बांग्लादेशी तस्करों ने किया BSF जवान पर बम से हमला, हाथ गँवाने के बाद हालत गंभीर

ऑनस्पॉट पकड़े जाने पर 10-15 बांग्लादेशी पशु तस्करों ने BSF के मुस्तैद जवान अनीसुर रहमान को चारों ओर से घेर लिया और... [वैधानिक चेतावनी: अंदर की तस्वीरें आपको विचलित कर सकती हैं]

पश्चिम बंगाल के रास्ते पशु तस्करी करने वाले बांग्लादेशी तस्करों ने कल (जुलाई 11, 2019) ड्यूटी पर तैनात एक बीएसएफ (BSF) जवान को बम से निशाना बनाया। जवान का नाम कॉन्स्टेबल अनीसुर रहमान है। इस हमले ने जवान ने अपना एक हाथ गँवा दिया है और गंभीर हालत में उनका इलाज कोलकाता के अस्पताल में चल रहा है।

यह घटना नॉर्थ 24 परगना जिले में अंगरेल सीमा चौकी के पास गुरुवार को सुबह-सुबह साढ़े तीन बजे घटी। जानकारी के अनुसार 11 जुलाई की सुबह करीब 3:30 बजे 25 बांग्लादेशी तस्कर 10 से 15 पशुओं की तस्करी का प्रयास कर रहे थे। ये तस्कर अपनी सुरक्षा के लिए हथियारों से लैस होकर बॉर्डर में दाखिल हुए थे। ये लोग पशुओं को लेकर बांग्लादेश में दाखिल होने ही वाले थे कि तभी सीमा पर तैनात जवान को इन तस्करों की गतिविधि की भनक लग गई। जवान ने इन तस्करों को रोकने का प्रयास किया, लेकिन इन तस्करों ने उन्हें चारों ओर से घेर लिया।

तस्करों ने पहले अनीसुर की दृष्टि बाधित करने के लिए उनकी आँखों में हाईबीम लाइट से रौशनी डाली और फिर देसी बम से उन पर हमला कर दिया। ये बम अनीसुर के एकदम नजदीक आकर फटा, लेकिन उन्होंने (जवान ने) तब भी हार नहीं मानी। उन्होंने आत्मरक्षा में नॉन-लीथल पीएजी गन से उन तस्करों की ओर फायर किया, जिस कारण ये तस्कर बौखला गए और इन्होंने दोबारा जवान की ओर बम फेंका। इस बार ये बम अनीसुर के दाएँ हाथ के पास आकर फटा, जिस कारण वो हाथ केहुनी के नीचे से अलग होकर गिर गया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बम हमले के कारण रहमान के दाएँ हाथ का पूरा पंजा उनके शरीर से अलग हो गया और बम के छर्रे उनके शरीर में धँस गए। जी न्यूज में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक बीएसएफ के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि अनीसुर के शरीर में बम के छर्रे धंसने से उनके लीवर, फेफड़े और पेट बुरी तरह से जख्मी हो गए हैं।

वहीं, हमले को अंजाम देने के बाद तस्कर जंगली घास, अँधेरा और जानवरों की ओट लेकर फरार हो गए। घटना को लेकर बीएसएफ ने भारत-बांग्लादेश सीमा पर दक्षिण बंगाल इलाके में अलर्ट जारी किया है, और दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के इंस्पेक्टर जनरल ने इस मामले पर सख्त रुख अख्तियार करते हुए सभी फील्ड फॉर्मेशन को निर्देश दिए हैं कि ट्रांस बॉर्डर क्रिमिनल के खिलाफ बेहद सख्‍त रुख अपनाते हुए कार्रवाई की जाए ।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

दिल्ली दंगे
इस नैरेटिव से बचिए और पूछिए कि जिसकी गली में हिन्दू की लाश जला कर पहुँचा दी गई, उसने तीन महीने से किसका क्या बिगाड़ा था। 'दंगा साहित्य' के कवियों से पूछिए कि आज जो 'दोनों तरफ के थे', 'इधर के भी, उधर के भी' की ज्ञानवृष्टि हो रही है, वो तीन महीने के 89 दिनों तक कहाँ थी, जो आज 90वें दिन को निकली है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

155,450फैंसलाइक करें
43,324फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: