Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाज'अलहमदुलिल्लाह! हमारे पूर्वजों ने हिंदुस्तान फतह किया': गजनवी का गुणगान करते मुस्लिम व्यक्ति ने...

‘अलहमदुलिल्लाह! हमारे पूर्वजों ने हिंदुस्तान फतह किया’: गजनवी का गुणगान करते मुस्लिम व्यक्ति ने सोमनाथ में बनाया वीडियो

उसने मुस्लिमों को सलाह देते हुए कहा कि हमारे कारनामे रोशन बाग़ के अंदर लिखे हुए हैं और जरूरत है कि अभी वाली नस्ल अपने पूर्वजों के उन कारनामों को पढ़े, जैसे महमूद गजनवी ने दरिया को पार कर के पूरे हिंदुस्तान को 'फतह' किया था।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक मुस्लिम व्यक्ति गुजरात के सोमनाथ मंदिर को ध्वस्त कर के उसे लूटने वाले इस्लामी आक्रांता महमूद गजनी का गुणगान करता दिख रहा है। सोमनाथ मंदिर से कुछ ही दूर पर स्थित एक बीच पर जाकर उक्त व्यक्ति ने ये वीडियो खुद ही बनाया है। लोगों ने गुजरात पुलिस को आगाह किया है कि ये हमारे मंदिरों पर खतरे की धमकी भी हो सकती है।

इस वीडियो में वो व्यक्ति “बिस्मिल्लाह ए रहमान ए रहीम” से अपनी बात की शुरुआत करते हुए बताता है कि वो गुजरात के उस सोमनाथ मंदिर के पास आया हुआ है, जिसे कभी महमूद गजनवी और मोहम्मद इब्ने काजिम ने ‘फतह’ किया था। इसके बाद वो कैमरे को मंदिर की तरफ घूमा कर दिखता है कि सामने ही मंदिर नजर आ रहा है। बीच पर कई अन्य लोग भी टहलते हुए दिख रहे हैं। वो बताता है कि इसी दरिया से मोहममद इब्ने काजिम की फ़ौज आई थी।

वो व्यक्ति उस वीडियो में कहता है, “ये दरिया पाकिस्तान से भी जुड़ता है। ये वही सोमनाथ मंदिर है जिसे आप देख रहे हैं, जिसे महमूद गजनवी ने तबाह किया था। उसका इतिहास आप पढ़ते हैं। मुस्लिमों का जो इतिहास है, वो काफी उज्ज्वल इतिहास है। हमें किसी के सामने दबने या झुकने की ज़रूरत नहीं है। अलहमदुलिल्लाह हमारे पूर्वजों ने बड़े-बड़े कारनामे किए थे। हमें उन कारणों को खुद भी पढ़ना चाहिए और दूसरों को भी पढ़ाना-दिखाना चाहिए।”

उसने मुस्लिमों को सलाह देते हुए कहा कि हमारे कारनामे रोशन बाग़ के अंदर लिखे हुए हैं और जरूरत है कि अभी वाली नस्ल अपने पूर्वजों के उन कारनामों को पढ़े, जैसे महमूद गजनवी ने दरिया को पार कर के पूरे हिंदुस्तान को ‘फतह’ किया था। उसने कहा कि आज का इतिहास भले ही उन्हें चोर-डाकू या जो भी कहे, लेकिन असली इतिहास उन्हें दीन और इस्लाम का प्रसार करने वाला बताया है।

साथ ही उसने एक शेर भी पढ़ा – ‘दूर बैठा कोई तो दुआएँ देता है, मैं डूबता भी हूँ तो समंदर उछाल देता है।’ उसने अंत में सोमनाथ मंदिर की तरफ इशारा करते हुए कहता है कि ये मंदिर यहाँ से आधा किलोमीटर दूर ही है और वो वहाँ भी गया था। बता दें कि महमूद गजनवी एक लुटेरा था, जिसने भारत के मंदिरों के धन को देख कर यहाँ 17 बार हमला किया था। उसने सोमनाथ मंदिर को तबाह कर दिया था।

आज़ादी के बाद केएम मुंशी और सरदार पटेल के प्रयासों से सोमनाथ मंदिर का जीर्णोद्धार हुआ। जब सरदार पटेल के प्रयासों के बाद मंदिर का निर्माण शुरू हुआ तो भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद को इसके उद्घाटन के लिए निमंत्रण भेजा गया, जिस पर नेहरू बिफर गए। उन्होंने डॉक्टर प्रसाद को पत्र लिख कर कहा था कि वो किसी ‘संप्रदाय को बढ़ावा देने’ वाले कार्यक्रम में शामिल न हों। पत्र-पत्रिकाओं में इससे जुड़ी खबरें छपने ही नहीं दी गईं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तराखंड में तेज़ी से बढ़ रही मुस्लिमों और ईसाईयों की जनसंख्या: UCC पैनल की रिपोर्ट में खुलासा – पहाड़ों से हो रहा पलायन

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में आबादी घट रही है, तो मैदानी इलाकों में बेहद तेजी से आबादी बढ़ी है। इसमें सबसे बड़ा योगदान दूसरे राज्यों से आने वाले प्रवासियों ने किया है।

जम्मू कश्मीर के उप-राज्यपाल को अब दिल्ली के LG जितनी शक्तियाँ, ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए भी उनकी अनुमति ज़रूरी: मोदी सरकार के आदेश पर भड़के...

जब से जम्मू कश्मीर का पुनर्गठन हुआ है, तब से वहाँ चुनाव नहीं हो पाए हैं। मगर जब भी सरकार का गठन होगा तब सबसे अधिक शक्तियाँ राज्यपाल के पास होंगी। ये शक्तियाँ ऐसी ही हैं, जैसे दिल्ली के एलजी के पास होती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -