केजरीवाल के हारने की ‘खुशी’ में हुआ भंडारे का आयोजन, लोगों ने कहा Amazing!

पोस्टर में केजरीवाल के भ्रष्ट होने के मामले को उठाया गया है। इसमें लिखा है कि भ्रष्टाचार मिटाने के नाम पर दिल्ली की सत्ता में आए केजरीवाल खुद भ्रष्ट हो गए हैं।

लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों ने भाजपा और उसके सहयोगी दलों को छोड़कर लगभग हर राजनैतिक पार्टी को निराश किया। बिहार से लेकर बंगाल तक कई नेताओं की जमानत जब्त हो गई। यही हाल आम आदमी पार्टी के नेताओं का भी हुआ। दिल्ली और पंजाब मिलाकर आम आदमी पार्टी को सिर्फ़ एक सीट मिली। लोगों के मुताबिक पार्टी की ये दशा केजरीवाल के घमंड के कारण हुई है।

दिल्ली से लेकर पंजाब में लोगों के भीतर उनके प्रति कड़ी नाराज़गी देखने को मिलती थी। जनता को तो छोड़ दीजिए उनकी अपनी पार्टी के नेता ही उनके रवैये के कारण उनसे मुँह मोड़ने लगे थे। केजरीवाल के प्रति गुस्सा सोशल मीडिया पर तो देखने को मिलता ही था लेकिन किसी ने ये नहीं सोचा था कि केजरीवाल से जनता इतनी खिन्न है कि उनकी हार की खुशी में भंडारा करवा देगी।

जी हाँ! दिल्ली में केजरीवाल की हार पर भंडारे का आयोजन किया गया। सोशल मीडिया पर जैसे ही एक यूजर ने इस भंडारे की तस्वीर को ट्वीट किया बाकी लोगों ने मजे लेने शुरू कर दिए। भंडारे के पोस्टर पर लिखा था कि दिल्ली व पंजाब के मतदाताओं ने केजरीवाल के घमंड को किया चकनाचूर।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पोस्टर के मुताबिक भंडारे का आयोजन कराने वाली समाज सेविका सिमरनजीत कौर बेदी हैं। हालाँकि सिर्फ़ इस पोस्टर से भंडारे के आयोजन की खबर की प्रामाणिकता सिद्ध नहीं होती है, लेकिन तस्वीर को देखते ही सोशल मीडिया पर लोग इसपर चुटकी ले रहे हैं। पोस्टर में केजरीवाल के भ्रष्ट होने के मामले को उठाया गया है। इसमें लिखा है कि भ्रष्टाचार मिटाने के नाम पर दिल्ली की सत्ता में आए केजरीवाल खुद भ्रष्ट हो गए हैं।

इस ट्वीट पर कई लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। किसी ने कहा कि भंडारे का प्रसाद केजरीवाल को जरूर पहुँचा देना। तो किसी ने केजरीवाल के शब्दों को रिट्वीट कर दिया जिसमें उन्होंने कहा था, “Just amazing response. Unbelievable. कुछ अद्भुत ही हो रहा है। Its all divine” इस पोस्ट पर अभी तक 273 रिट्वीट हो चुके हैं और हजार से ज्यादा लोगों ने इसे लाइक किया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

बड़ी ख़बर

SC और अयोध्या मामला
"1985 में राम जन्मभूमि न्यास बना और 1989 में केस दाखिल किया गया। इसके बाद सोची समझी नीति के तहत कार सेवकों का आंदोलन चला। विश्व हिंदू परिषद ने माहौल बनाया जिसके कारण 1992 में बाबरी मस्जिद गिरा दी गई।"

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

91,623फैंसलाइक करें
15,413फॉलोवर्सफॉलो करें
98,200सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: