Tuesday, July 14, 2020
Home विविध विषय अन्य फटा घाव लेकर जब वो लड़की स्कूल पहुँची, ताकि आगे शादी में दिक्कत न...

फटा घाव लेकर जब वो लड़की स्कूल पहुँची, ताकि आगे शादी में दिक्कत न आए!

लड़की से ज़्यादा हमारे परिवेश में पनप रही कुंठित मानसिकता का बदलना ज़रूरी है। ऐसा इसलिए क्योंकि हर लड़की स्कूल जाते वक्त शिक्षा को अपना लक्ष्य रखे न कि समाज की थोपी बातों पर।

ये भी पढ़ें

धर्मों से परे और जाति से परे हर लड़की की कहानी अपने आप में ही इतिहास का समकालीन ज़िंदगी के साथ समावेश है। हम जिस दौर में जी रहे हैं, वहाँ कार की स्टेयरिंग हाथ में लिए हर लड़की आज के समाज का आईना नहीं है। स्कूल जाती लड़की को देखकर कभी भी इस बात का अंदाज़ा नहीं लगाना चाहिए कि उसके भीतर पढ़ने का बहुत जोश है या फिर उसके घर के लोगों में उसे पढ़ाने की मंशा है। हो सकता है ‘लाडली योजना’ के तहत मिलने वाली 1 लाख की राशि की चमक ने उसे स्कूल के क्लासरूम तक लाकर खड़ा दिया हो… या फिर ‘बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ’ के बैनर तले उसका नाम दर्ज़ करने के लिए घर की बेटी को स्कूल तो भेजा जा रहा हो, लेकिन घर में उसे शिक्षा उन्हीं लोगों द्वारा दिलाई जा रही हो, जो आज भी औरत का सबसे बड़ा कर्म रोटी को गोल बनाना बताते हैं। हो सकता उसकी डिग्रियों की आड़ में सिर्फ शादी के लिए एक परफ़ेक्ट ‘रेज़्युमे’ तैयार किया जा रहा हो।

ये ऊपर लिखी बातें निराधार नहीं हैं, और न ही मैं महिलाओं की शिक्षा का विरोध कर रही हूँ। मैं बस उस व्यथा को ज़ाहिर करना चाहती हूँ, जो अपने माहौल में देखते सब हैं लेकिन महसूस कोई-कोई ही करता है। ऊपर की बातें लिखते समय मैं कुछ वैसी लड़कियों का चेहरा याद कर रही हूँ, जिनके जीवन को और रहन-सहन को हमेशा से मुझे जानने की इच्छा हुई। लेकिन जब जाना तब सहम गई। इन लड़कियों में एक नाम अन्नू (बदला हुआ नाम) भी है। नीचे की कहानी (सच्ची घटना) है तो अन्नू की लेकिन इस कहानी के पात्र आपको अपने आस-पास देखने को अक्सर मिलेंगे।

बात 2009 की है। 8वीं पास करके मैंने नए स्कूल में 9वीं में एडमिशन लिया था। वो स्कूल मेरे लिए बहुत बड़ा अनुभव था। मैं पहली बार इतनी सारी लड़कियों को एक साथ पढ़ते हुए देख रही थी। इनमें कुछ बहुत पढ़ाकू थीं और कुछ बहुत ही बिंदास… मैं एवरेज वाली सूची में थी। घर में हमेशा से पढ़ाई के लिए दबाव रहता था, इसलिए मुझे पढ़ाकू लड़कियों को न देखने का मन करता था और न ही मैं उनसे प्रभावित होती थी।

क्लास में कुछ ऐसी भी लड़कियों का ग्रुप था, जो बहुत बिंदास था। नम्बर चाहे कम आएँ, लेकिन हेयरस्टाइल हर रोज़ नया रहता था। हम कुर्ता घुटने से नीचे तक का पहनते थे और वो घुटने से ऊपर पहन कर भी कुर्ते की लंबाई को ज़्यादा बताती थीं। उन्हें देखकर मुझे लगता था कि इनके घर का माहौल कितना गज़ब होगा कि ये लोग टीचर की डाँट खाने के बाद भी मस्तमौला होकर घूमती हैं। उन्हें न होमवर्क की चिंता होती थी और न ही यूनिट टेस्ट की। इस ग्रुप की हर लड़की के पास अपनी एक फ़ाइल थी, जिसमें पसंदीदा हिरोइनों की अखबार से काटी हुई तस्वीरें थी। बैक बेंच पर वो भी बैठती थीं और मैं भी। फ़र्क़ बस ये था वो खुलकर हँसती थीं और अपनी तरह से क्लास रूम को जीती थीं और मैं पढ़ाई के साथ उनके लाइफ़स्टाइल को देखने में ही उलझी रहती थीं। इस ग्रुप ने मुझे बहुत प्रभावित किया था।

इस स्कूल में मेरे दिन बीतते जा रहे थे और मैं अपनी एवरेज परफॉर्मेंस के साथ दूर से ही इनमें घुलती जा रही थी। घर आकर भी मैं इसी ग्रुप के बारे में सोचती रहती थी। इनमें एक लड़की अन्नू भी थी। बेहद सुंदर और मस्तमौला… लेकिन उसका पढ़ाई में डब्बा गोल था। इसलिए टीचर ज़्यादा पसंद नहीं करते थे। हालाँकि, इस बात से उसे भी कोई ज़्यादा फ़र्क़ नहीं पड़ता था। उसके लिए तो उपलब्धि ये थी कि स्कूल के बाहर खड़े लड़के उसके ग्रुप की किसी लड़की को न देखकर सिर्फ़ उसे देखते हैं। मुझे लगता था जैसे उसने न पढ़ने की ही ठान रखी है। लेकिन फिर भी मुझे वो पसंद थी।

उसके जन्मदिन वाले दिन उस ग्रुप में बहुत हल्ला था। सबको पता था अन्नू का जन्मदिन है, बस इंतज़ार हो रहा था उसके आने का। प्रार्थना से लेकर पहला पीरियड खत्म हो गया, लेकिन वो नहीं आई। उसकी सहेलियाँ बेहद नाराज़ थीं। मानो अब से अन्नू से दोस्ती बिल्कुल ख़त्म कर लेंगी। स्कूल की घंटी बजी और मैं भी अपने घर आकर यह सोचती रही कि आज आखिर अन्नू क्यों नहीं आई?

अगले दिन वो आई तो हाथ में पट्टी बंधी थी। तब पता चला कि जन्मदिन पर ही कार से उसका एक्सीडेंट हो गया था, जिससे उसके हाथ में गहरी चोट आई थी। क्योंकि चोट गहरी थी, तो सबको लगा टाँके लगे होंगे। लेकिन उसने इस बात को झट से नकारते हुए कहा, “मैंने कोई टाँके नहीं लगवाए।” सहेलियों के ज़्यादा पूछने पर उसने बड़े चिंता-भाव में कहा, “टाँके लग जाते हैं तो निशान पड़ जाता है न यार! फिर शादी में दिक्कत आती है। इसलिए मम्मी ने टाँके नहीं लगवाए। भले ही टेम (समय) लगेगा लेकिन घाव ऐसे ही सही हो जाएगा।”

इस बात को सुनकर अभी मैं हैरान हुई ही थी कि तब तक उस ग्रुप से ही किसी लड़की की आवाज़ आई, “हाँ, ये तो आंटी ने सही किया, शादी में इन सबसे बहुत दिक्कतें आती हैं।” आश्चर्य कि उस ग्रुप में सबने इस बात पर हामी भरी!

इस बात को सुनने से पहले मेरे भीतर कभी भी लड़की होने पर सवाल नहीं उठे थे, लेकिन इस घटना के बाद मानो मैं सहम गई। मैं कई दिनों तक सवालों से जूझती रही कि क्या एक लड़की का शरीर शादी का मटेरियल मात्र है! जो जितना साफ़ रहेगा, उसकी माँग उतने बढ़िया लोग करेंगे?

फिर एक ख़्याल यह भी आया कि क्या अन्नू के जन्मदिन पर हुए एक्सीडेंट में जो चोट उसे लगी, उसे देखकर उसकी मम्मी का मन नहीं पसीजा होगा, जो उन्होंने चोट में बहता ख़ून नकार कर उसके न मिटने वाले निशान को ज़रूरी समझा?

अपनी मम्मी की इस बात को मानकर अन्नू खुले घाव के साथ स्कूल आ गई। मतलब वो भी इस उम्र से ही खुद को शादी के लिए ही तैयार कर रही है?

क्या सच में चोट लगने से ज्यादा शरीर पर निशान का दिखना खतरनाक है?

निशान को लेकर परेशान हो जाने वाली अन्नू की मम्मी कभी भी उसके पढ़ाई में कम नम्बर देखकर परेशान नहीं हुई होंगी?

अन्नू की मम्मी वाली बात पर सहमति भरने वाली उसकी सहेलियों को भी क्या यही सिखाया जा रहा होगा उनके घरों में?

ये वो सवाल थे जो आज भी मुझे कुरेदते हैं। इस घटना के बाद मैं खुद को बेहद ख़ुशनसीब मानती हूँ कि मैंने बतौर लड़की एक ऐसे घर में जन्म लिया, जहाँ मुझे पहला थप्पड़ पढ़ाई न करने पर पड़ा था। मेरे शरीर पर एलर्जी से हुए कई निशानों के बावजूद भी मेरे घर में किसी ने कभी मुझे उसे छुपाने को नहीं कहा, न ही उसे देखकर कभी चिंता जताई। अन्नू को देखकर मेरे मन में इस तरह के सवाल आना शायद मेरी परवरिश का नतीजा है और शायद उसका अपनी मम्मी की बात को मान जाना उसकी परवरिश का… ऐसे में अगर हम ये कहें कि स्कूल जाती हर लड़की शिक्षित होगी तो शायद यह गलत होगा क्योंकि लड़की से ज़्यादा हमारे परिवेश में पनप रही कुंठित मानसिकता का बदलना ज़रूरी है। ऐसा इसलिए क्योंकि हर लड़की स्कूल जाते वक्त शिक्षा को अपना लक्ष्य रखे न कि समाज की थोपी बातों पर।

उम्मीद यही है कि देश में आने वाली हर सरकार बेटी बचाने के साथ समाज को शिक्षित करने का भी काम करे। सिर्फ एक निश्चित समाज या तबके की लड़कियाँ ही कार की स्टेयरिंग पर हाथ न घुमाएँ। बल्कि अन्नू जैसी लड़कियों को भी पता चल सके कि वो साइड में बैठने के अलावा गाड़ी खुद भी चला सकती हैं और मंजिल तक पहुँचा भी सकती हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

दलित हॉस्टल की जमीन पर कॉन्ग्रेस का ‘कब्जा’, गाँधी वाली 3478 वर्ग मीटर ED ने की अटैच

बांद्रा ईस्ट इलाके में स्थित ये जमीन साल 1983 में एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड को मिली थी। जिसे बाद में व्यावसायिक भूमि में तब्दील कर दिया गया। साल 2017 के हिसाब से इसकी कीमत 262 करोड़ रुपए होती है।

सचिन पायलट डिप्टी CM और PCC प्रेसिडेंट पद से बर्खास्त, गहलोत खेमे के विधायकों ने की थी कार्रवाई की माँग

जयपुर के फेयरमोंट होटल में चल रही कॉन्ग्रेस विधायक दल (CLP) की बैठक में उपस्थित 102 विधायकों ने माँग की है कि सचिन पायलट को पार्टी से हटा दिया जाना चाहिए।

प्रियंका गाँधी का बंगला बचाने के लिए ताकतवर कॉन्ग्रेसी नेता ने किया फोन, PM मोदी के मंत्री ने खोल दी पोल

स्मृति ईरानी ने भी तंज कसते हुए कहा कि शक्तिशाली कॉन्ग्रेस नेता ने हरदीप सिंह पुरी को इसलिए फोन किया था, क्योंकि ये हाईकमांड का ऑर्डर था।

रात में प्रियंका गाँधी के 4 कॉल, चिदंबरम भी रहे तैनात: सचिन पायलट नहीं उठा रहे अन्य कॉन्ग्रेसी नेताओं के फोन

प्रियंका गाँधी और चिदंबरम ने कई बार बात की। दूसरी बार कॉन्ग्रेस की बैठक हुई ही इसीलिए क्योंकि सचिन पायलट को पार्टी जाने नहीं देना चाहती है।

6 मारे गए, 4 गिरफ्तार: विकास दुबे के घर से मिले पुलिस से लूटे हथियार, 11 आरोपित अभी भी फरार

एडीजी (लॉ एंड आर्डर) प्रशांत कुमार ने बताया कि विकास दुबे के घर से पुलिस से लूटी गई एके-47 राइफल और 17 कारतूस बरामद किए गए।

‘प्वाइंट ब्लैंक रेंज’ से गोली, पोस्टमॉर्टम के दौरान डॉक्टर भी दंग: PM रिपोर्ट से विकास दुबे की हैवानियत सामने

विकास दुबे के साथ हुए एनकाउंटर के पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक, CO देवेंद्र मिश्रा को 4 गोली मारी, जिनमें से 1 सिर में, एक छाती में और 2 पेट में लगी।

प्रचलित ख़बरें

22 लोगों के लिए नौकरी, सब सीट पर मुस्लिमों की भर्ती: पश्चिम बंगाल या पाकिस्तान का ऑफिस? – Fact Check

22 के 22 सीटों पर जिन लोगों का चयन हुआ है, वो सब मुस्लिम हैं। पश्चिम बंगाल के नाडिया जिले में हुई चयन प्रक्रिया को लेकर सोशल मीडिया में...

कट्टर मुस्लिम किसी के बाप से नहीं डरता: अजान की आवाज कम करने की बात पर फरदीन ने रेप की धमकी दी

ये तस्वीर आशी ने ट्विटर पर 28 जून को शेयर की थी। इसके बाद सुहेल खान ने भी आशी के साथ अभद्रता से बात की थी ।

‘मोदी का चमचा अमिताभ क्यों हुआ अस्पताल में भर्ती?’ – हिंदुओं से नफरत करने वाले प्रोफेसर ने उगला जहर

अशोक स्वैन के ट्विटर से गुजरते हुए मालूम चलता है कि उन्हें केवल हिंदुओं से नफरत नहीं है। बल्कि चीनियों के प्रति भी उनके मन में अपार प्रेम है।

टीवी और मिक्सर ग्राइंडर के कचरे से ‘ड्रोन बॉय’ प्रताप एनएम ने बनाए 600 ड्रोन: फैक्ट चेक में खुली पोल

इन्टरनेट यूजर्स ऐसी कहानियाँ साझा कर रहे हैं कि कैसे प्रताप ने दुनिया भर के विभिन्न ड्रोन एक्सपो में कई स्वर्ण पदक जीते हैं, 87 देशों द्वारा उसे आमंत्रित किया गया है, और अब पीएम मोदी के साथ ही डीआरडीपी से उन्हें काम पर रखने के लिए कहा गया है।

‘पाकिस्तान और बांग्लादेश का राष्ट्रगान याद करो’ – शिक्षिका शैला परवीन ने LKG और UKG के बच्चों को दिया टास्क

व्हाट्सप्प ग्रुप में पाकिस्तान और बांग्लादेश का राष्ट्रगान पोस्ट किया गया। बच्चों के लिए उन मुल्कों के राष्ट्रगान का यूट्यूब वीडियो डाला गया।

‘लॉकडाउन के बाद इंशाअल्लाह आपको पीतल का हिजाब पहनाया जाएगा’: AMU की छात्रा का उत्पीड़न

AMU की एक छात्रा ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि रहबर दानिश और उसके साथी उसका उत्पीड़न कर रहे। उसे धमकी दे रहे।

‘मुझे बचा लो… बॉयफ्रेंड हबीब मुझे मार डालेगा’: रिदा चौधरी का आखिरी कॉल, फर्श पर पड़ी मिली लाश

आरोप है कि हत्या के बाद हबीब ने रिदा के शव को पंखे से लटका कर इसे आत्महत्या का रूप देने का प्रयास किया। गुरुग्राम पुलिस जाँच कर रही है।

सचिन पायलट को बर्खास्त करते ही गहलोत ने की राज्यपाल से मुलाकात, नजरबंद MLA ने लगाया कॉन्ग्रेस पर बदसलूकी का आरोप

सचिन पायलट ने अपने ट्विटर बॉयो से डिप्टी सीएम हटा दिया है और कहीं भी कॉन्ग्रेस का जिक्र नहीं है। सचिन पायलट के ट्विटर बॉयो में लिखा है- "टोंक से विधायक।"

दलित हॉस्टल की जमीन पर कॉन्ग्रेस का ‘कब्जा’, गाँधी वाली 3478 वर्ग मीटर ED ने की अटैच

बांद्रा ईस्ट इलाके में स्थित ये जमीन साल 1983 में एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड को मिली थी। जिसे बाद में व्यावसायिक भूमि में तब्दील कर दिया गया। साल 2017 के हिसाब से इसकी कीमत 262 करोड़ रुपए होती है।

सचिन पायलट डिप्टी CM और PCC प्रेसिडेंट पद से बर्खास्त, गहलोत खेमे के विधायकों ने की थी कार्रवाई की माँग

जयपुर के फेयरमोंट होटल में चल रही कॉन्ग्रेस विधायक दल (CLP) की बैठक में उपस्थित 102 विधायकों ने माँग की है कि सचिन पायलट को पार्टी से हटा दिया जाना चाहिए।

प्रियंका गाँधी का बंगला बचाने के लिए ताकतवर कॉन्ग्रेसी नेता ने किया फोन, PM मोदी के मंत्री ने खोल दी पोल

स्मृति ईरानी ने भी तंज कसते हुए कहा कि शक्तिशाली कॉन्ग्रेस नेता ने हरदीप सिंह पुरी को इसलिए फोन किया था, क्योंकि ये हाईकमांड का ऑर्डर था।

रात में प्रियंका गाँधी के 4 कॉल, चिदंबरम भी रहे तैनात: सचिन पायलट नहीं उठा रहे अन्य कॉन्ग्रेसी नेताओं के फोन

प्रियंका गाँधी और चिदंबरम ने कई बार बात की। दूसरी बार कॉन्ग्रेस की बैठक हुई ही इसीलिए क्योंकि सचिन पायलट को पार्टी जाने नहीं देना चाहती है।

हेट स्पीच मामले में कपिल मिश्रा समेत इन BJP नेताओं को मिली राहत, पुलिस ने कहा- दंगे भड़काने के नहीं मिले कोई सबूत

हलफनामे में कहा गया कि दिल्ली पुलिस इन नेताओं के भाषणों की पड़ताल कर रही हैं। अगर दंगों से जुड़े किसी भी नेक्सस का खुलासा इसके पीछे होता है तो......

छत्रपति शिवाजी का मजाक उड़ाने वाली कॉमेडियन को इम्तियाज शेख उर्फ़ उमेश दादा ने दी रेप की धमकी, गिरफ्तार

मुंबई के नालासोपारा से इम्तियाज शेख को गिरफ़्तार किया गया है, जिसने शिवाजी का अपमान करने वाली अग्रिमा जोशुआ को रेप के लिए धमकाया था।

कब्र से निकाल कर फेंका नवजात बच्ची का शव, बांग्लादेश में अहमदियों को बताया ‘काफिर’

हमदिया मुस्लिम जमात की स्थानीय इकाई अध्यक्ष एसएम इब्राहिम लगातार अलग-अलग मस्जिदों के मौलवियों को इसके लिए जिम्मेदार बता रहे हैं।

6 मारे गए, 4 गिरफ्तार: विकास दुबे के घर से मिले पुलिस से लूटे हथियार, 11 आरोपित अभी भी फरार

एडीजी (लॉ एंड आर्डर) प्रशांत कुमार ने बताया कि विकास दुबे के घर से पुलिस से लूटी गई एके-47 राइफल और 17 कारतूस बरामद किए गए।

हमसे जुड़ें

239,243FansLike
63,514FollowersFollow
274,000SubscribersSubscribe