Monday, October 25, 2021
Homeदेश-समाज'किसान यूनियन के नेता लाल किले पर मौजूद थे, जिनके चेहरे ढके थे': फरार...

‘किसान यूनियन के नेता लाल किले पर मौजूद थे, जिनके चेहरे ढके थे’: फरार दीप सिद्धू ने नए वीडियो में किए कई खुलासे

दीप सिद्धू ने कहा कि कॉन्ग्रेस ने उसका वीडियो अपलोड किया था जो नवंबर में वायरल हो गया था, लेकिन बाद में बरखा दत्त के साथ उनके साक्षात्कार के बाद उन पर हुए अटैक के कारण इसे हटा दिया गया। सिद्धू ने अप्रत्यक्ष रूप से यह कहते हुए खालिस्तानियों के प्रति अपने झुकाव को सही ठहराने की कोशिश की कि....

दिल्ली पुलिस ने गणतंत्र दिवस के दंगों के मुख्य अभियुक्तों के बारे में जानकारी देने वालों के लिए इनाम की घोषणा की है, जिसमें अभिनेता से कार्यकर्ता बना खालिस्तानी समर्थक दीप सिद्धू भी शामिल है। वहीं दूसरी तरफ, सिद्धू ने अपने फेसबुक पेज पर सनसनीखेज आरोप लगाते हुए एक और वीडियो जारी किया है। सिद्धू ने आरोप लगाया कि किसान यूनियन के नेता लाल किले में मौजूद थे, जो उन नेताओं के द्वारा किए गए दावों के विपरीत है।

उसने कहा कि उसके पास उन नेताओं के वीडियो सबूत हैं जो लाल किले में मौजूद थे और उनके चेहरे ढके हुए थे। सिद्धू ने आगे आरोप लगाया कि उन नेताओं ने स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश नहीं की, जिसके बाद उसे कदम उठाना पड़ा। उसने दावा किया कि अगर वह उत्तेजित प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित नहीं करता, तो चीजें हाथ से निकल जातीं, लेकिन अब हर कोई उन्हें बलि का बकरा बना रहा है और कह रहा है कि उन्होंने लोगों को लाल किले की ओर बढ़ने के लिए उकसाया।

दो फरवरी को उसके द्वारा जारी किए गए पहले दो वीडियो में, दीप सिद्धू ने अंग्रेजी में बात की। उसने कहा कि वह सितंबर में विरोध प्रदर्शन में शामिल हुआ था और उस समय कॉन्ग्रेस, AAP और BJP सहित सभी राजनीतिक दलों ने उससे संपर्क किया था, लेकिन उसने किसी भी संबद्धता से इनकार किया।

दीप सिद्धू ने कहा कि कॉन्ग्रेस ने उसका वीडियो अपलोड किया था जो नवंबर में वायरल हो गया था, लेकिन बाद में बरखा दत्त के साथ उनके साक्षात्कार के बाद उन पर हुए अटैक के कारण इसे हटा दिया गया। सिद्धू ने अप्रत्यक्ष रूप से यह कहते हुए खालिस्तानियों के प्रति अपने झुकाव को सही ठहराने की कोशिश की कि एक लोकतांत्रिक देश में लोगों को दोनों पक्षों को सुनना चाहिए।

‘मुझे बलि का बकरा बनाया गया, और अब मैं पुलिस से भाग रहा हूँ’

दीप सिद्धू ने कहा कि हालाँकि उसने लाल किले की स्थिति को नियंत्रित कर लिया था और घटना के समय वह एकमात्र ज्ञात चेहरा था, लेकिन उसे यूनियन नेताओं, विपक्षी दलों और सरकार सहित सभी ने बलि का बकरा बना दिया। उसने आगे आरोप लगाया कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि उन्होंने लाल किले की ओर मार्च के लिए किसी को उकसाया।

सिद्धू ने दावा किया कि उसके पास यह दिखाने के लिए सबूत है कि वह सुबह 9 बजे मार्च में शामिल हुआ था, इससे पहले नहीं, जैसा कि सभी लोग बोल रहे हैं। जब उसने शुरू किया, तब तक लोग लाल किले तक पहुँच चुके थे। सिद्धू ने कहा कि वकील होने और सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस करने के बावजूद मुकुल रोहतगी और हरीश साल्वे जैसे प्रसिद्ध वकीलों के साथ उन्हें अपने खिलाफ दर्ज मामलों के कारण पुलिस से भागना पड़ा है।

दूसरे वीडियो में, सिद्धू ने दावा किया कि यूनियन के नेता अपने ‘आईटी सेल’ का इस्तेमाल कर रहे हैं ताकि उनकी गलत छवि को दिखाया जा सके। उसने कहा कि जब भी वह अपने पक्ष की बात रखना चाहता है तो आईटी सेल सक्रिय हो जाता है और उनकी बातों को दबा दिया जाता है। उसने कहा कि वह हरियाणा में विरोध स्थल के करीब रह रहा है और कभी भी वहाँ पहुँच सकता है। उसने किसान नेताओं को चुनौती दी कि वे उनके साथ इस बारे में चर्चा करें कि वे किस तरह से आंदोलन को गलत तरीके से पेश कर रहे हैं।

वीडियो का एक हिस्सा है, जहाँ उसने अपनी पूँछ पर आग के साथ भगवान हनुमान के साथ अपनी तुलना करने की कोशिश की, लेकिन वीडियो का वह हिस्सा एडिट किया गया था, और इसमें केवल जलती हुई पूँछ और ‘हनु’ नाम का संदर्भ शामिल है जिसके बाद वीडियो ट्रिम कर दिया गया था।

‘कोई हिंसा नहीं हुई’

दीप सिद्धू ने गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा पर लीपापोती करने की कोशिश की। उसने दावा किया कि जब वह लाल किले की ओर बढ़ रहा था, तब सड़क पर कोई हिंसा नहीं हुई थी। उसने आरोप लगाया कि हिंसा के नाम पर मीडिया जो कुछ भी दिखा रहा है वह केवल छोटी-मोटी घटनाएँ हैं। उसने पुलिस कर्मियों पर किसी भी हमले को पूरी तरह से इनकार किया, जिसमें सैकड़ों पुलिसकर्मी घायल हो गए। जिन पर दंगाइयों ने तलवारों, डंडों और ट्रैक्टरों से हमला किया था।

‘मैं आपसे निराश हूँ, रवीश कुमार’

NDTV का, विशेष रूप से पत्रकार रवीश कुमार का नाम लेते हुए, सिद्धू ने कहा कि उसने सोचा था कि रवीश एक समझदार पत्रकार हैं, लेकिन जिस तरह से उन्होंने उसे अपने शो में पेश किया, वह निराशाजनक था। उन्होंने सिर्फ इसलिए कहा क्योंकि रवीश अपने प्राइम टाइम शो में उनके नाम का इस्तेमाल करना चाहते थे, उन्होंने सिद्धू से बात करने और कहानी का अपना पक्ष जानने की कोशिश नहीं की। उन्होंने यह भी दावा किया कि उन्होंने बरखा दत्त के साथ साक्षात्कार के बाद मीडिया को साक्षात्कार देना बंद कर दिया, क्योंकि वहाँ उसे गलत तरीके से दिखाया गया था।

‘मैं साबित कर सकता हूँ कि किसने उकसाया’

3 फरवरी को जारी किए गए दूसरे वीडियो में सिद्धू ने दावा किया कि उसके पास इस बात का सबूत है कि प्रदर्शनकारियों को किसने उकसाया था। उसने कहा कि वह जल्द ही अपने सभी वीडियो पब्लिश करेगा, जिसमें 26 जनवरी को सुबह 4 बजे रिकॉर्ड किए गए वीडियो भी शामिल हैं। उसने दावा किया कि उसने केवल एक-दूसरे का समर्थन करने की बात की, और संगठन के नेता उकसाने लगे थे। उसने आगे कहा कि लोग चाहे वे दिल्ली से कितने भी दूर हों, गाँवों और शहरों से विरोध प्रदर्शन में शामिल हों।

’लाल किले पर निशान साहब में कुछ भी गलत नहीं है’

सिद्धू ने दावा किया कि लाल किला देश में सभी का है, और खाली पोल पर निशान साहब को फहराने में कोई बुराई नहीं है। हालाँकि, सिद्धू ने अपने वीडियो में यह उल्लेख नहीं किया कि खाली पोल हर 15 अगस्त को राष्ट्रीय ध्वज फहराने के लिए रिजर्व है। सिद्धू यह स्वीकार करने में भी असफल रहा कि धार्मिक ध्वज फहराने के लिए पोल के शीर्ष पर गए व्यक्ति द्वारा राष्ट्रीय ध्वज कैसे फेंका गया। वह आगे यह स्वीकार करने में असफल रहा कि सिख पवित्र चिन्ह वाले दो झंडे, एक त्रिकोणीय और दूसरा आयताकार झंडा लाल किले के गुंबद पर फहराया गया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केरल में नॉन-हलाल रेस्तराँ खोलने वाली महिला को बेरहमी से पीटा, दूसरी ब्रांच खोलने के खिलाफ इस्लामवादी दे रहे थे धमकी

ट्विटर यूजर के अनुसार, बदमाशों के खिलाफ आत्मरक्षा में रेस्तराँ कर्मचारियों द्वारा जवाबी कार्रवाई के बाद केरल पुलिस तुशारा की तलाश कर रही है।

असम: CM सरमा ने किनारे किया दीवाली पर पटाखों पर प्रतिबंध का आदेश, कहा – जनभावनाओं के हिसाब से होगा फैसला

असम में दीवाली के मौके पर पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध का ऐलान किया गया था। अब मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा है कि ये आदेश बदलेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
131,783FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe