Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजमनसुख हिरेन की हत्या पर ATS के 10 बड़े खुलासे, सचिन वाजे के खिलाफ...

मनसुख हिरेन की हत्या पर ATS के 10 बड़े खुलासे, सचिन वाजे के खिलाफ रंगदारी का केस भी दर्ज

ATS की CDR रिपोर्ट के मुताबिक वाजे हत्या वाली रात को न तो किसी को वॉइस कॉल किया और न ही उसे किसी का कॉल आया। इससे ऐसा प्रतीत होता है कि वह वॉट्सऐप के जरिए लोगों से संपर्क कर रहा था।

मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर विस्फोटकों से भरी स्कॉर्पियो कार के मालिक मनसुख हीरेन की हत्या के बारे में ATS ने कई बड़े खुलासे किए हैं। ATS की रिपोर्ट के मुताबिक हत्या में चार लोग शामिल थे, जिनमें से 3 आरोपित गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

ठाणे सेशन कोर्ट के आदेश के बाद ATS ने अपनी जाँच NIA को सौंप दी है। जाँच में ATS को पता चला है कि मनसुख की हत्या से पहले उसे क्लोरोफॉर्म सुँघाकर बेहोश कर दिया गया था। इसके बाद आराम से उसकी हत्या की गई। वारदात के दौरान सचिन वाजे वहीं पर कार में बैठकर सबकुछ देख रहा था। उसकी मोबाइल लोकेशन से ATS को पुख्ता सबूत मिले हैं।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मनसुख के मुँह पर बँधे 5 रुमालों में क्लोरोफॉर्म डाला गया था। आरोपितों को डर था कि वह जिंदा न बच जाए, इसीलिए रुमाल के साथ ही उसे पानी में फेंक दिया। ताकि सुसाइड दिखाया जा सके। चेहरे पर बँधे 5 रुमालों से स्पष्ट हो गया था कि यह हत्या ही थी


ATS के 10 खुलासे

  • 1- मनसुख हीरेन को सचिन वाजे ने तावड़े के नाम से वॉट्सऐप से कॉल किया था। दोनों की बातचीत को मनसुख की पत्नी ने सुना था।
  • 2- रात 10 बजे के करीब मनसुख की हत्या करने के बाद सचिन वाजे ने मुंबई लौटकर टिप्सी बार में छापा मारने का नाटक किया। ताकि यह साबित कर सके कि वह तो रेड मारने गया था।
  • 3- ATS की CDR रिपोर्ट के मुताबिक वाजे हत्या वाली रात को न तो किसी को वॉइस कॉल किया और न ही उसे किसी का कॉल आया। इससे ऐसा प्रतीत होता है कि वह वॉट्सऐप के जरिए लोगों से संपर्क कर रहा था।
  • 4- मुंबई के डोंगरी इलाके में टिप्सी बार में रेड का नाटक सचिन वाजे ने जाँच से ध्यान भटकाने के लिए किया था।
  • 5- अपना लोकेशन कमिश्नर ऑफिस में दिखाने के लिए वाजे घोडबंदर से लौटने के बाद पहले मुंबई हेडक्वॉर्टर गया और वहाँ से घर लौटकर उसे चार्ज पर लगा दिया।
  • 6- सचिन वाजे ने पूछताछ के दौरान ATS को दिए स्टेटमेंट में कहा है कि वह 4 मार्च को तो पूरे दिन CIU ऑफिस में था। जबकि, उसके मोबाइल का लोकेशन चेंबूर के MMRDA कॉलोनी में था।
  • 7- मनसुख के पास एक मोबाइल में दो सिम कार्ड थे, जिसमें आखिरी बार रात 8 बजकर 32 मिनट पर उसकी पत्नी ने उसे कॉल किया था। दूसरे नंबर पर रात 10:10 मिनट पर 4 मैसेज आए थे।
  • 8- एक अन्य आरोपित विनायक शिंदे ने ATS को बताया है कि वह वाजे से संपर्क करने के लिए फर्जी सिम कार्ड का इस्तेमाल करता था, जिसे उसने गुजरात से मँगवाया था।
  • 9- विनायक शिंदे के घर से ही सचिन वाजे ने मुकेश अंबानी को धमकी वाला पत्र लिखा था। इसका खुलासा शिंदे के घर में काम करने वाले पेंटर ने किया है।
  • 10- मनसुख हीरेन को सचिन वाजे ने ही एंटीलिया वाली साजिश में शामिल किया था। ATS और NIA दोनों एजेंसियों के पास इसके पुख्ता सबूत हैं।

स्वर्ण व्यवसायी के कहने पर वाजे ने 25 लाख खर्च कर फाइव स्टार में बुक किया था कमरा

अभी तक की जाँच में खुलासा हुआ है कि सचिन वाजे ने मुबई के ही एक गोल्ड ट्रेडर्स के कहने पर 25 लाख रुपए में फाइव स्टार होटल ट्राइटेंड में 100 दिनों के लिए कमरा बुक किया था। इस होटल का एक दिन का ही किराया 10000 रुपए है। NIA को होटल से अहम सबूत मिले हैं। यहाँ उसने फर्जी आधार कार्ड से कमरा बुक किया था। कारोबारी ने NIA को बताया है कि उसके खिलाफ दो केस चल रहे हैं, जिससे निकलवाने का लालच वाजे ने उसे दिया था।

बिल्डर ने वाजे के खिलाफ दर्ज कराया रंगदारी वसूलने का केस

मुंबई के एक बिल्डर ने सचिन वाजे के खिलाफ डरा-धमकाकर रंगदारी वसूलने की कोशिश करने का केस दर्ज कराया है। उसने इस मामले में मुंबई के पुलिस कमिश्नर और महाराष्ट्र के DGP को पत्र लिखा है।

बिल्डर ने सचिन वाजे द्वारा चलाए जा रहे रंगदारी और भ्रष्टाचार के रैकेट की जाँच करने की माँग की है। उसने खुलासा किया है कि वाजे और उसके साथियों ने पैसे नहीं देने पर केस में फँसाने की धमकी थी। बिल्डर ने बताया है कि उससे 5 लाख रुपए की माँग की गई थी। वह CIU में सचिन वाजे से व्यक्तिगत तौर पर मिलने भी जा चुका है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe