Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजजिस दरगाह को CM ममता ने दिए ₹2.60 करोड़, उस मौलाना के कार्यकर्ता के...

जिस दरगाह को CM ममता ने दिए ₹2.60 करोड़, उस मौलाना के कार्यकर्ता के घर से मिले बम-बंदूक: ISF का जियारुल फरार

जिस ISF कार्यकर्ता के यहाँ से बम बरामद हुए, उसका नाम जियारुल मोल्लाह है। वो पहले से ही भगोड़ा है। उसके अब्बा जलील मोल्लाह को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

पश्चिम बंगाल के विवादित मौलाना अब्बास सिद्दीकी की पार्टी ‘इंडियन सेक्युलर फ्रंट (ISF)’ के एक कार्यकर्ता के यहाँ से बम मिले हैं। पश्चिम बंगाल में अप्रैल में विधानसभा चुनाव होने हैं।

जिस ISF कार्यकर्ता के यहाँ से बम बरामद हुए, उसका नाम जियारुल मोल्लाह है। वो पहले से ही भगोड़ा है। उसके अब्बा जलील मोल्लाह को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

ये घटना साउथ 24 परगना जिले की है। बारिऊपुर के DSP (क्राइम) तमल सरकार ने बताया कि रात को गुप्त सूत्रों से सूचना मिलने के बाद ISF कार्यकर्ता के घर में तलाशी ली गई। उसके घर से एक शॉटगन, कुछ बम और बम बनाने की मशीन भी मिली।

आरोपित की तलाश में दबिश दी जा रही है। बताते चलें कि आदर्श अचार संहित लागू होने से कुछ ही घंटों पहले ममता बनर्जी की नेतृत्व वाली तृणमूल कॉन्ग्रेस सरकार ने फुरफुरा शरीफ के विकास के लिए 2.60 करोड़ रुपए आवंटित किए।

ये वही दरगाह है, जिसके मुख्य मौलाना अब्बास सिद्दीकी हैं। अब्बास सिद्दीकी वैसे तो मौलाना हैं, लेकिन वो भारतीयों के वायरस से मरने की दुआ माँग चुके हैं। इतना ही नहीं, वो दलितों को हिन्दुओं से अलग भी बताते हैं।

ISF वैसे तो ममता बनर्जी की TMC के खिलाफ कॉन्ग्रेस-लेफ्ट के गठबंधन के साथ है लेकिन कॉन्ग्रेस का कहना है कि लेफ्ट ने उसे अपने हिस्से की सीटें दी हैं। अब्बास सिद्दीकी भी लेफ्ट उम्मीदवारों को समर्थन की बात कर चुका है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,200FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe