Friday, July 1, 2022
Homeदेश-समाजभारत बंद के नाम पर अराजकता, प्रदर्शनकारियों ने सेना के वाहनों को रोका, एक...

भारत बंद के नाम पर अराजकता, प्रदर्शनकारियों ने सेना के वाहनों को रोका, एक ने बेंगलुरु में डीसीपी के पैर पर चढ़ा दी कार: देखें वीडियो

किसान प्रदर्शनकारियों को जवानों से यह कहते भी सुना जा सकता है कि अगर वे सेना से हैं तो उन्हें प्रदर्शनकारियों के साथ खड़ा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि वे वाहनों को जाने की अनुमति क्यों दें। वहीं बेंगलुरु में एक प्रदर्शनकारी ने अपनी कार को डीसीपी के पैरों पर चढ़ा दी।

केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने सोमवार (27 सितंबर) को भारत बंद बुलाया। इस दौरान जालंधर और बेंगलुरु में प्रदर्शनकारियों की दबंगई देखने को मिली। उन्होंने न केवल सेना के वाहनों को जाने से रोका, बल्कि डीसीपी के पैर पर कार चढ़ा दी। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

किसान प्रदर्शनकारियों को जवानों से यह कहते भी सुना जा सकता है कि अगर वे सेना से हैं तो उन्हें प्रदर्शनकारियों के साथ खड़ा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि वे वाहनों को जाने की अनुमति क्यों दें। वहीं बेंगलुरु में एक प्रदर्शनकारी ने अपनी कार को डीसीपी के पैरों पर चढ़ा दी। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने केंद्र सरकार पर कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए दबाव बनाने के लिए 10 घंटे के भारत बंद का आह्वान किया था। यह बंद सुबह छह बजे शुरू हुआ और शाम चार बजे तक चला। इस दौरान लोग कई घंटों तक जाम में फँसे रहे।

किसान प्रदर्शनकारी ट्रेनों के आवागमन को रोकने के लिए पटरियों पर बैठ गए। उन्होंने लोगों से जबरन दुकानें बंद करवाईं। इस बीच, कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गाँधी ने प्रदर्शनकारियों को अपना समर्थन दिया। साथ ही उनकी बहन प्रियंका गाँधी वाड्रा भी भारत बंद के समर्थन में सामने आईं। हालाँकि, यह बहुत अधिक प्रभाव डालने में विफल रहा है, क्योंकि लोगों ने देश को रोकने के आह्वान को नजरअंदाज करते हुए अपनी दैनिक दिनचर्या को जारी रखा है।

गौरतलब है भारत बंद के कुछ घंटों बाद किसान प्रदर्शनकारियों की भीड़ को सुरक्षा प्रोटोकॉल का उल्लंघन करते और तोड़फोड़ करते हुए देखा गया। समाचार एजेंसी एएनआई ने बताया कि किसान प्रदर्शनकारियों की भीड़ ने पुलिस द्वारा लगाए गए बैरिकेड्स को तोड़ दिया और नोएडा प्राधिकरण के कार्यालय सेक्टर-6 में पहुँच गई। घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। वीडियो में हरी टोपी पहने ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों की उन्मादी भीड़ को तिरंगा लहराते हुए पुलिस की ओर बढ़ते हुए दिखाया गया है। ये बड़ी संख्या में हैं, जो पुलिस पर हमला करते और बैरिकेड्स को तोड़ते हुए दिखाई दे रहे हैं। इस बीच, वहाँ तैनात पुलिसकर्मियों ने जब उन्हें रोकने की कोशिश की तो उन्होंने उन्हें बैरिकेड्स से दबाने का प्रयास किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,269FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe