Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजबीफ लेकर स्कूल पहुँचीं महिला प्रिंसिपल दलीमा, बच्चों के मीड डे मील में भी...

बीफ लेकर स्कूल पहुँचीं महिला प्रिंसिपल दलीमा, बच्चों के मीड डे मील में भी बाँटने को कहा: स्थानीय लोगों की शिकायत के बाद गिरफ्तार

दलीमा नेसा बीफ को अपने घर से बना कर ले गई थीं। उन्होंने स्कूल में मिड डे मील बनाने वाले वर्कर्स से उसे बच्चों में बाँटने के लिए कहा। उन बच्चों में कई हिन्दू समुदाय के छात्र भी थे।

असम में गोलपारा जिले में एक सरकारी स्कूल की प्रिंसिपल को लंच में बीफ लाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपिता प्रिंसिपल का नाम दलीमा नेसा है। वह मुस्लिम समुदाय से हैं और लखीमपुर के सरकारी स्कूल में पोस्टेड थीं। उनके खिलाफ स्थानीय लोगों ने शिकायत की थी। यह घटना 14 मई 2022 (शनिवार) की है। प्रिंसिपल की गिरफ्तारी मंगलवार (17 मई 2022) को हुई है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, दलीमा नेसा बीफ को अपने घर से बना कर ले गई थीं। उन्होंने स्कूल में मिड डे मील बनाने वाले वर्कर्स से उसे बच्चों में बाँटने के लिए कहा। उन बच्चों में कई हिन्दू समुदाय के छात्र भी थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आरोपिता प्रिंसिपल की उम्र 56 साल है। पुलिस को दी गई शिकायत में कहा गया है कि दलीमा की हरकत से स्कूल के बाकी सदस्यों को समस्या हुई। शिक्षा विभाग के एक अधिकारी के मुताबिक प्रिंसिपल के खिलाफ ब्लॉक स्तरीय जाँच भी शुरू कर दी गई है। वहीं 2 दिनों की सरकारी छुट्टी के चलते दलीमा का निलंबन आदेश जारी नहीं किया जा सका था।

बता दें कि अब तक हुई जाँच में सामने आया है कि महिला प्रिंसिपल लंच में चिकन और बीफ दोनों ले कर आई थी। यह माँस बाहर से प्रोग्राम में आने वाले लोगों को परोसा जाना था। बाहर से आने वाले लोग और महिला प्रिंसिपल एक ही समुदाय से हैं। हालाँकि, रसोइए ने इसे परोसने से मना कर दिया था। बाद में यह खबर स्कूल के अन्य स्टाफ को पता चली और देखते ही देखते बाहर फैल गई और लोग भड़क गए। बाद में स्कूल मैनेजमेंट कमेटी ने इसकी शिकायत पुलिस में की।

फिलहाल महिला प्रिंसिपल न्यायिक हिरासत में है। शिक्षा विभाग के मुताबिक दलीमा निस्सा लगभग डेढ़ साल से हेडमास्टर के पद पर हैं। उनके रिटायरमेंट में लगभग 4 साल बचे हैं। दलीमा नेस्सा पर IPC की धारा 153-A (2 समुदायों के बीच द्वेष फैलाने) और 295-A (किसी की धार्मिक भावनाएँ आहत करने) की धाराओं में केस दर्ज किया गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -