Sunday, June 26, 2022
Homeदेश-समाजअपने परिवार को बाढ़ में फँसा छोड़, सेना के अधिकारी ने बचाई 100 लोगों...

अपने परिवार को बाढ़ में फँसा छोड़, सेना के अधिकारी ने बचाई 100 लोगों की जान: सेना ने की तारीफ, बताया- ये निस्वार्थ सेवा का असाधारण उदाहरण

"सेना द्वारा बाढ़ बचाव अभियान के दौरान, समर्पित अधिकारी ने अपने परिवार के सदस्यों के फँसे होने के बावजूद सौ से अधिक लोगों की जान बचाई।"

देश भर में भारत सरकार के अग्निपथ स्कीम के विरोध के बीच एक बार फिर से सेना ने देश सेवा के जज्बे को दिखाया है। बाढ़ प्रभावित असम में भारतीय सेना के अधिकारी कैप्टन दास ने खुद से पहले दूसरों की सेवा का अनुपम उदाहरण पेश किया है। रूपम दास का खुद का परिवार बाढ़ में फँसा हुआ था, लेकिन उन्होंने इसकी परवाह किए बिना ही 100 से भी अधिक लोगों की जान बचाई।

असमी आर्मी के सैन्य अधिकारी रूपम दास विनाशकारी बाढ़ का सामना कर रहे अपने गृह राज्य में बाढ़ग्रस्त इलाकों में बचाव अभियान चला रहे हैं। असम के पाठशाला के रहने वाले दास के प्रयासों की सराहना करते हुए सेना ने रविवार को कहा, “सेना द्वारा बाढ़ बचाव अभियान के दौरान, समर्पित अधिकारी ने अपने परिवार के सदस्यों के फँसे होने के बावजूद सौ से अधिक लोगों की जान बचाई।”

बयान में कहा गया, “उनकी कार्रवाई मानवता और राष्ट्र के लिए निस्वार्थ सेवा का एक असाधारण उदाहरण है। इस तरह के प्रेरक कार्य असाधारण मानवीय मूल्यों और मजबूत सैन्य सौंदर्य को प्रकट करते हैं और देश के युवाओं में मूलभूत गुणों को प्रदर्शित करते हैं।”

गौरतलब है कि असम में बाढ़ के हालात को देखते हुए चार दिन पहले बचाव अभियान के लिए सेना की टुकड़ियों को उतारा गया था। सेना की चौदहवीं बटालियन ने प्रदेश के सात जिलों में 4,500 से अधिक लोगों को बचाया है। वहीं रविवार को नौ और लोगों की मौत हो गई थी। इनमें से 6 की बाढ़ और तीन की लैंड स्लाइड की चपेट में आने से मौत हुई थी। इसी के साथ मरने वालों की कुल संख्या 71 हो गई।

बता दें कि असम की बाढ़ में 33 जिलों में 42.28 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। रेलवे ने कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है। मीडिया ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में बनाए गए 223 शिविरों में से 44 में पानी आ गया है।

इससे पहले रविवार को भी डिब्रूगढ़ में ब्रह्मपुत्र नदी में एक नाव के पलट जाने से चार लोगों के लापता होने की खबर सामने आई थी। असम के अलावा मेघालय भी बाढ़ और भूस्खलन से बुरी तरह प्रभावित हुआ है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत जल्द बनेगा $30 ट्रिलियन की इकोनॉमी’ : देश का मजाक उड़वाने के लिए NDTV ने पीयूष गोयल के बयान से की छेड़छाड़, पोल...

एनडीटीवी ने झूठ बोलकर पाठकों को भ्रमित करने का काम अभी बंद नहीं किया है। हाल में इस चैनल ने भाजपा नेता पीयूष गोयल के बयान को तोड़-मरोड़ के पेश किया।

’47 साल पहले हुआ था लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास’: जर्मनी में PM मोदी ने याद दिलाया आपातकाल, कहा – ये इतिहास पर काला...

"आज भारत हर महीनें औसतन 500 से अधिक आधुनिक रेलवे कोच बना रहा है। आज भारत हर महीने औसतन 18 लाख घरों को पाइप वॉटर सप्लाई से जोड़ रहा है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,523FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe