Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाजमोदी की रैली में सीरियल बम ब्लास्ट, NIA कोर्ट ने 9 दोषियों को सुनाई...

मोदी की रैली में सीरियल बम ब्लास्ट, NIA कोर्ट ने 9 दोषियों को सुनाई सजा: इम्तियाज, हैदर, अंसारी और मोजीबुल्लाह को फाँसी

गाँधी मैदान में 27 अक्टूबर, 2013 को सिलसिलेवार विस्फोट उस समय किया गया था, जब नरेंद्र मोदी यहाँ 'हुंकार' रैली को संबोधित कर रहे थे। इस ब्लास्ट में 6 लोगों की मौत हुई थी और 89 लोग घायल हुए थे।

साल 2013 में पटना के गाँधी मैदान में हुए सिलसिलेवार बम ब्लास्ट मामले में सोमवार (1 नवंबर, 2021) को एनआईए की विशेष अदालत ने चार आतंकियों को फाँसी की सजा सुनाई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गाँधी मैदान में हुए विस्फोट मामले में एनआईए कोर्ट ने कुल 9 दोषियों को सजा सुनाई है।

इनमें से चार दोषियों इम्तियाज अंसारी, हैदर अली, नुमान अंसारी और मोजीबुल्लाह अंसारी को फाँसी दी गई है। वहीं, दो दोषियों को उम्रकैद, दो को 10 साल की जेल और एक दोषी को 7 साल की सजा सुनाई गई है। गाँधी मैदान में 27 अक्टूबर, 2013 को सिलसिलेवार विस्फोट उस समय किया गया था, जब नरेंद्र मोदी यहाँ ‘हुंकार’ रैली को संबोधित कर रहे थे। इस ब्लास्ट में 6 लोगों की मौत हुई थी और 89 लोग घायल हुए थे।

इन सभी आरोपितों पर बीते 27 अक्टूबर 2021 को एनआईए कोर्ट में हुए सुनवाई के दौरान दोषी करार दिया गया था, जिसके बाद सजा के लिए कोर्ट ने सोमवार का दिन निर्धारित किया था। मामले में दोषी करार 9 आतंकियों को पटना के बेऊर जेल में रखा गया था। उन्हें अलग-अलग सेल में रखा गया था, जबकि इससे पहले ये सभी एक ही सेल में बंद थे।

बता दें कि इस मामले की जाँच शुरू से ही NIA कर रही है। एनआईए कोर्ट ने मामले में उमेर सिद्दीकी, अहमद हुसैन, अजहरुद्दीन कुरैशी, हैदर अली, इम्तियाज अंसारी, मोजिबुल्लाह अंसारी, फिरोज अहमद और नुमान अंसारी को आईपीसी एक्ट की विभिन्न धाराओं, एक्सप्लोसिव एक्ट की विभिन्न धारा, यूए (पी) एक्ट और रेलवे एक्ट की विभिन्न धाराओं के तहत दोषी करार दिया था। इनमें एक अभियुक्‍त नाबालिग था, जिसे पहले ही तीन वर्ष की कैद की सजा सुनाई जा चुकी है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मेरे बेटे को मार डाला’: आधुनिक पश्चिमी सभ्यता ने दुनिया के सबसे अमीर शख्स को भी दे दिया ऐसा दर्द, कहा – Woke वाले...

लिंग-परिवर्तन कराने वाले को उसके पुराने नाम से पुकारना 'Deadnaming' कहलाता है। उन्होंने कहा कि इसका अर्थ है कि उनका बेटा मर चुका है।

‘बंद ही रहेगा शंभू बॉर्डर, JCB लेकर नहीं कर सकते प्रदर्शन’: सुप्रीम कोर्ट ने ‘आंदोलनजीवी’ किसानों को दिया झटका, 15 अगस्त को दिल्ली कूच...

सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब और हरियाणा के बीच शंभू बॉर्डर को अभी बंद ही रखने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा किसान JCB लेकर प्रदर्शन नहीं कर सकते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -