Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजगो तस्करों से लड़ते थे सुजीत सोनी, जंगल में युवती के साथ मिली लाश:...

गो तस्करों से लड़ते थे सुजीत सोनी, जंगल में युवती के साथ मिली लाश: बजरंग दल नेता की ‘मौत’ पर पुलिस थ्योरी से भड़के स्थानीय, कहा- जानवरों की बिछाई तारों ने ली जान

कुछ दिन पहले बजरंग दल के सह संयोजक सुजीत सोनी की और युवती की हत्या का मामला सामने आया था। पहले रिपोर्टों में बताया गया था कि आरोपितों ने बजरंग दल के सह संयोजक को इतना पीटा की उनकी हड्डियाँ टूट गईं। वहीं उनका गला काटने की भी कोशिश की गई। अब पुलिस कह रही है कि कुछ लोगों ने जंगल में शिकार के लिए तारें बिछाई थीं, उसी में फँसने से उनकी मौत हुई।

छत्तीसगढ़ के बलरामपुर में रविवार (26 मई 2024) रात बजरंग दल के सह-संयोजक सुजीत सोनी और एक 22 साल की शादीशुदा महिला की हत्या के मामले में पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। ये लोग बड़कीमहरी के रहने वाले हैं। पुलिस ने इनकी गिरफ्तारी के बाद एक थ्योरी दी है, जिसे सुन बजरंग दल के कार्यकर्ता और नगरवासी संतुष्ट नहीं हैं।

पुलिस ने इस मामले में 3 लोगों को पकड़कर बताया कि इन आरोपितों ने जंगली जानवर का शिकार करने के लिए डुमरखी जंगल में तरंगित तारों को बिछाया था। इसी की चपेट में आकर बजरंग दल सह-संयोजक और महिला की मौत हो गई।

पुलिस के अनुसार, इन आरोपितों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। साथ ही इनकी बताई जगह से तार, खुंटी, लाठी और अन्य सामान भी बरामद हुआ है। हालाँकि पुलिस द्वारा लिए गए एक्शन से अन्य नगरवासी संतुष्ट नहीं हैं। उन्होंने हत्या के इस मामले में पुलिस पर लीपापोती का आरोप लगाते हुए चक्काजाम करके प्रदर्शन किया। इस दौरान टायर जलाकर विरोध किया गया।

वहीं राज्य मंत्री रामविचार नेताम ने इस मामले में एक प्रेस रिलीज जारी की है। उन्होंने कहा है कि यह घटना दुखद है। अगर इस मामले में पुलिस की जाँच से पीड़ित परिवार संतुष्ट नहीं है तो मामले में उच्च स्तरीय जाँच कराई जाएगी। इसके साथ ही सारी हर संभव मदद प्रदान की जाएगी।

बता दें कि रविवार (26 -27 मई) रात को बजरंग दल के सह संयोजक सुजीत सोनी की और युवती की हत्या का मामला सामने आया था। 5 दिन पहले की रिपोर्टों में बताया गया था कि आरोपितों ने बजरंग दल के सह संयोजक को इतना पीटा की उनकी हड्डियाँ टूट गईं। वहीं उनका गला काटने की भी कोशिश की गई। बाद में शव को डुमरखी ढाबे से 100 मीटर दूर जंगल में फेंका गया।

इसमें बजरंग दल सह-संयोजक के साथ जो महिला का शव मिला था उसकी पहचान किरण काशी की थी। शुरू में पुलिस ने कहा था कि युवक-युवती को मारने के बाद युवती के शव को जलाने का भी प्रयास हुआ था। आशंका जताई जा रही थी कि ये मामला पुलिस प्रसंग का हो सकता है या फिर गौ तस्करी से संबंधित। पुलिस ने हर एंगल से जाँच करने की बात इस मामले में कही थी। लेकिन ‘शिकार’ वाला एंगल पता चलने के बाद इसी पर गिरफ्तारी हुई।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -