Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजएक पुरुष उत्सुक नयनों से देख रहा था प्रलय प्रवाह: पटना जलमग्न, 24 घंटे...

एक पुरुष उत्सुक नयनों से देख रहा था प्रलय प्रवाह: पटना जलमग्न, 24 घंटे में 25 मौतें

मुख्यमंत्री नीतीश ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अधिकारियों के साथ बैठक करने के बाद कहा कि गंगा का जल-स्तर बढ़ रहा है और इसे रोकना किसी के भी हाथ में नहीं है, यह प्राकृतिक है। उन्होंने कहा कि लोगों को पीने का साफ़ पानी मुहैया कराने के लिए व्यवस्थाएँ की जा रही हैं।

बिहार की राजधानी पटना जलमग्न है। दुकानों से लेकर लोगों के घरों तक, पूरा शहर जैसे एक जलाशय में तब्दील हो गया है। राजेंद्र नगर इलाक़ा सबसे ज्यादा प्रभावित है। यहाँ तो सभी मकानों के ग्राउंड फ्लोर जलमग्न हो गए हैं। बिना बिजली के लोग घरों में कैद हैं। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की आपदा प्रबंधन टीमें 16 नावों के साथ लोगों को पीने का पानी और भोजन उपलब्ध कराने में लगी हुई है। लेकिन, स्थिति इतनी विकराल है कि यह ऊँट के मुँह में जीरा ही साबित हो रहा है। जब राजधानी की यह स्थिति है तो बाकी इलाक़ों के बारे में आप कल्पना कर लीजिए।

कंकड़बाग, गर्दनीबाग, डाकबंगला और एसके पुरी जैसे इलाक़े बाढ़ से काफ़ी प्रभावित हुए हैं। इसे लेकर सोशल मीडिया में लोगों का गुस्सा बरपा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का एक फोटो भी वायरल हुआ, जिसमें वह छत पर खड़े होकर हाथ में छाता लिए बारिश का मुआयना कर रहे हैं। लोगों ने इस फोटो को लेकर उन पर सवाल दागे। कई लोगों ने कहा कि आखिरकार बिहार सरकार ‘नल-जल योजना’ को घर-घर तक पहुँचाने में कामयाब रही, क्योंकि अब घर से निकलते ही लोगों को जल ही जल दिख रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अभी तक बाढ़ से पिछले 24 घंटे में 25 लोगों के मरने की ख़बर है। भागलपुर और गया सहित कई जिलों में लोगों की जान बाढ़ के कारण गई है। पटरियाँ जलमग्न होने के कारण रेल सेवाएँ प्रभावित हुई हैं और कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। सवाल यह भी है कि लोगों का इलाज हो भी तो कहाँ, क्योंकि अस्पतालों में भी पानी भर चुका है। शहर के सबसे बड़े नालंदा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में मरीजों की स्थिति ख़राब हो चली है, क्योंकि पानी अस्पताल के भीतर तक घुस गया है।

मौसम विभाग का कहना है कि सोमवार (सितम्बर 30, 2019) तक राज्य में भारी बारिश जारी रहेगी। पटना जिले के सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया है। वहीं प्रशासन से नाराज़ लोगों ने सीएम नीतीश कुमार पर निशाना साधने के लिए जयशंकर प्रसाद की कविता ‘कामायनी’ की पंक्तियों को कुछ इस तरह से नया रूप दिया:

पाटलिपुत्र के उत्तुंग शिखर पर,
बैठ शिला की शीतल छाँह
एक पुरुष, उत्सुक नयनों से
देख रहा था प्रलय प्रवाह

(नोट- असली कविता में ‘पाटलिपुत्र’ की जगह ‘हिमगिरि’ है और ‘उत्सुक’ की जगह ‘भीगे’ है)

ये था सोशल मीडिया का रिएक्शन। अगर राज्य सरकार की बात करें तो वरिष्ठ अधिकारियों का यही कहना है कि सभी जिलों के प्रशासन को ‘किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने’ का निर्देश दे दिया गया है। बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी के घर में भी पानी घुस चुका है। नीचे आप एक रिक्शे वाले का वीडियो देख सकते हैं, जो बाढ़ के कारण अपने जीवन-यापन का एकमात्र साधन यानी अपने रिक्शे को खींचने में असमर्थ होने के कारण रोने लगता है:

मुख्यमंत्री नीतीश ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अधिकारियों के साथ बैठक करने के बाद कहा कि गंगा का जल-स्तर बढ़ रहा है और इसे रोकना किसी के भी हाथ में नहीं है, यह प्राकृतिक है। उन्होंने कहा कि लोगों को पीने का साफ़ पानी मुहैया कराने के लिए व्यवस्थाएँ की जा रही हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe