Thursday, September 29, 2022
Homeदेश-समाज7 साल की बच्ची को सोते में ही उठा ले गया सद्दाम, घर पर...

7 साल की बच्ची को सोते में ही उठा ले गया सद्दाम, घर पर चाकुओं से गोदकर मारा, पुलिस को कहा- ‘मुझे अच्छी लगती थी वो’

बच्ची के घरवाले चिल्लाते रहे- 'सद्दाम बच्ची को छोड़ दो।' लेकिन उसने किसी की नहीं सुनी। आखिर में स्थानीय लोगों ने मिलकर सद्दाम के घर का गेट तोड़ा तो उन्होंने देखा कि बच्ची खून से लथपथ है। सद्दाम उसकी हत्या कर चुका है।

मध्य प्रदेश के इंदौर में 7 साल की मासूम के साथ हैवानियत का मामला सामने आया है। वहाँ, सद्दाम नामक व्यक्ति ने मासूम बच्ची को चाकुओं से गोदकर मौत के घाट उतार दिया। स्थानीय लोगों ने आरोपित को पकड़कर पुलिस के हवाले किया है।

रिपोर्ट के अनुसार, इंदौर के आजाद नगर में रहने वाली 7 साल की मासूम बच्ची अपनी माँ की मौत के बाद नाना के यहाँ रह रही थी। पड़ोस में रहने वाला सद्दाम शुक्रवार (23 सितंबर 2022) की सुबह उसको उठाकर अपने घर ले गया था। इस दौरान, जब वह काफी देर तक नहीं दिखी तब उसके घरवालों ने खोजना शुरू किया।

बच्ची की तलाश कर रहे परिजनों को मोहल्ले वालों ने बताया कि बच्ची को सद्दाम के साथ देखा था। इसके बाद, बच्ची के परिजन समेत कई लोग सद्दाम के घर पहुँच गए। काफी देर तक आवाज लगाने के बाद भी सद्दाम घर का गेट खोलने के लिए तैयार नहीं हुआ।

घरवाले चिल्लाते रहे- ‘सद्दाम बच्ची को छोड़ दो।’ लेकिन उसने किसी की नहीं सुनी। आखिर में स्थानीय लोगों ने मिलकर सद्दाम के घर का गेट तोड़ा तो उन्होंने देखा कि बच्ची खून से लथपथ है। सद्दाम उसकी हत्या कर चुका है।

घटना के बाद जब शव को पोस्‍टमार्टम के बाद घर लाया जा रहा था तब गुस्साए लोगों ने आजाद नगर थाने के बाहर पथराव कर दिया। भारी भीड़ के चलते लोगों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज तक करना पड़ा। लोग जाने को तैयार नहीं थे तब पुलिस के समझाने और कार्रवाई का आश्वासन देने के बाद लोग शांत हुए।

मासूम बच्ची की हत्या के आरोपित सद्दाम की गिरफ्तारी के बाद नगर निगम भी सक्रिय नजर आया और 5 घण्टे के अंदर ही आरोपित का घर तोड़ दिया गया है।

इस मामले में एडीसीपी जोन-1 जयवीर सिंह भदौरिया का कहना है कि आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपित के परिजनों का कहना है कि सद्दाम विक्षिप्त है। हालाँकि, अभी तक पुलिस को उसका मेडिकल प्रमाण पत्र नहीं मिला है। पुलिस की पूछताछ में आरोपित सद्दाम बहकी हुई बात कर रहा है। वो कभी कहता है कि 5 साल की वो छोटी बच्ची उसे अच्छी लगती थी, तो कभी कहता है कि उसको नहीं पता कि उसने बच्ची को क्यों मारा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘क्या कंडोम भी देना पड़ेगा मुफ्त’: IAS अफसर की विवादित टिप्पणी पर महिला आयोग ने 7 दिन में जवाब माँगा, बिहार छात्राओं के ‘सैनिटरी...

IAS हरजोत कौर ने कहा था, “बेवकूफी की भी हद होती है। मत दो वोट। चली जाओ पाकिस्तान। वोट तुम पैसों के लिए देती हो क्या।”

‘सरकारी अधिकारी से लेकर PHD होल्डर, लाइब्रेरियन से लेकर तकनीशियन तक’: PFI में शामिल थे कई नामी लोग; ट्विटर ने अकॉउंट बंद किया, वेबसाइट...

प्रतिबंधित PFI के शीर्ष पदों को पूर्व सरकारी कर्मचारी, लाइब्रेरियन और पीएचडी होल्डर संभाल रहे थे। अब इसके सोशल मीडिया अकॉउंट बंद हो गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,049FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe