गया सबसे बड़ा नंबर है। ग्राहम की संख्या मन-क्रम से भी बड़ी है। यह ब्रह्मांड की आयु -13.8 * 10 ^ 9 वर्ष या 4.343 * 10 ^ 17 सेकंड से भी बड़ी है।

ग्राहम की संख्या एवोगाद्रो की संख्या- 6.02214129 x 10^23, जोकि हाइड्रोजन के 1 ग्राम में पाए जाने वाले हाइड्रोजन परमाणुओं की संख्या है, से भी बड़ी है। यह ब्रह्मांड में परमाणुओं की कुल संख्या 10 ^ 78 – 10 ^ 82 से भी बड़ी है। इतना ही नहीं यह googol (10 ^ 100) से भी बड़ी है। दरअसल googol का नाम ही बाद में Google पड़ा था।

ग्राहम की संख्या अब तक खोजे गए सबसे बड़े प्राइम नंबर (2 ^ 57,885,161) से भी बड़ी है। इसमें 17,425,170 अंक हैं, जो वास्तव में बहुत ही बड़ी संख्या है। ज्ञात हो कि इसमें 10 ^ 100 में केवल 101 अंक होते हैं, लेकिन हम ग्राहम की संख्या के आसपास भी नहीं हैं।

ग्राहम की संख्या Googolplex (10 ^ Googol) से बड़ी है, जो अपने आप में बहुत बड़ा है। इसमें अंकों की संख्या Googol+1 है। दरअसल इस संख्या के बाद इस मुख्यालय का नाम Googleplex रखा गया।

ग्राहम की संख्या वास्तव में इतनी बड़ी है कि ब्रह्माण्ड में ऐसी कोई जगह नहीं जहाँ इसे लिखा जा सके। लिखने में यह सचमुच बहुत बड़ी है, लेकिन यह संख्या परिमित है और इसके अकल्पनीय होने के बावजूद यह 3 से विभाजित है और 7 में समाप्त होता है! रॉन ग्राहम ने कम्प्यूटेशनल जियोमेट्री, शेड्यूलिंग थ्यौरी और रैमसे थ्यौरी में बहुत महत्वपूर्ण काम किया था,

आपको बता दें कि रॉन ग्राहम का जन्म वर्ष 1935 में अमेरिका के कैलिफोर्निया में हुआ था। वह एक महान अमेरिकी गणितज्ञ थे। रॉन ग्राहम ने कम्प्यूटेशनल जियोमेट्री, शेड्यूलिंग थ्यौरी और रैमसे थ्यौरी में बहुत महत्वपूर्ण काम किया था। वह कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट फॉर टेलीकम्यूनिकेशंस एंड इंन्फोर्मेशन टेक्नोलॉजी में मुख्य वैज्ञानिक थे।

1993-94 के बीच ग्राहम अमेरिकन मैथ मेटिकल सोसायटी के अध्यक्ष भी रहे थे। इनका पूरा नाम रोनाल्ड लेविस ग्राहम था। हालाँकि, उनकी मौत के कारणों का अभी तक पता नहीं चल सका है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जोशीमठ को मिली पौराणिक ‘ज्योतिर्मठ’ पहचान, कोश्याकुटोली बना श्री कैंची धाम : केंद्र की मंजूरी के बाद उत्तराखंड सरकार ने बदले 2 जगहों के...

ज्तोतिर्मठ आदि गुरु शंकराचार्य की तपोस्‍थली रही है। माना जाता है कि वो यहाँ आठवीं शताब्दी में आए थे और अमर कल्‍पवृक्ष के नीचे तपस्‍या के बाद उन्‍हें दिव्‍य ज्ञान ज्‍योति की प्राप्ति हुई थी।

नाबालिग औलाद ने ही अपने इमाम अब्बा का किया सिर तन से जुदा: कट्टर इस्लामी-वामी मचा रहे ‘मुस्लिम टारगेट किलिंग’ का शोर, पुलिस जाँच...

जिसे वामी-इस्लामी हैंडल घोषित करना चाहते थे टारगेट किलिंग, शामली में मस्जिद के उस इमाम का सिर उनके ही नाबालिग बेटे ने किया था तन से जुदा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -