रेप के बाद 3 साल की बच्ची का गला रेता, मोहम्मद शेख सहित तीन गिरफ्तार

जमशेदपुर में 25 जुलाई को टाटानगर स्टेशन से बच्ची का अपहरण हुआ था। दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या कर दी गई। मंगलवार शाम बच्ची की सिर कटी लाश झाड़ी से बरामद हुई।

झारखंड के जमशेदपुर में 25 जुलाई को 3 साल की मासूम बच्ची का बलात्कार के बाद गला रेत दिया गया। पुलिस ने मंगलवार (जुलाई 30, 2019) रात बच्ची का बिना सिर वाला शव रामाधीन बागान धोबीघाट के पास स्थित झाड़ी से बरामद किया। पुलिस ने इस मामले में बच्ची की माँ के प्रेमी मोहम्मद शेख उर्फ़ मोनू मंडल सहित 3 को गिरफ्तार किया है।

मोहम्मद शेख पर इस घटना की साजिश रचने का आरोप है। जमशेदपुर में 25 जुलाई को टाटानगर स्टेशन से बच्ची का अपहरण हुआ था। दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या कर दी गई। मंगलवार शाम बच्ची की सिर कटी लाश रेल पुलिस ने टेल्को रामाधीन बगान की गली में एक झाड़ी से बरामद किया।

सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस ने एक हवलदार के बेटे रिंकू साहू और उसके दोस्त कैलाश कुमार को पकड़ा। पुलिस अब बच्ची के सिर की तलाश में जुटी है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

रिपोर्ट्स के अनुसार, मुख्य आरोपित रिंकू साहू की माँ गिरीडीह जिला पुलिस मुख्यालय में हवलदार है। रिंकू पहले से ही कई मामलों में आरोपी भी रहा है। रिंकू की माँ का कहना है कि उसका बेटा साइको है, जिसके चलते उसने इस वारदात को अंजाम दिया।

पुलिस के अनुसार दोनों ही अपराधी बच्ची के तालाश में ही टाटानगर स्टेशन पहुँचे थे। जब वे लोग स्टेशन के अंदर घुसे तो पोर्टिको में ही उन लोगों ने देखा कि बच्ची की माँ और उसके प्रेमी सोए हुए हैं और बच्ची बगल में बैठी है। इसके बाद बच्ची को बहला-फुसलाकर वे बर्मामाइँस की ओर निकल गए। इसके बाद बच्ची को गोदी में लेकर दोनों केरला समाज स्कूल होते हुए टेल्को की ओर निकल गए। इस बात का खुलासा पेट्रोल पंप और स्कूल के आसपास लगे कैमरा से हुआ। पुलिस मन्नू मंडल और पकड़ाए दोनों अपराधी रिंकू एवं कैलाश के बीच संपर्क तलाशने में जुटी हुई है।

पुलिस ने लड़की की माँ के प्रेमी मोनू मंडल को आपराधिक साजिश और अन्य धाराओं के तहत जेल भेज दिया है। पुलिस मामले में मोहम्मद शेख उर्फ ​​मोनू मंडल की भूमिका की जाँच कर रही है, जो बच्ची और उसकी माँ को पुरुलिया से टाटानगर लाया था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शाहीन बाग़, शरजील इमाम
वे जितने ज्यादा जोर से 'इंकलाब ज़िंदाबाद' बोलेंगे, वामपंथी मीडिया उतना ही ज्यादा द्रवित होगा। कोई रवीश कुमार टीवी स्टूडियो में बैठ कर कहेगा- "क्या तिरंगा हाथ में लेकर राष्ट्रगान गाने वाले और संविधान का पाठ करने वाले देश के टुकड़े-टुकड़े गैंग के सदस्य हो सकते हैं? नहीं न।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,546फैंसलाइक करें
36,423फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: