Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजसपा नेता आज़म ख़ान ने की समुदाय के लिए 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग

सपा नेता आज़म ख़ान ने की समुदाय के लिए 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग

इसके अलावा उनका ये भी बयान आ चुका है कि समुदाय को अनूसुचित जाति की सूची में रख देना चाहिए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गरीब और सुविधाओं से वंचित रहने वाले सामान्य वर्ग को शिक्षा और नौकरी के क्षेत्र में दिया जाने वाला आरक्षण का फैसला अभी आया ही है, कि सभी विरोधी पार्टियों में हड़कंप मच गया है।

ज़ी न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आज़म ख़ान ने डिमांड की है कि 10 प्रतिशत सवर्णों को मिलने वाले आरक्षण में से 5 प्रतिशत समुदाय विशेष के लिए आरक्षण होना चाहिए।

रिपोर्टों के अनुसार विवादस्पद बयानों के लिए पहचाने जाने वाले आजम ख़ान ने प्रधानमंत्री मोदी से नई आरक्षण पॉलिसी पर सवाल किया है और साथ में बयान दिया है कि हाल ही में हुए चुनावों में ‘भारी हार’ के बाद BJP ने अपने हित में इस नई आरक्षण नीति को लेकर आए हैं। आजम ख़ान ने प्रधानमंत्री मोदी से सवाल किया है कि 10 प्रतिशत मिलने वाले सवर्णों को आरक्षण में समुदाय के लिए कितना कोटा आरक्षित है।

“अगर देश की दूसरी सबसे ज़्यादा आबादी वाली जनसंख्या के लिए इस नई आरक्षण की नीति में किसी प्रकार का कोई विचार नहीं है तो इस आरक्षण का आखिर मतलब ही क्या है?” आज़म ख़ान के अनुसार एक बार फिर चुनावों के दौरान साम्प्रादायिकता का खेल खेला गया है। उनका कहना है कि ये कोई मास्टरस्ट्रोक नहीं है, उन्होंने सिर्फ माँग की है कि उन्हें भी 5 प्रतिशत आरक्षण की तरज़ीह दी जानी चाहिए।

आज़म ख़ान का कहना है कि समुदाय को आरक्षण पहले ही दे दिया जाना चाहिए था। हालाँकि, ये बहुत देर हो गई है कि उनके लिए आगे आरक्षण का प्रस्ताव रखा जाए। गौरतलब है, कि इसके अलावा उनका ये भी बयान आ चुका है कि समुदाय को अनूसुचित जाति की सूची में रख देना चाहिए क्योंकि हमारे देश में दूसरे समुदाय के हालात अच्छे नहीं हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe