Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाज'जब नमाज पढ़ी जा सकती है तो मंत्र क्यों नहीं': जिस ट्रेन में तीन...

‘जब नमाज पढ़ी जा सकती है तो मंत्र क्यों नहीं’: जिस ट्रेन में तीन बार पढ़ी गई नमाज, उसमें मंत्रोच्चार करने पर पूर्व सैनिक की पिटाई

पूर्व सैनिक के अनुसार जब वे मंत्रोच्चार करने लगे तो नमाजियों ने उन्हें हटने को कहा। इसी दौरान पैंट्री कार वाले आए और उनके साथ विवाद करने लगे। जब उन्होंने पूछा कि जब नमाज पढ़ी जा सकती है तो मंत्रोच्चार क्यों नहीं हो सकता तो उनके साथ मारपीट करने लगे।

दिल्ली से विशाखापट्ट्नम जा रही स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस में एक रिटायर्ड सैनिक की पिटाई का मामला सामने आया है। घायल पूर्व सैनिक को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ट्रेन के पैंट्री कार मैनेजर और उसके साथियों पर मारपीट का आरोप है। इस संबंध में मध्य प्रदेश के GRP थाना में मामला दर्ज किया गया है। घटना रविवार (20 नवम्बर 2022) की है।

रिपोर्टों के अनुसार ट्रेन में मंत्रोच्चार करने पर पूर्व सैनिक विलास नाईक की पिटाई की गई। वे ट्रेन में रास्ता घेरकर नमाज पढ़ने के विरोध में मंत्रोच्चार कर रहे थे। उन्होंने दैनिक भास्कर को बताया, “रविवार को कुछ लोग सामूहिक रूप से नमाज पढ़ने के लिए ट्रेन के गलियारे में बैठ गए। तीन बार ऐसा किया गया। मैंने बाथरूम जाने के लिए रास्ता माँगा तो मुझे लौटा दिया।”

पूर्व सैनिक के अनुसार जब वे मंत्रोच्चार करने लगे तो नमाजियों ने उन्हें हटने को कहा। इसी दौरान पैंट्री कार वाले आए और उनके साथ विवाद करने लगे। जब उन्होंने पूछा कि जब नमाज पढ़ी जा सकती है तो मंत्रोच्चार क्यों नहीं हो सकता तो उनके साथ मारपीट करने लगे।

रिपोर्ट के मुताबिक घटना के दिन नाईक दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से विशाखापट्ट्नम की यात्रा पर थे। ट्रेन नंबर 12804 के स्लीपर क्लास S- 4 के जिस डिब्बे में वे सवार थे, उसमें कुछ मुस्लिम भी यात्रा कर रहे थे। नाईक का आरोप है कि इसी दौरान ट्रेन के डिब्बे में नमाज़ पढ़ी गई। उनके विरोध का नमाज़ियों पर कोई फर्क नहीं पड़ा। विरोध में उन्होंने मंत्रोच्चार शुरू किया तो पैंट्री कार के स्टाफ आ गए। आधे घंटे तक विवाद के बाद मामला हाथापाई तक पहुँच गया। पैंट्री मैनेजर हरवेश श्रीवास्तव ने अपने साथियों को बुला कर नाईक की पिटाई कर दी।

घटना पर सफाई देते हुए पैंट्री मैनेजर ने बताया है कि नाईक ने खुद ही खुद को चोट पहुँचाई। वहीं ट्रेन में यात्रा कर रहे मुजाकिर अहमद ने नमाज़ पढ़ने की बात कबूली है। उसने बताया कि जब नमाज़ पढ़ी जा रही थी तो नाईक टॉयलेट जाने की जिद कर रहे थे। इन सभी को बैतूल स्टेशन की चौकी जीआरपी पर उतार लिया गया। चौकी इंचार्ज एन एस ठाकुर के मुताबिक पैंट्री कार के मैनेजर व उनके साथियों के खिलाफ IPC  की धारा 294, 322, 34 के तहत FIR दर्ज कर जाँच की जा रही है।

रेलवे द्वारा घटना को लेकर दी गई जानकारी

रेल सुरक्षा बल नागपुर डिवीजन के वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त ने एक प्रेस रिलीज जारी कर घटना की पुष्टि की है। बताया है कि इसके कारण बैतूल रेलवे स्टेशन पर ट्रेन करीब 18 मिनट तक रुकी रही। नाइक की शिकायत पर पैंट्री कार मैनेजर और उसके दो वेंडर पर मामला दर्ज किया गया है। मामले की जाँच की जा रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -