Tuesday, April 13, 2021
Home देश-समाज मौत के बाद भी इरफान पर टूट पड़े थे इस्लामी कट्टरपंथी, बेटा बाबिल बन...

मौत के बाद भी इरफान पर टूट पड़े थे इस्लामी कट्टरपंथी, बेटा बाबिल बन गया ‘डरा हुआ मुस्लिम’

इरफान खान की दुखद मौत के बाद भी इस्लामिक कट्टरपंथी अपनी मजहबी घृणा का प्रदर्शन करने से बाज नहीं आए थे। इसकी वजह है इरफ़ान खान द्वारा इस्लाम की कुरीतियों और मजहबी कट्टरता पर बेबाकी से रखे गए विचार थे।

दिवंगत अभिनेता इरफान खान के बेटे बाबिल इन दिनों सोशल मीडिया पर ‘डरे हुए मुस्लिम’ की तरह बर्ताव कर रहे हैं। वह सोशल मीडिया पर बता रहे हैं कि अगर वह सत्ताधारियों के ख़िलाफ़ लिखेंगे तो उनका करियर खतरे में पड़ जाएगा।

अपने इंस्टाग्राम पर बाबिल खान ने लगातार कुछ पोस्ट डाले हैं। इनमे पढ़ा जा सकता है कि रक्षाबंधन के लिए छुट्टी और बकरीद के लिए छुट्टी न पाकर वह निराश हैं। वह लिखते हैं कि यह सब हमारे देश की सेकुलर रचना के ख़िलाफ़ है। बाबिल लिखते हैं कि वे नहीं चाहते कोई उन्हें उनके मजहब से जज करे। वह भी अन्य भारतीयों की तरह ही मनुष्य हैं।

इरफान खान के बेटे को दुख ये है कि बकरीद जो शुक्रवार को पड़ रही है उसकी छुट्टी निरस्त कर दी गई है, जबकि रक्षा बंधन जो सोमवार को पड़ रहा है उसकी छुट्टी दी जा रही है। उनका यह भी दावा है कि सेकुलर भारत में इस तरह धार्मिक विभाजन बहुत खतरनाक हो रहा है। आगे वे बताते हैं कि उनके दोस्तों ने उनके मजहब के कारण उनसे बात करना बंद कर दिया है।

अब इस मामले में दिलचस्प बात ये है कि जिस देश और सरकार से वह बकरीद की छुट्टी न मिलने पर मलाल मना रहे है, उसी देश की केंद्र सरकार ने सरकारी छुट्टियों में ईद उल अधा को शामिल किया है। लेकिन रक्षाबंधन इस सूची में शामिल नहीं है।

हम देख सकते हैं कि 14 सरकारी छुट्टियों के बीच 4 छुट्टियाँ इस्लामिक त्योहार पर दी गई है। इनमे 3 ईद और 1 मुहर्रम की हैं। जबकि हिंदुओं के पर्वों में सिर्फ़ दिवाली को सरकारी छुट्टियों में रखा गया है। होली भी यहाँ वैकल्पिक छुट्टियों की सूची में है। वहीं, राखी को ये भी स्थान प्राप्त नहीं है।

इसके बावजूद भी बाबिल लिख रहे हैं कि जो लोग सत्ता में है वह धार्मिक विभाजन करवा रहे हैं। हम देख सकते हैं कि महाराष्ट्र सरकार ने 2020 की छुट्टियों की सूची में बकरीद को सरकारी छुट्टियों की लिस्ट में डाला हुआ है। बावजूद इसके कि वो 1 अगस्त यानी शनिवार के दिन पड़ रही है। लेकिन राखी इस लिस्ट में नहीं है।

ऐसे में शनिवार के दिन पड़ने वाली ईद के लिए सरकार को दोषी ठहराना आखिर कहाँ तक उचित है। वो भी तब जब ये त्योहार पूरी तरह से चाँद दिखने पर निर्भर करता हो और जामा मस्जिद के शाही मौलवी तक ने इसके लिए 1 अगस्त की तारीख को सुनिश्चित किया हो।

उल्लेखनीय है कि इरफान खान की दुखद मौत के बाद भी इस्लामिक कट्टरपंथी अपनी मजहबी घृणा का प्रदर्शन करने से बाज नहीं आए थे। इसकी वजह है इरफ़ान खान द्वारा इस्लाम की कुरीतियों और मजहबी कट्टरता पर बेबाकी से रखे गए विचार थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के 15,000 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल हुए अंग्रेजी मीडियम, मिशनरी स्कूलों को दे रहे मात

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे भी मिशनरी व कांवेंट स्कूलों के छात्रों की तरह फर्राटेदार अंग्रेजी बोल सकें। इसके लिए राज्य के 15 हजार स्कूलों को अंग्रेजी मीडियम बनाया गया है, जहाँ पढ़ कर बच्चे मिशनरी स्कूल के छात्रों को चुनौती दे रहे हैं।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।

दिल्ली में नवरात्र से पहले माँ दुर्गा और हनुमान जी की प्रतिमाओं को किया क्षतिग्रस्त, सड़क पर उतरे लोग: VHP ने पुलिस को चेताया

असामाजिक तत्वों ने न सिर्फ मंदिर में तोड़फोड़ मचाई, बल्कि हनुमान जी की प्रतिमा को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। बजरंग दल ने किया विरोध प्रदर्शन।

कालीन के अंदर कब तक छिपाते रहेंगे मुहम्मदवाद के खतरे… आज एक वसीम रिजवी है, एक यति नरसिंहानंद हैं; कल लाखों होंगे

2021 में भी समाज को 600 ईस्वी की रिवायतों से चलाने की क्या जिद है, धरती को चपटा मानने की और बुराक घोड़े को जस का तस स्वीकारने की क्या जिद है।

‘कॉन्ग्रेस में शरीफ होना पाप, प्रशांत किशोर की फौज को खुश कर मिलता है टिकट’: पंजाब के पार्टी नेता ने खोले राज

बंगाल में ममता बनर्जी की संभावित हार से पीछे छुड़ाने की कोशिश में लगे प्रशांत किशोर के लिए पंजाब की राह भी आसान नहीं दिखती।

जलियाँवाला नरसंहार वाले जनरल डायर का स्वर्ण मंदिर में सिरोपा दे हुआ था सम्मान, अमरिंदर के पुरखे भी थे अंग्रेजों के वफादार

जलियाँवाला बाग़ नरसंहार के बारे में कौन नहीं जानता। यह नरसंहार अंग्रेज अधिकारी जनरल रेजिनाल्ड एडवर्ड डायर के आदेश पर हुआ था। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि अकाल तख़्त ने उसे सिरोपा देकर सम्मानित किया था।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!

जहाँ खालिस्तानी प्रोपेगेंडाबाज, वहीं मन की बात: क्लबहाउस पर पंजाब का ठेका तो कंफर्म नहीं कर रहे थे प्रशांत किशोर

क्लबहाउस पर प्रशांत किशोर का होना क्या किसी विस्तृत योजना का हिस्सा था? क्या वे पंजाब के अपने असायनमेंट को कंफर्म कर रहे थे?
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,176FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe