Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजयौन शोषण मामले में मौलाना गिरफ़्तार, 25 साल से बच्चे-बच्चियों को बना रहा था...

यौन शोषण मामले में मौलाना गिरफ़्तार, 25 साल से बच्चे-बच्चियों को बना रहा था हवस का शिकार

25 साल से बच्चों के साथ बलात्कार कर रहा था मौलाना। लेकिन बात खुली तब जब पिछले हफ़्ते मदरसे में युसूफ़ ने एक बच्चे को कुरान पढ़ाने के बहाने बुलाया। बच्चा जब घर गया तो ख़ौफ़ में आकर उसने दुष्कर्म की पूरी कहानी...

केरल के कोट्टायम ज़िले में पुलिस ने एक मदरसा टीचर को बच्चों के साथ दुष्कर्म के आरोप में गिरफ़्तार किया है। 63 साल के आरोपी युसूफ़ को मदरसा चलाने वाली मस्जिद कमिटी की शिक़ायत के बाद शनिवार (1 जून) को गिरफ़्तार किया गया। पुलिस के अनुसार, यूसुफ़ एक अपराधी था और उसने एक दर्जन से अधिक बच्चों का यौन शोषण किया। पुलिस ने कहा कि माता-पिता की शिक़ायत दर्ज कराने में विफल रहने की वजह से यूसुफ को पहले गिरफ़्तार नहीं किया गया था।

ख़बर के अनुसार, गिरफ़्तार होने के बाद युसुफ़ ने 25 साल की उम्र से बच्चों के साथ बलात्कार करने की बात क़बूल कर ली और यह भी बताया कि जब वो बच्चा था तब वो ख़ुद भी यौन शोषण का शिकार हुआ था। मौलाना ने कहा कि उसने एक व्यक्ति से बदला लेने के लिए उसकी बेटी का बलात्कार किया क्योंकि कभी उसने भी उसका (यूसुफ़) यौन उत्पीड़न किया था। यूसुफ़ को यह विश्वास था कि वो कभी पकड़ा नहीं जाएगा क्योंकि बच्चों को शायद ही यौन शोषण और क़ानूनी कार्रवाइयों का कोई ज्ञान हो। महाल्लु समिति के लोग भी शुरू में शिक़ायत दर्ज कराने में हिचकिचाते थे, लेकिन उन्होंने अंततः यूसुफ़ के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने का फ़ैसला किया।

दरअसल, पिछले हफ़्ते थालायोलापारांबू मदरसे में युसूफ़ ने एक बच्चे को कुरान पढ़ाने के बहाने बुलाया। जिसके बाद बच्चा जब घर गया तो ख़ौफ़ में डूबे बच्चे ने दुष्कर्म की पूरी कहानी अपने माता-पिता को बता डाली। जिसके बाद माता-पिता ने इसकी शिक़ायत मदरसा चलाने वाली मस्जिद कमिटी को की। बाद में पता चला कि 2 साल पहले भी इस मदरसे को ज्वाइन करने वाले युसूफ़ पर कई बच्चों ने एतराज़ जताया था। लेकिन तब मदरसे ने बच्चों की शिक़ायत पर कोई कार्रवाई नहीं की थी।

बहरहाल, ताज़ा मामला सामने आने के बाद मस्जिद कमिटी ने युसूफ़ को पहले मदरसे से बर्ख़ास्त कर दिया है। गिरफ़्तारी के बाद आरोपी युसूफ़ के ख़िलाफ़ सख़्त से सख़्त सज़ा दिलाने के लिए आवाज़ उठ रही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe