Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजपिज्जा के साथ कोरोना की भी होम डिलीवरी! दिल्ली में 72 घरों के लोग...

पिज्जा के साथ कोरोना की भी होम डिलीवरी! दिल्ली में 72 घरों के लोग क्वारंटाइन, मालवीय नगर के कुछ इलाके सील

"डिलीवरी ब्वॉय को पहले सिर्फ़ खाँसी थी, जिसके कारण उसे सामान्य फ्लू होने का संदेह था। मगर जब वो काफी टाइम ठीक होता नहीं दिखा, तो उसे आरएमएल अस्पताल में भेजा गया …जहाँ जाँच में वो कोरोना पॉजिटिव निकला। जानकारी के मुताबिक पिछले 15 दिनों में, उसने 72 स्थानों पर पिज्जा डिलीवर किया।"

दिल्ली में एक पिज्जा डिलीवरी करने वाले लड़के की लापरवाही के कारण 72 घरों को क्वारंटाइन करना पड़ा है। मामला साउथ दिल्ली के मालवीय नगर का है। एक पिज्जा डिलीवरी करने वाले लड़के के कोरोना पॉजिटिव निकलने से हड़कंप मच गया। डिलीवरी ब्वॉय से पूछताछ करके उसकी ऑर्डर्स डिटेल्‍स निकलवाई गई और 72 घरों में रहने वाले लोगों को लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। साथ ही मालवीय नगर के कुछ इलाकों को भी सील कर दिया गया। उसके साथ काम करने वाले 17 लोगों को भी छतरपुर के क्वारंटाइन सेंटर में भेजा गया है।

साउथ दिल्‍ली के जिलाधिकारी बीएम मिश्रा ने समाचार एजेंसी ANI से कहा कि प्रशासन ने उन 72 घरों में रहने वाले लोगों को क्‍वारंटाइन में रहने को कहा है। हालाँकि अभी तक इनमें से किसी का टेस्‍ट नहीं किया गया है। अगर किसी में लक्षण डेवलप होते हैं तो उसका टेस्‍ट कराया जाएगा। यह भी पता करने की कोशिश हो रही है कि इन 72 घरों के अलावा भी व‍ह डिलीवरी ब्वॉय किसी और के संपर्क में आया था या नहीं।

जिलाधिकारी के अनुसार,”डिलीवरी ब्वॉय को पहले सिर्फ़ खाँसी थी, जिसके कारण उसे सामान्य फ्लू होने का संदेह था। मगर जब वो काफी टाइम ठीक होता नहीं दिखा, तो उसे आरएमएल अस्पताल में भेजा गया …जहाँ जाँच में वो कोरोना पॉजिटिव निकला। जानकारी के मुताबिक पिछले 15 दिनों में, उसने 72 स्थानों पर पिज्जा डिलीवर किया। हमने सभी लोगों को होम क्वारंटाइन में रखा है। 17 लोग ऐसे हैं जो उसके साथ काम करते थे, उन सभी छतरपुर में क्वारंटाइन सेंटर भेजा गया है।”

बताया जा रहा है कि यह डिलिवरी ब्वॉय मार्च के अंतिम सप्ताह तक ड्यूटी पर था और पिछले सप्ताह ही इसका कोरोना टेस्ट रिजल्ट पॉजिटिव आया है। अधिकारियों का कहना है कि वह कुछ टाइम पहले डायलिसिस के लिए एक अस्पताल में गया था और हो सकता है कि इसी दौरान वह संक्रमित हुआ हो।

गौरतलब है कि कोरोना के खतरे को देखते हुए ही भारत सरकार ने लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाया दिया है। इस बीच, खाने और सब्जी आदि की होम डिलीवरी पर छूट दी गई है। हालाँकि कन्‍टेनमेंट जोन में किसी को आने-जाने की इजाजत नहीं है। लेकिन वहाँ जरूरी चीजें घर तक डिलीवर कराई जा रही हैं। इसी के मद्देनजर साउथ जोन के जिलाधिकारी ने सभी डिलीवरी करने वाले लड़कों को मास्क आदि लगाकर एहतियात बरतने की सलाह दी है।

ज्ञात हो कि दिल्ली में तबलीगी जमात का भंडाफोड़ होने के बाद कोरोना का ग्राफ बहुत तेजी से बढ़ा था। मगर बुधवार को यहाँ थोड़ा ब्रेक लगा और केवल 17 नए मामले आए। हालाँकि एक भी कोरोना मामले का होना खतरे की घंटी है। लेकिन इसे राहत के तौर पर इसलिए देखा जा रहा है कि पूरे अप्रैल में ये सबसे कम आँकड़ा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe