Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजमौलाना इरशाद रशीद को गुजरात पुलिस ने किया पानीपत से गिरफ्तार: सोमनाथ में गजनवी...

मौलाना इरशाद रशीद को गुजरात पुलिस ने किया पानीपत से गिरफ्तार: सोमनाथ में गजनवी को इस्लाम का गौरव बताने पर कार्रवाई

मौलाना को इसकी जानकारी हो गई थी, उसे गिरफ्तार करने गुजरात पुलिस पानीपत आ रही है। इसके चलते उसने अपना मोबाइल बंद कर लिया था और घर से भाग निकला था। हालाँकि, गुजरात पुलिस की टीम ने पूरी रात उसकी तलाश की और आखिरकार उसे उसके एक परिचित के घर से गिरफ्तार कर लिया।

सोमनाथ मंदिर के पास खड़े होकर उसे लूटने वाले महमूद गजनवी को इस्‍लाम का नेक बंदा बताने वाला वीडियो बनाकर उसे वायरल करने वाले इरशाद रशीद को हरियाणा के पानीपत से गिरफ्तार कर लिया गया है। वायरल वीडियो में वह कहता है कि आज गजनवी को चोर लुटेरा कहा जाता है लेकिन वह इस्‍लाम का गौरव है।

गुजरात के गीर सोमनाथ जिले में स्थित ऐतिहासिक सोमनाथ मंदिर से करीब आधे किलोमीटर दूर खड़े होकर मौलाना इरशाद रसीद ने एक वीडियो बनाकर वायरल किया जिससे हिंदू धर्म के लोगों की भावनाएँ आहत हुई। सोमनाथ ट्रस्‍ट के प्रबंधक विजय सिंह चावडा ने इस संबंध में पुलिस को एक शिकायत दर्ज कराई जिसके आधार पर पुलिस ने आरोपित को हरियाणा के पानीपत से गिरफ्तार कर लिया है। 

बताया जा रहा है कि आरोपित इरशाद रशीद पानीपत के कुटानी रोड पर स्थित मदरसे का टीचर है। वहीं, उसके कुछ परिचितों का कहना है कि मौलाना अक्सर व्हाट्सएप और फेसबुक पर वह इस तरह की आपत्तिजनक कंटेंट अपलोड करता रहता है। इससे पहले भी वह कई बार ऐसी भड़काऊ हरकतें कर चुका है, कई लोगों ने उसे समझाने की कोशिश भी की, लेकिन वह नहीं माना।

बता दें कि इरशाद 2016 से ‘जमाते आदिला हिंद’ नाम से एक इस्लामी यूट्यूब चैनल चला रहा है। कट्टरपंथी इस्लामवादी अतीत में कई बार हिंदुओं के खिलाफ जहर उगलने और सांप्रदायिक विद्वेष भड़काने के लिए अपने इस प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कर चुका है। महमूद गजनवी के महिमामंडन वाला इरशाद रशीद का वीडियो वायरल होने के बाद कई सोशल मीडिया यूजर्स ने नाराजगी जताई थी और कट्टरपंथी इस्लामवादी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की माँग की थी।

मौलाना का नंबर उसके यूट्यूब चैनल से मिला और फिर मोबाइल नंबर ट्रेस करते हुए गुजरात पुलिस की एक विशेष टीम हरियाणा के पानीपत पहुँची। मौलाना को इसकी जानकारी हो गई थी, उसे गिरफ्तार करने गुजरात पुलिस पानीपत आ रही है। इसके चलते उसने अपना मोबाइल बंद कर लिया था और घर से भाग निकला था। हालाँकि, गुजरात पुलिस की टीम ने पूरी रात उसकी तलाश की और आखिरकार उसे उसके एक परिचित के घर से गिरफ्तार कर लिया

हालाँकि पुलिस ने अधिकारिक रूप से इसकी पुष्टि नहीं की है। मौलाना रशीद ने पुलिस में शिकायत होने के बाद एक और वीडियो जारी कर माफी माँगते हुए कहा कि उसने यह वीडियो ऐसे ही बना लिया था। किसी की भावना को आहत करने का उसका उद्देश्‍य नहीं था।

इरशाद रशीद ने अपने वीडियो मैसेज में कहा, “मेरा इरादा भारतीयों या मेरे गुजराती भाइयों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाना या हिंदू पूजा स्थल का अपमान करना नहीं था। चाहे मंदिर हो, मस्जिद हो या चर्च हो, यह सभी हमारे पूजा स्थल हैं। मेरा इरादा मंदिर का अपमान करने या किसी की भावनाओं को ठेस पहुँचाने का नहीं था।”

यह वही समुद्र है जो पाकिस्‍तान को भारत से जोड़ता है

गौरतलब है कि मौलाना इरशाद का जो वीडियो वायरल हुआ है, उसमें वह समुद्र किनारे खड़े होकर हाथ के इशारे से सोमनाथ मंदिर की ओर इशारा करते हुए यह कहते हुए नजर आता है कि यह वही सोमनाथ मंदिर है जिसे महमूद गजनवी व मुहम्‍मद कासिम ने फतह किया था।

कासिम ने अपने सेना के साथ इसी सागर को पार कर भारत को जीत लिया था। वह यह भी बताता है कि यह वही समुद्र है जो पाकिस्‍तान को भारत से जोड़ता है। गजनवी को इस्‍लाम का नाम रोशन करने वाला तथा इतिहास में एक गौरवशाली महान पुरुष बताते हुए इरशाद आगे कहता है कि इनके इतिहास को पढ़ना व पढ़ाना चाहिए। पुलिस ने उसकी पहचान कर ली थी तथा अब खबर है कि उसे हरियाणा के पानीपत से दबोच लिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe