Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाज'मना करते ही उसने मेरे स्तनों को पकड़ लिया...' : छेड़खानी करने वाले स्कूटी...

‘मना करते ही उसने मेरे स्तनों को पकड़ लिया…’ : छेड़खानी करने वाले स्कूटी सवार को भावना ने ऐसे सिखाया सबक

"जैसे ही ये शब्द मेरे मुँह से निकले, उसने मेरे गुप्तांगों (स्तनों) को पकड़ लिया। एक सेकंड के लिए, मुझे समझ में नहीं आया कि अभी क्या हुआ था।"

असम के गुवाहाटी में एक स्कूटी सवार ने रास्ता पूछने के बहाने महिला से छेड़छाड़ की। महिला ने इसका विरोध करते हुए आरोपित की स्कूटी को नाले में धकेल उसे भागने से रोका। पीड़िता ने पूरी घटना फेसबुक पोस्ट के माध्यम से बताई है और अब सोशल मीडिया पर उसके हौसले की तारीफ हो रही।

घटना गुवाहाटी के डाउन टाउन के रुक्मिणी नगर इलाके की है। भावना कश्यप नाम की महिला ने फेसबुक पोस्ट के जरिए घटना के बारे में बताया है। भावना ने लिखा कि जब वो सड़क पर जा रही थीं तब सामने से स्कूटर सवार एक व्यक्ति ने उनसे एक पता पूछा। पहली बार में भावना उसे सुन नहीं पाईं तब वह व्यक्ति उनके करीब आ गया। उसने भावना से सिनाकी पथ के बारे में पूछा जिसके बारे में उन्हें जानकारी नहीं थी और स्कूटी सवार को पता बता पाने में असमर्थता जताई।

भावना ने बताया है कि उनके मना करते ही स्कूटी सवार ने उनके स्तनों को पकड़ लिया। उन्होंने लिखा है, “जैसे ही ये शब्द मेरे मुँह से निकले, उसने मेरे गुप्तांगों (स्तनों) को पकड़ लिया। एक सेकंड के लिए, मुझे समझ में नहीं आया कि अभी क्या हुआ था।” भावना ने छेड़खानी करने वाले का नाम मधुसन राजकुमार बताया है।

भावना ने लिखा है कि इसके बाद उस व्यक्ति ने भागने की कोशिश की लेकिन उन्होंने उसे पकड़ लिया। उन्होंने उसकी स्कूटी को पीछे से उठा लिया और वह लगातार एक्सिलरेटर दबाए जा रहा था। अंततः भावना ने उसकी स्कूटी नाली में धकेल दी जिसके कारण वह भागने में असफल रहा।

भावना ने अपनी पोस्ट में असम पुलिस को भी धन्यवाद दिया है जो समय पर मौके पर पहुँच गई और स्थिति को सँभाल लिया। आरोपित के खिलाफ दिसपुर स्टेशन में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। भावना ने आशा जताई है कि असम पुलिस आरोपित के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी और महिलाओं के लिए न्याय एवं सशक्तिकरण का एक उदाहरण पेश करेगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -