Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजCOVID-19: दिल्ली के लोकनायक अस्पताल से फरार हो गए 6 कोरोनावायरस के संदिग्ध, पुलिस-प्रशासन...

COVID-19: दिल्ली के लोकनायक अस्पताल से फरार हो गए 6 कोरोनावायरस के संदिग्ध, पुलिस-प्रशासन तलाश में जुटी

इस तरह की समाज विरोधी हरकतों के खिलाफ चेतावनी देते हुए इससे कुछ देर पहले ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ऐलान किया था कि कोरोना से संक्रमित या ऐसे संदिग्ध लोगों के यूँ भाग जाने पर उनके खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा।

देश में बढ़ते कोरोना मामलों के बीच कोरोना की दहशत और मूर्खता की नजीरें ही पेश करते हैं वो लोग जो इस वायरस से पीड़ित होने या संदिग्ध होने के बावजूद भी इलाज न करवा कर अस्पतालों से, एयरपोर्ट्स से भाग खड़े होते हैं, और इस तरह न सिर्फ खुद को बल्कि सैंकड़ों मासूमों को भी इस घातक संक्रमण के सापेक्ष खतरे में डाल देते हैं। ऐसा ही वाकया दिल्ली में गुरुवार को सामने आया जब लोक नायक जय प्रकाश अस्पताल से कोरोना के 6 संदिग्‍ध मरीज भाग गए। खबरों के अनुसार कोरोना के लक्षण मिलने के बाद इन सभी को अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था। जहाँ से ये सभी गायब हो गए हैं और अब पुलिस इन सभी की तलाश में लगी है।

इस तरह की समाज विरोधी हरकतों के खिलाफ चेतावनी देते हुए इससे कुछ देर पहले ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ऐलान किया था कि कोरोना से संक्रमित या ऐसे संदिग्ध लोगों के यूँ भाग जाने पर उनके खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा। अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दिल्ली के सभी रेस्‍त्रां को 31 मार्च तक बंद करने की घोषणा की भी थी। इसके साथ ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने लोगों से कोरोना वायरस को लेकर एहतियात रखने, सतर्कता बरतने की भी अपील की थी।

अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान केजरीवाल ने अपने पुराने निर्णय जिसमें एक जगह पर 50 से ज्यादा लोगों के जुटने पर प्रतिबंध था, को और सख्त करते हुए इस सीमा की समीक्षा करते हुए इसे 20 कर दिया है। उन्होंने इसका कारण कोरोना से बढ़ता हुआ खतरा बताया। अब से दिल्ली में 20 से ज्यादा लोग एक जगह पर जमा नहीं हो सकेंगे। साथ ही केजरीवाल ने अपने निर्णय को स्पष्ट करते हुए कहा कि यह प्रतिबंध सभी प्रकार के राजनीतिक और गैर राजनीतिक आयोजनों पर लागू होगा।

कोरोना से बचाव के लिए दिल्ली सरकार के प्रयासों को प्रेस से साझा करते हुए केजरीवाल ने कहा कि हम विदेशों से दिल्ली पहुँच रहे लोगों को चिन्हित कर रहे हैं और उनके हाथों पर स्टैंप लगा रहे हैं, साथ ही उन्हें कुछ दिनों के लिए घरों में ही रहने को भी बोला जा रहा है। उन्होंने बताया कि अगर विदेश से आए लोग अपने घरों से बाहर निकलते हैं तो उनके खिलाफ सरकार सख्त कदम उठाएगी और उन पर मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा।

दिल्ली में कोरोना की स्थिति पर सीएम ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेन्स में बताया कि दिल्ली में अब तक कोरोना के 10 मामले पॉजिटिव मिले हैं। जिनमें से 1 की मौत हुई, वहीं तीन लोग इस बीमारी से बाहर निकल चुके हैं, जबकि 6 मरीजों की हालत पूरी तरह ठीक है। कोरोना संक्रमण को रोकने की दिशा में उठाए गए कदमों पर उन्होंने कहा कि हम सभी बस अड्डों, मेट्रो स्टेशन आदि को लगातार सैनिटाइज कर रहे हैं।

याद रहे कि इससे पहले दिल्ली सरकार ने 31 मार्च तक सारे स्कूल, कॉलेजों और दिल्ली यूनिवर्सिटी को छात्रों और कर्मचारियों के लिए बंद करने का निर्देश देने के साथ-साथ जितना संभव हो सके घर से काम करने की अपील की थी।


  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,042FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe