Saturday, October 16, 2021
Homeदेश-समाज50 पुलिसकर्मियों के बीच बख्तरबंद गाड़ी में पंजाब से यूपी लाया जाएगा मुख्तार अंसारी:...

50 पुलिसकर्मियों के बीच बख्तरबंद गाड़ी में पंजाब से यूपी लाया जाएगा मुख्तार अंसारी: नए मामलों में होगी कोर्ट में पेशी

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का कहना है कि वह अंसारी के ख़िलाफ़ लंबित मामले में उसको 21 अक्टूबर को एमपी/एमएलए कोर्ट में पेश करना चाहते हैं। अधिकारियों की मानें तो बाहुबली नेता अंसारी, उनकी पत्नी, उनके बेटों और करीबियों के खिलाफ कार्रवाई के दौरान पिछले 6 महीनों में उस पर कई नए केस दर्ज हुए हैं। अंसारी को पुलिस टीम के साथ बख्तरबंद गाड़ी में लेकर आया जाएगा।

पंजाब की अलग-अलग जेलों में पिछले 22 महीने से कैद बहुजन समाज पार्टी के विधायक मुख्तार अंसारी को 50 पुलिसकर्मियों की टीम के साथ मंगलवार (अक्टूबर 20, 2020) को उत्तरप्रदेश वापस लाया जाएगा। इस बात की जानकारी पुलिस अधिकारी ने रविवार (अक्टूबर 18, 2929) को दी। उन्होंने बताया कि मुख्तार अंसारी को वापस लाने वाली टीम का नेतृत्व डीएसपी करेंगे।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का कहना है कि वह अंसारी के ख़िलाफ़ लंबित मामले में उसको 21 अक्टूबर को एमपी/एमएलए कोर्ट में पेश करना चाहते हैं। अधिकारियों की मानें तो बाहुबली नेता अंसारी, उनकी पत्नी, उनके बेटों और करीबियों के खिलाफ कार्रवाई के दौरान पिछले 6 महीनों में उस पर कई नए केस दर्ज हुए हैं। अंसारी को पुलिस टीम के साथ बख्तरबंद गाड़ी में लेकर आया जाएगा।

बता दें कि पिछले साल के जनवरी महीने से ही गैंगस्टर अंसारी को पंजाब की जेल में कैद किया गया है। उनकी गिरफ्तारी एक बिल्डर से फिरौती माँगने के मामले में हुई थी। बाद में उसे रोपर जेल में डाल दिया गया और फिर मोहाली जेल में उसे शिफ्ट किया गया।

अधिकारियों का कहना है कि अंसारी ने अपनी जान को खतरा देखते हुए पंजाब की जेल में खुद को शिफ्ट करवाया था। उससे पहले उसका एक करीबी प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना बजरंगी बागपत जेल में दूसरे गैंगस्टर सुनील राठी के हाथों 9 जुलाई 2018 को मारा गया था।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि राज्य प्रशासन को बिना सूचित किए जब पंजाब पुलिस को बड़ी आसानी ने अंसारी को ले जाने की अनुमति मिली तब कई उत्तरप्रदेश के जेल अधिकारियों पर सवाल उठे थे।

गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश में योगी सरकार लगातार अंसारी की अवैध संपत्तियों पर कार्रवाई कर रही है। पिछले कुछ महीनों में राज्य प्रशासन ने करीब 68 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी सीज की है। इनकी गैंग की वार्षिक आय 45 करोड़ थी। पुलिस की ताबड़तोड़ कार्रवाई में 96 सदस्य गिरफ्तार हुए हैं व कई मुठभेड़ में मारे भी गए हैं।

यहाँ बता दें कि मुख्तार अंसारी के करीबियों पर कार्रवाई के मद्देनजर कल अभिषेक सिंह उर्फ बाबू की गिरफ्तारी हुई है। इससे पहले बाबू सिंह के गोमती नगर स्थित घर पर तलाशी में बम बनाने का सामान मिला था। उसके ख़िलाफ़ कई मुकदमे दर्ज हैं। इलाके में उसके कारण दहशत भी थी। अभिषेक के अलावा जानकीपुरम निवासी शोएब अहमद, रोहित सिंह उर्फ मोहित, मड़ियांव निवासी अनमोल रावत, इन्दौराबाग बीकेटी निवासी पवन सिंह उर्फ लकी सिंह, अस्ती रोड बीकेटी निवासी सूरज सिंह पर भी गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

मुस्लिम बहुल किशनगंज के सरपंच से बनवाया था आईडी कार्ड, पश्चिमी यूपी के युवक करते थे मदद: Pak आतंकी अशरफ ने किए कई खुलासे

पाकिस्तानी आतंकी ने 2010 में तुर्कमागन गेट में हैंडीक्राफ्ट का काम शुरू किया। 2012 में उसने ज्वेलरी शॉप भी ओपन की थी। 2014 में जादू-टोना करना भी सीखा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,004FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe