Thursday, July 29, 2021
Homeदेश-समाज'तुम्हारी साँस बदबूदार है, इसलिए गले नहीं लगाऊँगा' - इस बात पर नबी ने...

‘तुम्हारी साँस बदबूदार है, इसलिए गले नहीं लगाऊँगा’ – इस बात पर नबी ने शोएब को मारा चाकू

मामला यहीं शांत नहीं हुआ। जब घायल शोएब ने अपने भाई शाहिद को मदद के लिए बुलाया, तो नबी ने भागने से पहले ही उसे भी चाकू मार दिया।

बात-बात पर मामला झगड़े, मारपीट और यहाँ तक कि हत्या तक पहुँच जाना आम हो चला है। ताजा मामला तमिलनाडु का है और कहानी दो दोस्त, शोएब पाशा और नबी की है। दोनों किसी जगह मिलते हैं लेकिन एक दोस्त का दूसरे को गले लगाने से इनकार करना इतनी बड़ी वजह बन गई कि दो को छुरा घोंप दिया गया। घटना बेंगलुरु के मावली इलाके में एलबीएफ रोड की है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पूरा मामला कुछ यूँ है कि जब नबी ने शोएब को गले लगाने की कोशिश की, तो शोएब ने नबी की बदबूदार साँसों के कारण उसे धक्का दे दिया। यह बात नबी के दिल पर लग गई। फिर क्या था, नबी ने शोएब को गाली देना शुरू कर दिया जिसके कारण दोनों के बीच झगड़ा होने लगा जो रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था। टकराव बढ़ने पर नबी ने चाकू निकाला और सीधा शोएब के पेट में घोंप दिया।

मामला यहीं शांत नहीं हुआ। जब घायल शोएब ने अपने भाई शाहिद को मदद के लिए बुलाया, तो नबी ने भागने से पहले ही उसे भी चाकू मार दिया।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, बेंगलुरु पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 307 (हत्या की कोशिश) के तहत नबी के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

फिलहाल, ऑटोमोबाइल के सामान की दुकान पर काम करने वाले नबी को मंगलवार (जुलाई 2, 2019) को गिरफ्तार कर लिया गया और उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

इस बीच, खबर यह है कि शोएब और उसके भाई शाहिद का निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है और वो खतरे से बाहर है। सोचिए, साँसों की महक भी कितना बवाल कर सकती है। चाकूबाजी से हवालात तक का सफर तय हो गया इस छोटी सी वजह से।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना से अनाथ हुई लड़कियों के विवाह का खर्च उठाएगी योगी सरकार: शादी से 90 दिन पहले/बाद ऐसे करें आवेदन

योजना का लाभ पाने के लिए लड़कियाँ खुद या उनके माता/पिता या फिर अभिभावक ऑफलाइन आवेदन करेंगे। इसके साथ ही कुछ जरूरी दस्तावेज लगाने आवश्यक होंगे।

बंगाल की गद्दी किसे सौंपेंगी? गाँधी-पवार की राजनीति को साधने के लिए कौन सा खेला खेलेंगी सुश्री ममता बनर्जी?

ममता बनर्जी का यह दौरा पानी नापने की एक कोशिश से अधिक नहीं। इसका राजनीतिक परिणाम विपक्ष को एकजुट करेगा, इसे लेकर संदेह बना रहेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,780FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe