Tuesday, November 30, 2021
Homeदेश-समाजबिहार चुनाव: पूर्णिया में मतदाताओं की भीड़ ने किया सुरक्षा बलों पर हमला, 5...

बिहार चुनाव: पूर्णिया में मतदाताओं की भीड़ ने किया सुरक्षा बलों पर हमला, 5 राउंड फायरिंग, 2 लोग गिरफ्तार

सुरक्षा बलों के जवानों और मतदाताओं के बीच विवाद इतना बढ़ गया कि सुरक्षाबलों पर भीड़ ने हमला बोल दिया। स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए पुलिस द्वारा 5 राउंड फायरिंग की गई। 2 मतदाताओं को गिरफ्तार किए जाने की खबर भी सामने आई है।

शनिवार (नवंबर 7, 2020) को बिहार में तीसरे और अंतिम चरण का चुनाव चल रहा है। इस दौरान पूर्णिया में फायरिंग की बातें कही जा रही है। दो मतदाताओं की गिरफ़्तारी की खबर भी है। बताया गया है कि मतदान केंद्र पर अचानक से मतदाताओं ने हमला बोल दिया, जिसके बाद CISF के जवानों ने पाँच राउंड हवाई फायरिंग की। हालाँकि, चुनाव आयोग ने अभी तक बिहार के पूर्णिया में मतदान के दौरान मतदाताओं और जवानों की झड़प में फायरिंग होने की पुष्टि नहीं की है।

‘प्रभात खबर’ की रिपोर्ट के अनुसार, पूर्णिया जिला के मरंगा थाना अंतर्गत सतकोदरिया पंचायत के अलीनगर बूथ संख्या 282 पर मतदाताओं की एक बड़ी भीड़ जमा हो गई। उन्होंने बताया कि वो अपना मताधिकार का प्रयोग करने आए हैं। चूँकि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण इस बार के चुनावों में विशेष सतर्कता बरती जा रही है और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन कराया जा रहा है, इसीलिए सुरक्षा बलों ने मतदाताओं को लाइन में लगने को कहा।

अचानक से मतदाताओं ने कतार छोड़नी शुरू कर दी और लाइन को तोड़ दिया। इसके बाद जवान उन्हें समझाने लगे, लेकिन मतदाताओं ने उनकी बात नहीं बनी। इसी बात को लेकर सुरक्षा बलों के जवानों और मतदाताओं के बीच विवाद इतना बढ़ गया कि मतदान केंद्र पर भीड़ ने हमला बोल दिया। बताया जा रहा है कि स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए पुलिस द्वारा 5 राउंड फायरिंग की गई। 2 मतदाताओं को गिरफ्तार किए जाने की खबर भी सामने आई है।

पूर्णिया के एसपी विशाल शर्मा ने इस घटना की पुष्टि की है। साथ ही, लाठीचार्ज की बात भी मीडिया द्वारा कही जा रही है। मतदाताओं का आरोप है कि सुरक्षाकर्मियों ने ही उनकी पिटाई की, जिसके बाद विवाद शुरू हुआ। मतदान केंद्र पर वरिष्ठ अधिकारी पहुँचे हैं और BSF के जवानों को लगाया गया है। वहीं, बिहार चुनाव के दौरान मतदाताओं ने पूर्णिया के अधिकारियों के सामने सुरक्षा बलों के जवानों पर उनसे अभद्र व्यवहार करने का आरोप लगाया और कहा कि उन्होंने हमला नहीं किया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,547FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe