Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजअशद, फ़कीर, जमाल सहित 4 बांग्लादेशी धर दबोचे गए: रुपयों के बदले देते थे...

अशद, फ़कीर, जमाल सहित 4 बांग्लादेशी धर दबोचे गए: रुपयों के बदले देते थे फेक सऊदी रियाल

ये सभी आरोपित बांग्लादेश की राजधानी ढाका के नजदीक स्थित गोपालगंज के निवासी हैं। उनके पास से कई सिम कार्ड, मोबाइल फोन और फेक सऊदी रियाल के नोट मिले हैं।

असम के सिल्चर में सुरक्षा बलों ने 4 बांग्लादेशी नागरिकों को धर दबोचा, जो मनी लॉन्ड्रिंग करने में लगे हुए थे। उनके पास से फेक सऊदी रियाल भी जब्त किए गए हैं। असम पुलिस ने यह कार्रवाई रविवार (सितम्बर 8, 2019) को की। पुलिस को उनके बारे में सूचना एक ऐसे व्यक्ति को मिली, जो ख़ुद उनकी ठगी का शिकार हो चुका था।

गिरफ्तार होने वालों के नाम रिपोन खान, मोहम्मद अशद, सुमन फ़क़ीर और जमाल मुंशी है। मोहम्मद कबीर नामक व्यक्ति भागने में सफल रहा। ये सभी आरोपित स्थानीय लोगों को भारतीय करेंसी के बदले सऊदी की फेक करेंसी देने का लालच दिया करते थे। ये लोग पिछले एक महीने से इस अपराध को अंजाम दे रहे थे।

इन आरोपितों के पास बोनाफाइड बांग्लादेशी पासपोर्ट थे और ये सभी त्रिपुरा होते हुए असम में घुसे थे। एक पीड़ित के अनुसार, आरोपितों ने उससे संपर्क कर के 2 लाख भारतीय मुद्रा के बदले 1 लाख सऊदी करेंसी देने का वादा किया। इसकी क़ीमत लगभग 19 लाख रुपए हो जाती है और इसीलिए ऐसा ऑफर ठुकराना मुश्किल होता है, पीड़ित ने ‘नार्थ ईस्ट नाउ’ को बताया

‘नार्थ ईस्ट नाउ’ की ख़बर का वीडियो

ये सभी आरोपित बांग्लादेश की राजधानी ढाका के नजदीक स्थित गोपालगंज के निवासी हैं। उनके पास से कई सिम कार्ड, मोबाइल फोन और फेक सऊदी रियाल के नोट मिले हैं। सिल्चर सदर थाना की पुलिस इन सभी आरोपितों से पूछताछ कर रही है। पुलिस यह पता लगाने में जुटी है कि इस अपराध में कौन-कौन लोग शामिल हैं और यह कहाँ तक फैला है?

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

सूरत में मंदिरों-घर की छत पर लाउडस्पीकर, सुबह-शाम हनुमान चालीसा; शनिवार को सत्संग भी: धर्म के लिए हिंदू हुए लामबंद

सूरत में आठ महीने पहले लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा की हुई शुरुआत ने कैसे हिंदुओं को जोड़ा, इसका संदेश कितना गहरा हुआ, पढ़िए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe