Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजकोलकाता: कोरोना+ मिलने के बाद भी बैरक नहीं करवाया सैनेटाइज, 500 सिपाहियों ने DCP...

कोलकाता: कोरोना+ मिलने के बाद भी बैरक नहीं करवाया सैनेटाइज, 500 सिपाहियों ने DCP पर किया हमला

नाराज सिपाहियों का आरोप है कि कोरोना संकट में उनकी सुरक्षा के लिए कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं। कंटेनमेंट जोन में ड्यूटी करने के बावजूद भी उन्हें मास्क नहीं उपलब्ध करवाए गए हैं।

कोलकाता में मंगलवार (मई 19, 2020) को एक हैरान कर देने वाली घटना सामने आई। यहाँ करीब 500 की तादाद में इकट्ठा सिपाहियों ने DCP पर हमला कर दिया।

अधिकारी की पहचान डीसीपी एनएस पॉल के रूप में हुई, जिन्हें कुछ अन्य पुलिस वालों ने बड़ी मशक्कत के बाद नाराज सिपाहियों से बचाया और ले जाकर अस्पताल में भर्ती कराया।

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, सिपाहियों का आरोप है कि एक सब इंस्पेक्टर के कोरोना पॉजिटिव निकलने के बावजूद उनके बैरक को सैनिटाइज नहीं करवाया गया। सिपाहियों का ये भी आरोप है कि कंटेनमेंट जोन में ड्यूटी करने के बावजूद भी उन्हें मास्क नहीं उपलब्ध करवाए गए।

रिपोर्ट्स की मानें तो मंगलवार को 500 सिपाहियों की भीड़ पीटीएस (पुलिस ट्रेनिंग स्कूल) के गेट पर एकत्रित हुई और हल्ला करने लगी। इस बीच, पॉल अपने निवास स्थान से निकलकर उनसे बात करने पहुँचे। मगर, इस दौरान भीड़ में मौजूद कुछ नाराज पुलिसकर्मियों ने उनपर हमला बोल दिया।

कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी बताते हैं, “बातचीत करते हुए, कुछ कॉन्स्टेबलों ने पॉल को परेशान करना शुरू कर दिया। स्थिति को भाँपते हुए, वे वहाँ से भागे। लेकिन नाराज पुलिसकर्मियों ने उनका पीछा किया।”

नाराज सिपाहियों का आरोप है कि कोरोना संकट में उनकी सुरक्षा के लिए कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं। ऐसे ही एक कॉन्स्टेबल के मुताबिक, “हमारे साथ रहने वाले एक सब-इंस्पेक्टर के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद, हमारी जगह को सैनेटाइज नहीं कराया गया। कुछ दिन बाद तीन और कोरोना संक्रमण के केस आ गए। फिर भी बैरक को सैनिटाइज नहीं करवाया गया। हमें नहीं पता कि हम में से कितने लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं।”

उल्लेखनीय है कि इस घटना के सामने आने के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने खुद मामले पर संज्ञान लिया। बुधवार की सुबह पुलिस ट्रेनिंग स्कूल (घटनास्थल) पहुँचकर कॉन्सटेबल्स से इस बारे में बात की।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

6 साल के जुड़वा भाई, अगवा कर ₹20 लाख फिरौती ली; फिर भी हाथ-पैर बाँध यमुना में फेंका: ढाई साल बाद इंसाफ

मध्य प्रदेश स्थित सतना जिले के चित्रकूट में दो जुड़वा भाइयों के अपहरण और हत्या के मामले में 5 दोषियों को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई गई है।

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe