Tuesday, February 27, 2024
Homeदेश-समाज'पैंट पहनो तो सुपरिटेंडेंट गाली देती है': बिहार के गर्ल्स हॉस्टल में बुर्का पहनने...

‘पैंट पहनो तो सुपरिटेंडेंट गाली देती है’: बिहार के गर्ल्स हॉस्टल में बुर्का पहनने का फरमान, छात्राएँ बोली- शरिया लॉ बर्दाश्त नहीं

दरक्शा अनवर नाम की एक छात्रा ने बताया कि जब भी लड़कियाँ पैंट पहनती हैं तो सुपरिटेंडेंट छात्राओं को गाली देती हैं। इसके साथ ही छात्रा ने आरोप लगाया कि वह उनके माता-पिता को भी गलत जानकारी देती हैं कि वह लड़कों से बात करती हैं।

बिहार के भागलपुर जिले के सरकारी अल्पसंख्यक गर्ल्स हॉस्टल में शनिवार (सितंबर 11, 2021) को जमकर हंगामा देखने को मिला। यहाँ रहने वाली मुस्लिम समुदाय की छात्राओं ने शनिवार दोपहर को हॉस्टल सुपरिटेंडेंट नाहिदा नसरीन के कैंपस के अंदर बुर्का पहनने के फरमान को लेकर नाराजगी जताई।

ये लड़कियाँ इतनी गुस्से में थीं कि उन्होंने हॉस्टल के गेट पर पथराव किया और आरोप लगाया कि सुपरिटेंडेंट नाहिदा नसरीन उन पर तालिबानी शरिया कानून थोप रही हैं। उन्होंने कहा कि जिस तरह से कैंपस में उनकी व्यक्तिगत आजादी पर सवाल उठाया जा रहा है उससे वे तंग आ चुकी हैं और उन्हें बुर्का पहनने के लिए कट्टर सुपरिटेंडेंट द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है।

पहले भी उन्होंने नीतीश कुमार सरकार के बिहार कल्याण विभाग को ई-मेल कर इस समस्या के बारे में बताया था। वे सड़क पर उतर अपनी नाराजगी जताना चाहती थीं, लेकिन नाहिदा नसरीन ने हॉस्टल का गेट नहीं खोला। बता दें कि यह हॉस्टल भागलपुर के बीचों बीच बीएन कॉलेज के पास स्थित है।

ऐसा लगता है कि लड़कियों और नाहिदा नसरीन के बीच यह तकरार लंबे समय से चल रहा था क्योंकि दरक्शा अनवर नाम की एक छात्रा ने बताया कि जब भी लड़कियाँ पैंट पहनती हैं तो सुपरिटेंडेंट छात्राओं को गाली देती हैं। इसके साथ ही छात्रा ने आरोप लगाया कि वह उनके माता-पिता को भी गलत जानकारी देती हैं कि वह लड़कों से बात करती हैं।

लड़कियों ने बताया कि बिहार के गर्म और उमस भरे मौसम में बुर्का पहनना काफी मुश्किल होता है, इसलिए वे कैंपस में ट्राउजर और टी-शर्ट पहनती हैं। एक रिसर्च स्कॉलर नेदा फातिमा ने बताया कि जब भी नाहिदा नसरीन किसी भी छात्रा को पैंट में देखती है या स्कूटी रखने वाली अपनी छात्राओं से बात करते हुए देखती है तो डाँटती-फटकारती है। 

घटना की सूचना मिलने पर नाथ नगर की सर्किल ऑफिसर स्मिता झा पुलिस टीम के साथ गर्ल्स हॉस्टल पहुँचीं और गेट खुलवाया। हाथ में तख्तियाँ लिए लड़कियाँ तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन में पहुँचीं। उन्होंने विश्वविद्यालय की कुलपति नीलिमा गुप्ता से मिलने का आग्रह किया, क्योंकि वे चाहते थे कि नाहिदा नसरीन को सुपरिटेंडेंट के पद से तत्काल हटाया जाए। हालाँकि बाद में डीएसडब्ल्यू रामप्रवेश सिंह और प्रॉक्टर रतन मंडल द्वारा इस मामले में जाँच का आश्वासन दिए जाने के बाद वे मान गए। लड़कियों को डर था कि उनके खिलाफ आवाज उठाने पर नाहिदा नसरीन उन्हें हॉस्टल से निकाल देंगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लंदन में पढ़ाई, करोड़ों की नौकरी… सब छोड़ अबू धाबी के हिंदू मंदिर में सेवा कर रहे विशाल पटेल, रेगिस्तान में ढोए कंक्रीट: PM...

स्वामीनारायण मंदिर में सेवा करने का रास्ता चुनने वाले व्यक्ति का नाम विशाल पटेल है। 43 वर्षीय विशाल पटेल का जन्म एक गुजराती परिवार में लंदन में हुआ था। वह 2016 में लंदन से UAE आकर बस गए थे। वह पहले लंदन में बैंकिंग क्षेत्र में काफी अच्छी नौकरी करते थे।

आलम,अशरफ, इरफान, फुरकान… रामनवमी हिंसा में NIA ने 16 को पकड़ा, फुटेज से हुई पहचान: बंगाल में छतों से शोभा यात्रा पर बरसाए थे...

पश्चिम बंगाल में राम नवमी हिंसा मामले की जाँच के दौरान राष्ट्रीय जाँच एजेंसी ने 16 लोगों को गिरफ्तार किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe