Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाज70 नहीं, अब 107 एकड़ में होंगे रामलला विराजमान: 7285 वर्ग फुट जमीन और...

70 नहीं, अब 107 एकड़ में होंगे रामलला विराजमान: 7285 वर्ग फुट जमीन और खरीदी गई

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र की और अधिक भूमि अधिग्रहण करने की योजना है। इसके लिए वह राम मंदिर परिसर से सटे मंदिरों, घरों और खुली भूमि के मालिकों के साथ बातचीत कर रहे हैं।

अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण अब 70 एकड़ की जगह 107 में एकड़ में किया जाएगा। ताजा जानकारी के अनुसार, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने परिसर के आसपास की 7,285 वर्ग फुट ज़मीन खरीदी है। यह जमीन अशर्फी भवन के बगल में स्थित है।

भव्य राम मंदिर के निर्माण का जिम्मा पाने वाले राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने 1 करोड़ रुपए में 7, 285 स्क्वॉयर फीट जमीन खरीदी है। इस भूमि के लिए प्रति फुट 1, 373 रुपए दिए गए हैं। ट्रस्टी अनिल मिश्रा ने बताया, “हमने जमीन खरीदी क्योंकि भव्य मंदिर निर्माण के लिए हमें इसकी जरूरत थी”

पूरी डेवलपमेंट के बारे में बात करते हुए, फैजाबाद के उप-पंजीयक एसबी सिंह ने बताया कि जमीन के मालिक दीप नरैन ने ट्रस्ट के सचिव चंपत राय के पक्ष में 7,285 वर्ग फुट भूमि की रजिस्ट्री के दस्तावेजों पर 20 फरवरी को हस्ताक्षर किए। मिश्रा और अपना दल के विधायक इंद्र प्रताप तिवारी ने गवाह के तौर पर दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किए। फैजाबाद के उप-पंजीयक एसबी सिंह के कार्यालय में ही यह रजिस्ट्री की गई। तिवारी ने कहा, “मै सौभाग्यशाली था कि मुझे राम मंदिर ट्रस्ट की पहली खरीद का हिस्सा बनने का सौभाग्य मिला।”

खबरों के अनुसार, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र की और अधिक भूमि अधिग्रहण करने की योजना है। इसके लिए वह राम मंदिर परिसर से सटे मंदिरों, घरों और खुली भूमि के मालिकों के साथ बातचीत कर रहे हैं।

हाल में खबर आई थी कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र के खाते में 1,511 करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं, जिसे श्रीराम मंदिर निधि समर्पण अभियान के तहत इकट्ठा किया गया था। इस अभियान को 15 जनवरी को ट्रस्ट ने शुरू किया था। इस पूरे अभियान में ट्रस्ट को सभी ने अपने-अपने सामर्थ्य अनुसार चंदा दिया था। इस दौरान कई जगहों पर विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल कार्यकर्ताओं पर हमला भी भी हुआ।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe