Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजनिकाह के लिए चेंबर इस्तेमाल के बाद अब एक और वकील की जालसाजी, आर्थिक...

निकाह के लिए चेंबर इस्तेमाल के बाद अब एक और वकील की जालसाजी, आर्थिक मदद के लिए दाखिल की फर्जी Covid-19 रिपोर्ट

इससे पहले दिल्ली बार काउंसिल ने एक वकील इकबाल मलिक का लाइसेंस अस्थायी रूप से निलंबित करते हुए उसे कारण बताओ नोटिस भेजा था।

दिल्ली बार काउंसिल ने शुक्रवार (9 जुलाई 2021) को एक वकील का लाइसेंस अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया। वकील पर आरोप है कि उसने बार काउंसिल से वित्तीय सहायता प्राप्त करने के लिए फर्जी कोविड-19 जाँच रिपोर्ट जमा की थी। इस संबंध में आरोपित वकील को काउंसिल ने एक नोटिस जारी किया है। काउंसिल का कहना है कि यह मामला न केवल कदाचार, बल्कि जालसाजी और धोखाधड़ी से जुड़ा हुआ है। इसको लेकर वकील से 7 दिनों के भीतर जवाब माँगा गया है।

लाइव लॉ के मुताबिक, दिल्ली बार काउंसिल के प्रस्ताव में कहा गया है, “यह स्पष्ट है कि आपके द्वारा जमा की गई ​कोविड-19 रिपोर्ट फर्जी है। ऐसे में फर्जी रिपोर्ट के आधार पर वित्तीय मदद हासिल करने का प्रयास करना न केवल कदाचार है, बल्कि यह जालसाजी और धोखाधड़ी भी है।” काउंसिल ने कहा है कि वकील सोनू यादव की ओर से जमा की गई कोविड-19 जाँच रिपोर्ट वैरिफिकेशन के लिए लैब में भेजी गई थी। यहाँ पुष्टि की गई है कि सोनू के नाम पर ऐसी कोई रिपोर्ट जारी नहीं की गई थी।

दिल्ली बार काउंसिल के अध्यक्ष रमेश गुप्ता ने संस्था की गरिमा और विश्वसनीयता को बचाने के लिए इस मामले की तत्काल जाँच करने का आदेश दिया है। इसके लिए तीन सदस्यों वाली एक विशेष अनुशासनात्मक समिति का गठन भी किया गया है। रिपोर्ट्स के अनुसार, काउंसिल ने आरोपित को 19 जुलाई को अनुशासनात्मक समिति के समक्ष पेश होने को कहा है। ऐसा नहीं करने पर वकील के खिलाफ उपयुक्त कार्रवाई की जाएगी।

गौरतलब है कि इससे पहले दिल्ली बार काउंसिल ने एक वकील इकबाल मलिक का लाइसेंस अस्थायी रूप से निलंबित करते हुए उसे कारण बताओ नोटिस भेजा था। वकील पर आरोप था कि वह कड़कड़डूमा कोर्ट परिसर में आवंटित अपने चेंबर का इस्तेमाल धर्मांतरण और निकाह आदि कराने जैसी गतिविधियों के लिए कर रहा था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe