Sunday, June 26, 2022
Homeदेश-समाजदरभंगा बम ब्लास्ट में 'हनीट्रैप' एंगल: पाकिस्तानी महिला फातिमा से लंबी बातचीत करता था...

दरभंगा बम ब्लास्ट में ‘हनीट्रैप’ एंगल: पाकिस्तानी महिला फातिमा से लंबी बातचीत करता था सलीम, कॉल रिकॉर्ड से खुलासा

NIA की टीम दोनों को अपने साथ ले गई है। आशंका जताई जा रही है कि पाकिस्तानी युवती ने हनीट्रैप के माध्यम से इन दोनों का ISI से संपर्क कराया।

ये तो पहले ही सामने आ चुका है कि बिहार के दरभंगा स्थित रेलवे जंक्शन पर हुए बम ब्लास्ट के पीछे पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी ISI का हाथ है और इसके लिए करोड़ों रुपए की फंडिंग भी की गई थी। अब इस पूरे प्रकरण में पाकिस्तान की एक महिला का नाम सामने आ रहा है, जिसकी आरोपित सलीम उर्फ़ टुइया से लंबी बातचीत होती थी। सलीम और कासिम ने पूछताछ में इस बात का खुलासा किया है।

साथ ही दोनों के मोबाइल फोन से भी उक्त पाकिस्तानी युवती के नंबर मिले हैं। NIA की टीम दोनों को अपने साथ ले गई है। आशंका जताई जा रही है कि पाकिस्तानी युवती ने हनीट्रैप के माध्यम से इन दोनों का ISI से संपर्क कराया। सलीम की उक्त पाकिस्तानी महिला से लंबी बातचीत होती थी। उक्त महिला का नाम फातिमा है, जिससे कासिम भी बात करता था। ‘अमर उजाला’ की खबर के अनुसार, दोनों के मोबाइल के कॉल रिकार्ड्स चेक करने पर पता चला कि बातचीत काफी लंबी होती थी।

इससे पहले भी पाकिस्तान की तरफ से कई हनीट्रैप के मामले सामने आ चुके हैं, जहाँ सेना के जवानों या फिर किसी संवेदनशील सूचना के लिए भारतीय नागरिकों को फँसाने की कोशिश की जाती है। हो सकता है कि इसी तरीके से सलीम और कासिम को भी उन्होंने अपने गैंग में शामिल किया हो। कैराना में कई ऐसे मुस्लिम हैं, जिनकी रिश्तेदारी पाकिस्तान में है। कैराना के ही इक़बाल उर्फ़ काना ने पाकिस्तान से नकली नोटों का कारोबार खड़ा किया था।

बिहार के दरभंगा में हुआ था बम ब्लास्ट

एजेंसियाँ इसकी भी जाँच कर रही है कि रिश्तेदारी की आड़ में कौन-कौन लोग इस तरह के धंधे चला रहे हैं। पूछताछ में कुछ सुराग हाथ लगे हैं, जिन्हें संभवतः गोपनीय ही रखा जा रहा है। उधर दरभंगा में शनिवार (जून 26, 2021) को फिर से हंगामा मच गया जब एक पार्सल में कुछ इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स पड़े हुए मिले। तुरंत बम डिस्पोज़ल यूनिट को लगाया गया। बाद में पता चला कि वो किसी दुकानदार का पार्सल था और ब्लूटूथ स्पीकर के गिरने से आवाज आई थी, जो उन आइटम्स में शामिल था।

NIA की 6 सदस्यीय टीम मामले की जाँच के लिए बिहार पहुँची है। कपड़े की गाँठ में ही रह जाने के कारण इस केमिकल बम का उतना बड़ा असर नहीं हुआ था। पार्सल बुक करने वाले नंबर से जिस नंबर की बात हो रही थी, वो भी दरभंगा रेलवे स्टेशन पर सक्रिय था। फ़िलहाल ये नंबर नेपाल से सटे इलाकों में सक्रिय आ रहा है। जल्द ही इस मामले में कई अन्य आतंकियों की गिरफ्तारी हो सकती है, जिससे सारे राज़ खुल सकेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कब तक रोएगी कॉन्ग्रेस: राजस्थान CM अशोक गहलोत 2020 वाले ‘पायलट दुख’ से परेशान, महाराष्ट्र में शिवसेना के लिए कॉन्ग्रेसी बैटिंग

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सचिन पायलट 2020 में सरकार गिराने की साजिश में शामिल थे। अपने ही उप-मुख्यमंत्री पर...

‘उसकी गिरफ्तारी से खुशी है क्योंकि उसने तमाम सीमाओं को तोड़ दिया था’ – आरबी श्रीकुमार पर ISRO के पूर्व वैज्ञानिक नम्बी नारायणन

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद गिरफ्तार किए गए रिटायर्ड IPS आरबी श्रीकुमार की गिरफ्तारी पर इसरो के पूर्व वैज्ञानिक ने संतोष जताया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,433FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe