Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजताहिर के घर से आया था चारा, खाते ही गायों के मुँह से निकलने...

ताहिर के घर से आया था चारा, खाते ही गायों के मुँह से निकलने लगा झाग: 61+ की मौत, BDO मोहम्मद अनस सस्पेंड

ताहिर के यहाँ से खरीदे गए चारे को खाने के बाद गायों के मुँह से झाग आने लगा था। थोड़ी ही देर बाद गायों ने तड़प कर दम तोड़ना शुरू कर दिया।

उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले में जहरीला चारा खाने से शुक्रवार (5 अगस्त 2022) की सुबह तक हुई 61 से अधिक गायों की मौत के मामले में फरार मुख्य आरोपित ताहिर पर प्रशासन ने 25 हजार रुपए का इनाम घोषित किया है। इसके अलावा ताहिर से चारा खरीदने की संस्तुति करने वाले ब्लॉक डेवलपमेंट अधिकारी मोहम्मद अनस को सस्पेंड कर दिया गया है। अब तक कुल 8 आरोपितों को हिरासत में लिया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले की उच्चस्तरीय जाँच के आदेश दिए है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ताहिर के यहाँ से खरीदे गए चारे को खाने के बाद गायों के मुँह से झाग आने लगा था। थोड़ी ही देर बाद गायों ने तड़प कर दम तोड़ना शुरू कर दिया। बाकी गायों को बचाने के लिए जरूरी साधन मौजूद न होने के चलते मौतों का आँकड़ा बढ़ गया। घटनास्थल का प्रशासन और पुलिस के तमाम बड़े अधिकारियों साथ पशुपालन मंत्री धर्मपाल सिंह ने भी दौरा किया। इस दौरान मंत्री ने दोषियों को किसी भी हाल में न बख्शने की बात कही। BDO मोहम्मद अनस को तत्काल सस्पेंड कर दिया गया।

अब तक हुई जाँच के मुताबिक, ताहिर ने गुरुवार को पहली बार गायों को चारा दिया था। उस से पहले कोई और चारा दिया करता था। पहले विक्रेता को बदल कर ताहिर से चारा खरीदने वाले लोग भी जाँच के दायरे में हैं। इसी के साथ सवाल इस बात पर भी उठ रहे हैं कि गौशाला की काफी बड़ी जमीन होने के बाद भी चारा उगाने के बजाए किसी और से क्यों खरीदा गया? पुलिस ने चारे के सैंपल उठाए हैं जिस से उसमें मौजूद जहर के प्रकार की पुष्टि हो सके।

ताहिर पर 25 हजार का इनाम

पुलिस के मुताबिक, इस घटना के बाद फरार चल रहे नवाब अली के बेटे ताहिर पर SP अमरोहा ने 25 हजार रुपए का इनाम घोषित किया है। ताहिर मूल रूप से सहारनपुर जिले के रहने वाला है जो फिलहाल अमरोहा में रहता था। पुलिस ने इस घटना के आरोपितों पर IPC की धारा 153-A, 153-B, 295-A, 429, 120-B, 34 के साथ 3/8 गौवध अधिनियम व पशु क्रूरता अधिनियम तहत FIR दर्ज की है। पुलिस के मुताबिक गिरफ्तारी से बचने के लिए ताहिर लगातार फरार चल रहा है।

फ़िलहाल मृत गायों की संख्या के बारे में अलग-अलग लोगों द्वारा अलग-अलग दावे किए जा रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -