Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजसाइबर ठगों ने देश के भूतपूर्व सबसे बड़े जज को लूटा, जानिए क्या है...

साइबर ठगों ने देश के भूतपूर्व सबसे बड़े जज को लूटा, जानिए क्या है मामला

मेल में लिखा था कि रिटायर्ड जस्टिस सिंह के भतीजे को खून से सम्बंधित गंभीर बीमारी है और इलाज के लिए एक लाख रुपयों से अधिक की ज़रूरत है। राशि भेजने के लिए एक बैंक अकाउंट के विवरण भी भेजे गए, जिसे किसी सर्जन का बताया गया।

साइबर ठगों ने इस बार भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश को ही निशाना बनाया है। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश जस्टिस आरएम लोढ़ा से एक लाख रुपए की ठगी का मामला सामने आया है। जालसाजों ने उनकी ईमेल आईडी हैक करने के बाद उनसे एक लाख रुपए ठग लिए। इस मामले में दिल्ली के मालवीय नगर थाना पुलिस ने शिकायत दर्ज कर जाँच शुरू कर दी है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि मामले की शुरुआती जाँच के बाद आगे की कार्रवाई के लिए इसे साइबर सेल को सौंप दिया जाएगा। पूर्व सीजेआइ फिलहाल अपने परिवार के साथ एस-ब्लॉक, पंचशील पार्क में रहते हैं।

दरअसल, हुआ यूँ की रिटायर्ड जस्टिस लोढ़ा की आधिकारिक मेल आईडी पर 19 अप्रैल को दोपहर करीब 1:40 बजे सुप्रीम कोर्ट से सेवानिवृत्त उनके एक परिचित जस्टिस बीपी सिंह की आधिकारिक मेल आईडी से एक ई-मेल आया। इस मेल में लिखा था कि रिटायर्ड जस्टिस सिंह के भतीजे को खून से सम्बंधित गंभीर बीमारी है और इलाज के लिए एक लाख रुपयों से अधिक की ज़रूरत है। राशि भेजने के लिए एक बैंक अकाउंट के विवरण भी भेजे गए, जिसे किसी सर्जन का बताया गया।

इसके बाद स्थिति को गंभीर समझते हुए रिटायर्ड सीजेआइ लोढ़ा ने एक लाख रुपए तुरंत उस बैंक खाते पर भेज दिए। इसके बाद 30 मई को जब जस्टिस बीपी सिंह से उनकी बात हुई तो पता चला कि उन्होंने ऐसा कोई मेल भेजा ही नहीं था। इसके बाद उन्हें एहसास हुआ कि उनके साथ ठगी हुई है। दरअसल, बदमाशों ने जस्टिस बीपी सिंह की आईडी हैक कर ली थी और उससे पूर्व सीजेआइ को मेल भेजा गया, जिसपर विश्वास करते हुए उन्होंने बताई गई राशि जमा करा दी। पुलिस के अनुसार, जिस व्यक्ति के खाते में रुपए ट्रान्सफर किए गए थे, उसका नाम दिनेश माली है।

बता दें कि लगातार डिजिटल हो रहे भारत में साइबर ठगी से निपटने के लिए पर्याप्त निगरानी व्यवस्था न होने के कारण बड़े से बड़े पदों पर बैठे लोगों से लेकर आम जनों तक, सभी इसके चपेट में आ जाया करते हैं। थानों में अक्सर शिकायतें आती हैं कि लोगों से इंटरनेट द्वारा रुपए ठग लिए गए और पुलिस के पास इससे निपटने के लिए संसाधन और स्किल नहीं होते। एक व्यापक व्यवस्था के रूप में स्थानीय से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक, सामान्य आपराधिक घटनाओं वाले हर थाने में साइबर पुलिस की मौजूदगी अब भारत की ज़रूरत बन गई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe