Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाज'मंदिर वहीं बनाएँगे': अयोध्या में मंदिर निर्माण का संकल्प लेकर सोमनाथ से चले आडवाणी...

‘मंदिर वहीं बनाएँगे’: अयोध्या में मंदिर निर्माण का संकल्प लेकर सोमनाथ से चले आडवाणी का वह ऐतिहासिक भाषण

नेताओं से रथयात्रा को नहीं रोकने का आग्रह करते हुए आडवाणी ने कहा था, "आप से तो इतनी ही आशा है कि बीच में मत पड़ो। रास्ते मे मत आओ। क्योंकि यह जो रथ है, लोकरथ है। जनता का रथ है।"

राम मंदिर आंदोलन में दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी की भूमिका को कोई नहीं भूल सकता। सोशल मीडिया पर बाबरी मस्जिद विध्वंस की 28वीं वर्षगाँठ पर प्रसिद्ध रथ यात्रा के दौरान दिया गया उनका आइकॉनिक भाषण काफी वायरल हो रहा है।

1990 में सोमनाथ से शुरू हुए प्रसिद्ध रथ यात्रा के दौरान, आडवाणी ने बिहार के तत्कालीन सीएम लालू प्रसाद यादव सहित उन सभी लोगों पर तीखा हमला किया, जिन्होंने प्रसिद्ध रथ यात्रा को रोकने की पूरी कोशिश की थी।

आडवाणी ने रथ यात्रा के दौरान अपने एक भाषण में कहा था, लोग कहते है कि आप अदालत का फैसला क्यों नहीं मानते? अदालत क्या इस बात का फैसला करेगी कि यहाँ श्री राम का जन्म हुआ था कि नहीं हुआ था?” नेताओं से रथयात्रा को नहीं रोकने का आग्रह करते हुए आडवाणी ने कहा था, “आप से तो इतनी ही आशा है कि बीच में मत पड़ो। रास्ते मे मत आओ। क्योंकि यह जो रथ है, लोकरथ है। जनता का रथ है।” आडवाणी ने उस वक़्त कहा था, “मंदिर वहीं बनाएँगे। उसको कौन रोकेगा। कौन सी सरकार रोकने वाली है?”

बता दें राम मंदिर निर्माण को लेकर समर्थन जुटाने के लिए आडवाणी ने 25 सितंबर, 1990 को गुजरात के सोमनाथ से रथयात्रा शुरू की, जिसे विभिन्न राज्यों से होते हुए 30 अक्तूबर को अयोध्या पहुँचना था। हालाँकि इस दौरान यात्रा में कई उतार-चढ़ाव आए यात्रा को बीच में ही रोक दिया गया। देश के कई हिस्सों में काफी हिंसा हुई। बिहार पहुँचने के बाद आडवाणी को तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के आदेश पर 23 अक्टूबर को समस्तीपुर में गिरफ्तार कर लिया गया था।

2 साल के भीतर भव्य राम मंदिर होगा जाएगा तैयार

6 दिसंबर, 1992 को अचानक से हुई एक घटना में कारसेवकों ने अयोध्या में विवादित ढाँचे को ध्वस्त कर दिया था। वहीं सालों से चल रहा भूमि विवाद आखिरकार 9 नवंबर, 2019 को समाप्त हुआ, जब भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने रामलला के पक्ष में निर्णय दिया और राम मंदिर के निर्माण की अनुमति दे दी। 5 अगस्त, 2020 को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मंदिर का शिलान्यास किया गया। उम्मीद है कि 2 साल के भीतर भव्य रामलला का मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा।

लाखों लोगों का संघर्ष कि ‘मंदिर वहीं बनाएँगे’ से ‘मंदिर वहीं बन रहा है’ पूरा हो रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe