Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजऔरंगाबाद के हनुमान मंदिर में फिर फेंका गया मांस, 4 महीने में ये तीसरी...

औरंगाबाद के हनुमान मंदिर में फिर फेंका गया मांस, 4 महीने में ये तीसरी घटना: भड़के ग्रामीणों ने की नारेबाजी, मौके पर पुलिस बल तैनात

हसपुरा ब्लॉक की अमझर शरीफ पंचायत के तहत आने वाले मंदिर में मांस फेंकने की 4 महीने के अंदर ये तीसरी घटना है। इससे पहले भी यहाँ मंदिर में मांस के टुकड़े फेंकने की वारदातें होती रही हैं।

बिहार के औरंगाबाद जिले में असामाजिक तत्वों के मंदिर में प्रतिबंधित मांस फेंकने से वहाँ सांप्रदायिक तनाव की खबर है। फिलहाल वहाँ माहौल शांत हैं, लेकिन मौके की नजाकत को देखते हुए जिला प्रशासन ने वहाँ पुलिस बल तैनात कर दिया है।

गुरुवार सुबह (2 नवंबर, 2023) जिले के हसपुरा ब्लॉक की अमझर शरीफ पंचायत के तहत आने वाले बिगहा टोले सुखाड़ी बिगहा के हनुमान मंदिर में मांस फेंका गया था। इसके बाद वहाँ गाँव वाले जुटने लगे। इसके बाद गुस्से से भरी ग्रामीणों की भीड़ ने वहाँ नारेबाजी शुरू कर दी।

सूचना मिलने पर आनन-फानन में प्रशासन का अमला वहाँ पहुँचा और लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराया। सूचना मिलते ही दाउदनगर एसडीएम मनोज कुमार, एसडीपीओ कुमार ऋषिराज पुलिसकर्मियों सहित तुरंत मौके पर पहुँच गए थे।

गौरतलब है कि हसपुरा ब्लॉक की अमझर शरीफ पंचायत के तहत आने वाले मंदिर में मांस फेंकने की 4 महीने के अंदर ये तीसरी घटना है। इससे पहले भी यहाँ मंदिर में मांस के टुकड़े फेंकने की वारदातें होती रही हैं।

गाँव वालों ने अधिकारियों से डॉग स्कवायड की टीम बुलाने की माँग की थी। वहाँ पहुँचे प्रशासनिक अधिकारियों ने डॉग स्कवायड टीम बुलाने का दिलासा दिया। इसके बाद मंदिर से मांस को हटाया गया।

वहीं इलाके में सांप्रदायिक तनाव की सूचना मिलते ही जिले के डीएम श्रीकांत शास्त्री, एसपी गौतम मेश्राम काफी संख्या में पुलिसबल लेकर घटना स्थल पर पहुँचे। वहाँ मंदिर के निरीक्षण के बाद आला अधिकारियों ने गाँव वालों उपप्रमुख सत्येंद्र चौधरी, मुखिया प्रतिनिधि ओमप्रकाश चौधरी, राकेश कुमार, मुखिया चुन्नु शर्मा, उपमुखिया विकास कुमार से घटना को लेकर बात की।

ग्रामीणों को संयम बरतने की सलाह देने के साथ ही अधिकारियों ने उनको आश्वासन दिया कि आरोपितों को पकड़ने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जाएगी। तब कहीं जाकर ग्रामीण शांत हुए। वहीं एसपी ने कहा कि इस तरह की घटनाएँ बार-बार होना गंभीर हैं।

इस घटना पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने की बात कही है। पुलिस मामले की जाँच में जुट गई है और नजदीकी सीसीटीवी खंगाल रही है। गाँव वालों ने डीएम और एसपी को बताया कि चार महीने में ये तीसरी घटना है जब मंदिर में मांस फेंका गया है।

गौरतलब है कि इस इलाके में एक जुलाई 2023 की रात हसपुरा के दो, अमझरशरीफ में एक मंदिर, एक दुकान के शटर तथा 20 जुलाई की रात बाला बिगहा के मंदिर में मांस फेंकने की तीन वारदातों में पुलिस ने अमझरशरीफ के तीन लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

अब सरकार की हो गई माफिया अतीक अहमद की ₹50 करोड़ की प्रॉपर्टी, किसानों-गरीबों को धमका कर किया था अवैध कब्ज़ा

उत्तर प्रदेश में ऑपरेशन माफिया के तहत चल रही कार्रवाई में कमिश्नरेट पुलिस प्रयागराज और राज्य सरकार ने बड़ी सफलता हासिल की है। माफिया अतीक अहमद की करीब 50 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति अब राज्य सरकार की हो गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -