Sunday, May 19, 2024
Homeदेश-समाजशरिया की शिक्षा देने के लिए वेब सीरीज, अंग्रेजी और उर्दू में लीगल जर्नल...

शरिया की शिक्षा देने के लिए वेब सीरीज, अंग्रेजी और उर्दू में लीगल जर्नल भी: मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का निर्णय

मुस्लिमों और इस्लाम के मामलों में सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट्स ने किस तरह के फैसले सुनाए हैं, उसके बारे में लोगों को शिक्षित किया जाएगा। 'शरिया को लेकर जागरूकता फैलाने' वाली वेब सीरीज से...

‘ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB)’ अब मुस्लिमों को शरिया कानून का पाठ पढ़ाने के लिए वेब सीरीज बनाएगा। साथ ही उर्दू और अंग्रेजी में इसके लिए जर्नल भी लॉन्च किए जाने की योजना तैयार की गई है।

AIMPLB ने सोमवार (फरवरी 22, 2021) को इसकी घोषणा की। मुस्लिमों और इस्लाम के मामले में अदालतों द्वारा किए गए जजमेंट्स के बारे में भी ‘जागरूकता’ फैलाई जाएगी। संस्था के अध्यक्ष मोहम्मद रबी हसन नवेदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में ये फैसला लिया गया।

AIMPLB की वर्किंग कमिटी ने ‘शरिया को लेकर जागरूकता फैलाने’ वाली वेब सीरीज बनाने पर मुहर लगाई। साथ ही दो भाषाओं में कानूनी जर्नल के प्रकाशन का निर्णय लिया गया। संस्था के महासचिव सैयद मोहम्मद वली रहमानी ने कहा कि इस सीरीज को इंटरव्यू-डिस्कशन फॉर्मेट में बनाया जाएगा। इसमें चर्चाएँ होंगी, विशेषज्ञों से बातें होंगी।

उन्होंने कहा कि मुस्लिमों और इस्लाम के मामलों में सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट्स ने किस तरह के फैसले सुनाए हैं, उसके बारे में लोगों को शिक्षित किया जाएगा। उन्होंने दावा किया कि आम आदमी को शिक्षित बनाने के लिए न सिर्फ शरिया, बल्कि भारत के कानूनों को लेकर भी इस वेब सीरीज को जानकारी दी जाएगी।

बोर्ड के सदस्य आसमाँ ज़हरा को इस वेब सीरीज का खाका तैयार करने के लिए कहा गया है। बोर्ड में शामिल अधिवक्ताओं, जैसे युसूफ हातिम मुछाला, ज़फ़रयाब जिलानी और एमआर शमशाद जैसों ने इस फैसले का समर्थन किया है और कहा है कि वो अपना समय देंगे।

लीगल जर्नल को लेकर योजना तैयार करने का टास्क शमशाद को ही दिया गया है। पूरे देश में वक़्त की संपत्तियों की सुरक्षा के लिए अभियान चलाने पर भी मुहर लगाई गई। बोर्ड ने कहा कि वक़्फ़ की संपत्तियों को बेचने की कोशिशों को कामयाब नहीं होने दिया जाएगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -